comScore

© Copyright 2019-20 : Bhaskarhindi.com. All Rights Reserved.

राज्यसभा में दिखा NDA का दम, JDU के हरिवंश बने उपसभापति, सोनिया बोलीं - कभी हम जीतते हैं तो कभी हारते भी हैं

August 10th, 2018 07:50 IST

हाईलाइट

  • JDU के हरिवंश नारायण सिंह बने राज्यसभा उपसभापति।
  • NDA के हरिवंश को मिले 125 वोट, यूपीए के हरिप्रसाद को 105 वोट मिले।
  • विपक्ष की ओर से कांग्रेस के नेता बी के हरिप्रसाद को अपनी तरफ से उम्मीदवार बनाया है।

डिजिटल डेस्क, नई दिल्ली। राज्यसभा के उपसभापति चुनाव में NDA के उम्मीदवार हरिवंश नारायण सिंह उपसभापति चुने गए। पहले दो बार हुई वोटिंग में NDA को जीत मिली। ध्वनिमत न होने की वजह से तीसरी बार वोटिंग की गई जिसमें हरिवंश को 125 और यूपीए उम्मीदवार हरिप्रसाद को 105 वोट मिले। एनडीए की तरफ से जहां जेडीयू सांसद हरिवंश नारायण सिंह को चुनावी मैदान में थे, वहीं यूपीए ने कांग्रेस नेता बी के हरिप्रसाद को अपनी ओर से उम्मीदवार बनाया था। चुनाव से पूर्व ही एनडीए का पलड़ा भारी था। 1977 से लगातार कांग्रेस का उम्मीदवार ही उपसभापति बनता आ रहा था, पहली बार कोई गैर कांग्रेसी उपसभापति बना है। इस लिहाज से एनडीए की ये जीत बेहद अहम मानी जा रही है।

हरिवंश की जीत पर पीएम नरेन्द्र मोदी ने उन्हें बधाई दी। पीएम मोदी ने कहा हरिवंश जी ने अपने जीवन किताबें लिखी भी बहुत और पढ़ी भी बहुत। वे कलम के धनी हैं। आशा है कि हरिवंश जी हमारे सांसदों को बहुत कुछ सीखने को मिलेगा। पीएम मोदी ने कहा कि अब सबको हरि कृपा चाहिए, ये सदन अब हरि भरोसे रहेगा। मैं बीके हरि प्रसाद जी को भी बधाई देता हूं कि परिणाम पता होने के बाद भी चुनाव लड़ना बड़ी बात है। आज जिस दशरथ मांझी की देश में बात होती है उस दशरथ मांझी की बात सबसे हरिवंश जी ने छापी थी। एक और वाकये का जिक्र करते हुए पीएम ने कहा कि चंद्रशेखर के सबसे करीबी हरिवंश ने उनके इस्तीफे की जानकारी होने के बाद भी ये खबर अपने अखबार में सबसे पहले न छापकर पद और मूल्यों की गरिमा बरकरार रखी।

हरिवंश के उपसभापति बनने पर विपक्ष के नेता गुलाम नबी ने कहा कि हरिवंश नारायण जी एक पत्रकार हैं और एक पत्रकार का उपसभापति बनना सदन के लिए अच्छा है। मैं उन्हें इस पद के लिए बधाई देता हूं। 

सोनिया बोलीं - कभी जीतते हैं तो कभी हारते हैं

हरिवंश नारायण की जीत पर कांग्रेस की पूर्व अध्यक्ष सोनिया गांधी ने कहा कि कभी हम जीतते हैं तो कभी हारते भी हैं।

LIVE UPADATE 

11.58 AM: राज्यसभा उपसभापति चुने जाने पर अरुण जेटली ने हरिवंश को दी बधाई। कहां हरिवंश जी बहुत शालीन हैं। 

11.56 AM: पीएम मोदी ने कहा हरिवंश जी कलम के धनी हैं, उन्हें किताबें लिखी भी बहुत हैं और पढ़ी भी बहुत है।

11.55 AM: पीएम नरेन्द्र मोदी ने हरिवंश नारायण को दी जीत की बधाई

11.50 AM: विपक्ष नेता गुलाम नबी आजाद ने हरिवंश नारायण को दी बधाई 

11.45 AM: NDA के हरिवंश नारायण बने राज्यसभा उपसभापति

11.40 AM: हरिवंश नारायण को 125 वोट और हरिप्रसाद को 105 वोट मिले

11.30 AM: राज्यसभा में उपसभापति पद के लिए वोटिंग प्रक्रिया शुरू 

11.08 AM: राहुल गांधी पर आप का हमला, राहुल मोदी को गले लगा सकते है, लेकिन केजरीवाल को फोन नहीं कर सकते।

11.07 AM: DMK के दो ही सांसद राज्यसभा उपसभापति चुनाव के लिए वोट डालेंगे, पहले खबर थी सिर्फ कनिमोझी को छोड़कर बाकी तीन सांसद वोट डालेंगे।

11.02 AM: बीजेपी ने पीयूष गोयल, प्रकाश जावड़ेकर, धर्मेंद्र प्रधान को अहम जिम्मेदारी दी है। ये तीनों NDA के अलावा जो दल उनके उम्मीदवार के पक्ष में वोट देंगे उनसे लगातार संपर्क में रहेंगे।

