comScore

© Copyright 2019-20 : Bhaskarhindi.com. All Rights Reserved.

5 राज्यों का चुनावी कैलेंडर: 27 मई से वोटिंग की शुरुआत, 2.7 लाख केंद्रों पर 18.68 करोड़ लोग करेंगे मतदान, सभी राज्यों के नतीजे 2 मई को

5 राज्यों का चुनावी कैलेंडर: 27 मई से वोटिंग की शुरुआत, 2.7 लाख केंद्रों पर 18.68 करोड़ लोग करेंगे मतदान, सभी राज्यों के नतीजे 2 मई को

हाईलाइट

  • महामारी के बीच चुनाव के लिए कराए ट्रायल
  • कोरोना के कारण वोटिंग का समय एक घंटे बढ़ाया
  • बंगाल में एक लाख से ज्यादा मतदान केंद्र बनेंगे

डिजिटल डेस्क, नई दिल्ली। मुख्य चुनाव आयुक्त सुनील अरोड़ा ने शुक्रवार को 4 राज्यों और एक केंद्र शासित प्रदेश में चुनावों की तारीखों का ऐलान किया। इनमें पश्चिम बंगाल, केरल, तमिलनाडु, असम और पुडुचेरी (केंद्र शासित प्रदेश) शामिल हैं। चुनाव शेड्यूल के मुताबिक चुनावी त्योहर 62 दिन तक चलेगा। 

अरोड़ा ने बताया कि पश्चिम बंगाल में सबसे ज्यादा 8 फेज में चुनाव होंगे। असम में 3 फेज में और बाकी तीनों राज्यों में सिंगल फेज में चुनाव होंगे। वोटिंग की शुरुआत पश्चिम बंगाल और असम से होगी। इन दोनों राज्यों में पहले फेज की वोटिंग 27 मार्च को होगी। सभी राज्यों में वोटों की गिनती 2 मई को होगी। इसके बाद परिणाम घोषित किए जाएंगे।

2.7 लाख केंद्रों पर 18.68 करोड़ लोग करेंगे मतदान 
अरोड़ा ने कहा कि इन चुनावों के दौरान कुल 824 विधानसभा सीटों पर मतदान होगा। तमिलनाडु, पश्चिम बंगाल, केरल, असम और पुडुचेरी में 2.7 लाख मतदान केंद्रों पर 18.68 करोड़ लोग अपने मताधिकार का उपयोग करेंगे।

यह व्यवस्थाएं होंगी

  • पोस्टल मतदान की सुविधा वैकल्पिक रहेगी।
  • बंगाल में एक लाख से ज्यादा मतदान केंद्र बनेंगे।
  • सभी चुनाव अधिकारियों को ड्यूटी पर जाने से पहले कोविड वैक्सीन लगाया जाएगा।
  • सुरक्षा निधि ऑनलाइन जमा की जाएगी।
  • सभी मतदान केंद्र तल मंजिल पर रही बनेंगे।
  • बंगाल समेत सभी चुनावी राज्यों में केंद्रीय रिजर्व पुलिस बल की तैनाती रहेगी।
  • वरिष्ठ नागरिकों और निशक्तों को डाक से मतदान का विकल्प मिलेगा।
  • चुनाव से संबंधित जानकारी के लिए टोल फ्री नंबर 1950 जारी किया गया।
  • चुनाव कार्यक्रम की घोषणा के साथ ही आदर्श आचार चुनाव संहिता लागू।
  • बंगाल में एक लाख एक हजार 916 मतदान केंद्र बनाए जाएंगे।
  • राज्य पुलिस बल केंद्रीय बलों के साथ मिलकर काम करेंगे।
  • हर मतदान केंद्र में सीसीटीवी कैमरे लगाए जाएंगे।

चुनाव प्रचार पर किस तरह की पाबंदियां
कोरोना महामारी के मद्देनज़र नामांकन करने वाले व्यक्ति के साथ केवल दो ही लोग चुनाव आयोग के दफ्तर आ सकते हैं। नॉमिनेशन फीस ऑनलाइन जमा करने की सुविधा की गई है। साथ ही गाड़ियों की संख्या सीमित कर पांच-पांच का काफिला करने का फैसला किया गया है, यानी किसी रैली में पांच गाड़ियों के काफिले के बाद थोड़ी दूरी पर और पांच गाड़ियों का काफिला रखा जा सकता है।

पुडुचेरी में उम्मीदवारों के लिए खर्च की सीमा 22 लाख रहेगी, जबकि अन्य चार राज्यों- पश्चिम बंगाल, असम, तमिलनाडु और केरल में ये 30.8 लाख रहेगी। उम्मीदवारों को सरकार द्वारा जारी नए डिजिटल मीडिया गाइडलाइन्स का पालन करना होगा। इसके बारे में आने वाले दिनों में अधिक जानकारी दी जाएगी। डोर-टू-डोर प्रचार के लिए केलव पांच लोग एक साथ जो सकते हैं, जिनमें से एक उम्मीदवार होंगे। रोड शो या रैली के लिए भी वाहनों की संख्या सीमित की गई है।
 

