दैनिक भास्कर हिंदी: मोइन कुरैशी मामला: सतीश बाबू सना गिरफ्तार, 5 दिन के लिए ED की रिमांड पर

July 27th, 2019

हाईलाइट

  • ED ने हैदराबाद स्थित व्यवसायी सतीश बाबू सना को मांस निर्यातक मोइन कुरैशी के खिलाफ मनी लॉन्ड्रिंग मामले में गिरफ्तार किया

डिजिटल डेस्क, नई दिल्ली। मोइन कुरैशी मामले में प्रवर्तन निदेशालय (ED) ने सतीश बाबू सना को दिल्ली से गिरफ्तार कर लिया है। हैदराबाद स्थित व्यवसायी सतीश बाबू सना को मांस निर्यातक मोइन कुरैशी के खिलाफ मनी लॉन्ड्रिंग मामले में गिरफ्तार किया गया है। सतीश बाबू सना को स्पेशल सीबीआई कोर्ट ने 5 दिन के लिए ईडी की रिमांड पर भेज दिया है। हालांकि ईडी ने 14 दिन की रिमांड मांगी थी। 

अधिकारियों ने बताया, मांस कारोबारी मोइन कुरैशी और अन्य के खिलाफ ईडी की मनी-लॉन्ड्रिंग जांच के सिलसिले में सतीश बाबू सना को गिरफ्तार किया गया है। सतीश को मनी लॉन्ड्रिंग निरोधक कानून (PMLA) के प्रावधानों के तहत ईडी ने शुक्रवार देर रात गिरफ्तार किया गया। जांच के दौरान यह तथ्य सामने आया था कि सना कुरैशी का करीबी था, जिस पर दिल्ली स्थित ऑपरेटरों के माध्यम से हवाला लेनदेन का आरोप है।

आपको बता दें कि, सतीश बाबू सना ने सीबीआई के स्पेशल डायरेक्टर रहे राकेश अस्थाना पर 5 करोड़ रुपये की रिश्वत मांगने का आरोप लगाया था। इसके चलते तत्कालीन सीबीआई निदेशक आलोक वर्मा ने अस्थाना और अन्य के खिलाफ प्राथमिकी दर्ज की थी। मामले की जांच अस्थाना के नेतृत्व वाली एसआईटी कर रही थी। CBI ने 15 अक्टूबर को सतीश बाबू सना से कथित रूप से 2 करोड़ रुपये रिश्वत लेने के आरोप में राकेश अस्थाना के खिलाफ मामला दर्ज किया था। आरोप है कि, मांस कारोबारी मोईन कुरैशी के मामले को रफ-दफा करने के लिए दो बिचौलियों मनोज प्रसाद और सोमेश प्रसाद के जरिए दो करोड़ रुपये की रिश्वत दी गई। इस मामले में मनोज प्रसाद को 16 अक्टूबर को गिरफ्तार किया गया था, लेकिन बाद में कोर्ट से उसे जमानत मिल गई थी।