11.00 AM: राज्यसभा की कार्यवाही शुरू, थोड़ी देर में होगी उपसभापति के लिए वोटिंग।

10.50 AM: अरुण जेटली राज्यसभा पहुंचे, बीमारी के बाद पहली बार सदन पहुंचे हैं।

10.40 AM: राज्यसभा सांसद अमर सिंह ने कहा कि इस चुनाव में NDA की जीत होगी, हम भी NDA के उम्मीदवार हरिवंश को वोट करेंगे.

10.39 AM: एनसीपी नेता वंदना चव्हाण ने कहा कि हां, हमारे पास नंबर नहीं हैं, लेकिन हम इस मौके को बीजेपी के खिलाफ एकजुट होने में भुना सकते हैं।

10.32 AM: पीडीपी ने वोटिंग से बाहर रहने का लिया फैसला

10:31 AM: हरिवंश के साथ संसद भवन पहुंचे कानून मंत्री रविशंखर प्रसाद ने कहा कि NDAकी निर्णायक और प्रामाणिक जीत होगी, एनडीए पूरा एकजुट है।

10.30 AM: वोटिंग से पहले एनडीए उम्मीदवार हरिवंश संसद भवन पहुंच चुके हैं। 

10.22 AM: BJP ने अपने सभी सांसदों को व्हिप जारी किया, चुनाव के दौरान उपस्थित दर्ज कराने के लिए कहा। 

10.09 AM: बीजेपी अध्यक्ष अमित शाह और सांसद अमर सिंह भी एनडीए की बैठक में पहुंचे।

09.50 AM: कांग्रेस उम्मीदवार बीके हरिप्रसाद ने कहा कि हमें अपनी जीत की पूरी उम्मीद है, विपक्ष एकजुट है और हमारे पास आंकड़े हैं।

09.30 AM: बीके हरिप्रसाद ने कहा है कि कांग्रेस नेताओं उपचुनाव के मुद्दे पर आम आदमी पार्टी के नेताओं और अरविंद केजरीवाल से बात की है।

09.20 AM: कांग्रेस के सुब्बारेड्डी देश से बाहर जाने की वजह से उपसभापति चुनाव नहीं डाल सकेंगे वोट। 

कमेंट करें
wZVW2
NEXT STORY

Real Estate: खरीदना चाहते हैं अपने सपनों का घर तो रखे इन बातों का ध्यान, भास्कर प्रॉपर्टी करेगा मदद

Real Estate: खरीदना चाहते हैं अपने सपनों का घर तो रखे इन बातों का ध्यान, भास्कर प्रॉपर्टी करेगा मदद

डिजिटल डेस्क, जबलपुर। किसी के लिए भी प्रॉपर्टी खरीदना जीवन के महत्वपूर्ण कामों में से एक होता है। आप सारी जमा पूंजी और कर्ज लेकर अपने सपनों के घर को खरीदते हैं। इसलिए यह जरूरी है कि इसमें इतनी ही सावधानी बरती जाय जिससे कि आपकी मेहनत की कमाई को कोई चट ना कर सके। प्रॉपर्टी की कोई भी डील करने से पहले पूरा रिसर्च वर्क होना चाहिए। हर कागजात को सावधानी से चेक करने के बाद ही डील पर आगे बढ़ना चाहिए। हालांकि कई बार हमें मालूम नहीं होता कि सही और सटीक जानकारी कहा से मिलेगी। इसमें bhaskarproperty.com आपकी मदद कर सकता  है। 

जानिए भास्कर प्रॉपर्टी के बारे में:
भास्कर प्रॉपर्टी ऑनलाइन रियल एस्टेट स्पेस में तेजी से आगे बढ़ने वाली कंपनी हैं, जो आपके सपनों के घर की तलाश को आसान बनाती है। एक बेहतर अनुभव देने और आपको फर्जी लिस्टिंग और अंतहीन साइट विजिट से मुक्त कराने के मकसद से ही इस प्लेटफॉर्म को डेवलप किया गया है। हमारी बेहतरीन टीम की रिसर्च और मेहनत से हमने कई सारे प्रॉपर्टी से जुड़े रिकॉर्ड को इकट्ठा किया है। आपकी सुविधाओं को ध्यान में रखकर बनाए गए इस प्लेटफॉर्म से आपके समय की भी बचत होगी। यहां आपको सभी रेंज की प्रॉपर्टी लिस्टिंग मिलेगी, खास तौर पर जबलपुर की प्रॉपर्टीज से जुड़ी लिस्टिंग्स। ऐसे में अगर आप जबलपुर में प्रॉपर्टी खरीदने का प्लान बना रहे हैं और सही और सटीक जानकारी चाहते हैं तो भास्कर प्रॉपर्टी की वेबसाइट पर विजिट कर सकते हैं।

ध्यान रखें की प्रॉपर्टी RERA अप्रूव्ड हो 
कोई भी प्रॉपर्टी खरीदने से पहले इस बात का ध्यान रखे कि वो भारतीय रियल एस्टेट इंडस्ट्री के रेगुलेटर RERA से अप्रूव्ड हो। रियल एस्टेट रेगुलेशन एंड डेवेलपमेंट एक्ट, 2016 (RERA) को भारतीय संसद ने पास किया था। RERA का मकसद प्रॉपर्टी खरीदारों के हितों की रक्षा करना और रियल एस्टेट सेक्टर में निवेश को बढ़ावा देना है। राज्य सभा ने RERA को 10 मार्च और लोकसभा ने 15 मार्च, 2016 को किया था। 1 मई, 2016 को यह लागू हो गया। 92 में से 59 सेक्शंस 1 मई, 2016 और बाकी 1 मई, 2017 को अस्तित्व में आए। 6 महीने के भीतर केंद्र व राज्य सरकारों को अपने नियमों को केंद्रीय कानून के तहत नोटिफाई करना था।