कोरोना के कारण पोलिंग बूथ पर वोटिंग कैसे होगी?
कोरोना वायरस की वजह से वोटिंग का समय एक घंटे के लिए बढ़ा दिया गया है। सुबह सात बजे से शाम छह बजे तक वोटिंग होगी। पहले शाम पांच बजे तक होती थी। वोटिंग से एक दिन पहले सभी पोलिंग स्टेशन को सैनिटाइज किया जाएगा। एक बूथ पर 1500 की बजाय 1000 मतदाता ही वोट डाल सकेंगे। पोलिंग स्टेशन के एंट्री-एग्जिट प्वाइंट पर साबुन, पानी और सैनिटाइजर उपलब्ध रहेगा। बिना मास्क के आने वालों के लिए बूथ पर मास्क रखे जाएंगे। कोविड-19 से प्रभावित वोटरों के लिए विशेष सुविधा की जाएगी, ताकि वो किसी के संपर्क में बिना आए मतदान कर सकें। 

महामारी के बीच चुनाव के लिए कराए ट्रायल
मुख्य चुनाव आयुक्त ने कहा कि कोरोना वायरस महामारी को देखते हुए चुनाव आयोग ने राज्यसभा की 18 सीटों पर चुनाव के लिए ट्रायल शुरू किए थे। इसके बाद बिहार चुनाव की चुनौती आई, यह ईसीआई के लिए यह एक शानदार क्षण था। यह एक लिटमस टेस्ट की तरह सिद्ध हुआ।

पश्चिम बंगाल में मतदान आठ चरणों में होगा

  • पहला चरण – 30 विधानसभा सीटें, 2 मार्च को नोटिफिकेशन जारी होगा। 9 मार्च को नामांकन का आखिरी दिन, मतदान की तारीख 27 मार्च
  • दूसरा चरण – 30 विधानसभा सीटें, 5 मार्च को नोटिफिकेशन जारी होगा। 12 मार्च को नामांकन का आखिरी दिन, मतदान की तारीख 1 अप्रैल
  • तीसरा चरण – 31 विधानसभा सीटें, 12 मार्च को नोटिफिकेशन जारी होगा। 19 मार्च को नामांकन का आखिरी दिन, मतदान की तारीख 6 अप्रैल
  • चौथा चरण – 44 विधानसभा सीटें, 16 मार्च को नोटिफिकेशन जारी होगा। 19 मार्च को नामांकन का आखिरी दिन, मतदान की तारीख 10 अप्रैल
  • पांचवा चरण - 45 विधानसभा सीटें, 23 मार्च को नोटिफिकेशन जारी होगा। 30 मार्च को नामांकन का आखिरी दिन, मतदान की तारीख 17 अप्रैल
  • छठा चरण - 43 विधानसभा सीटें, 26 मार्च को नोटिफिकेशन जारी होगा। 3 अप्रैल को नामांकन का आखिरी दिन, मतदान की तारीख 22 अप्रैल
  • सातवां चरण - 36 विधानसभा सीटें, 31 मार्च को नोटिफिकेशन जारी होगा। 7 अप्रैल को नामांकन का आखिरी दिन, मतदान की तारीख 26 अप्रैल
  • आठवां चरण - 35 विधानसभा सीटें, 31 मार्च को नोटिफिकेशन जारी होगा। 7 अप्रैल को नामांकन का आखिरी दिन, मतदान की तारीख 29 अप्रैल

असम में मतदान तीन चरणों में होगा
पहला चरण – 47 विधानसभा सीटें, 2 मार्च को नोटिफिकेशन जारी होगा। 9 मार्च को नामांकन का आखिरी दिन, मतदान की तारीख 27 मार्च
दूसरा चरण - 39 विधानसभा सीटें, 5 मार्च को नोटिफिकेशन जारी होगा, 12 मार्च नामांकन का आखिरी दिन, मतदान की तारीख 1 अप्रैल
तीसरा चरण – 40 विधानसभा सीटें, 12 मार्च को नोटिफिकेशन जारी होगा। 19 मार्च को नामांकन का आखिरी दिन, मतदान की तारीख 6 अप्रैल

तमिलनाडु, केरल और पुडुचेरी में एक चरण का मतदान
केरल में 12 मार्च को नोटिफिकेशन जारी होगा। 20 मार्च को नामांकन का आखिरी दिन, मतदान की तारीख 6 अप्रैल
तमिलनाडु में 12 मार्च को नोटिफिकेशन जारी होगा। 19 मार्च को नामांकन का आखिरी दिन, मतदान की तारीख 6 अप्रैल
पुडुचेरी में 12 मार्च को नोटिफिकेशन जारी होगा। 19 मार्च को नामांकन का आखिरी दिन, मतदान की तारीख 6 अप्रैल

सभी राज्यों में वोटों की गिनती 2 मई को होगी

कहां-कितनी सीटें
असम में सरकार का कार्यकाल 31 मई 2021 तक है और यहां कुल 126 विधानसभा सीटें हैं।
तमिलनाडु में सरकार का कार्यकाल 31 मई 2021 तक है और यहां कुल 234 विधानसभा सीटें हैं।
पश्चिम बंगाल में सरकार का कार्यकाल 24 मई 2021 तक है और यहां कुल 294 विधानसभा सीटें हैं।
केरल में सरकार का कार्यकाल 1 जून 2021 तक है और यहां कुल 140 विधानसभा सीटें हैं।
पुदुचेरी में सरकार का कार्यकाल 8 जून 2012 तक है और यहां कुल 30 विधानसभा सीटें हैं।

कमेंट करें
Evke5