दैनिक भास्कर हिंदी: सुप्रीम कोर्ट पहुंची महाराष्ट्र की राजनीति, तीन जजों बेंच रविवार को करेगी सुनवाई

November 24th, 2019

हाईलाइट

  • फडणवीस ने ली सीएम पद की शपथ
  • अजित पवार ने ली डिप्टी सीएम पद की शपथ
  • कांग्रेस ने प्रेस कॉन्फ्रेंस कर भाजपा पर किया हमला

डिजिटल डेस्क, मुंबई।  महाराष्ट्र में राजनीतिक तस्वीर रातों रात बदल गई है। जहां शिवसेना, कांग्रेस और एनसीपी मिलकर सरकार बनाने की तैयारी कर रही थी, वहीं शनिवार सुबह बीजेपी ने एनसीपी के साथ मिलकर सरकार बना ली है। राज्यपाल भगत सिंह कोश्यारी ने देवेंद्र फडणवीस को मुख्यमंत्री पद की शपथ दिलाई, जबकि अजित पवार ने डिप्टी सीएम पद की शपथ ली। दोनों नेताओं से आज सुबह करीब 8 बजे शपथ ली। अजित पवार की बगावत से एनसीपी में दो फाड़ हो गई है। पहले शरद पवार ने ट्वीट कर बताया कि बीजेपी को समर्थन देना उनका अजित पवार का निजी फैसला है, वहीं पवार की बेटी सांसद सुप्रिया सुले ने अपने वाट्सएप स्टेटस में लिखा है 'पार्टी और परिवार का विभाजन हो गया है।' पीएम मोदी और अमित शाह ने ट्वीट कर दोनों लोगों को बधाई दी। एनसीपी चीफ शरद पवार ने अजीत पवार के इस कदम पर कहा है कि मुझे इसकी जानकारी नहीं थी। अब 30 नवंबर को फडणवीस सरकार को बहुमत साबित करना होगा। 

UPDATE:

- महाराष्ट्र के डिप्टी सीएम अजीत पवार अपने भाई श्रीनिवास पवार के आवास से रवाना हुए।


 

- राष्ट्रवादी कांग्रेस पार्टी (NCP) के विधायक मुंबई के रेनी सेंस होटल पहुंचे।

 

 

- भाजपा-NCP-कांग्रेस की याचिका पर रविवार सुबह जस्टिस एनवी रमना, जस्टिस अशोक भूषण और जस्टिस संजीव खन्ना की बेंच रविवार सुबह 11:30 बजे सुनवाई करेगी। भाजपा-NCP-कांग्रेस ने देवेंद्र फडणवीस को 23 नवंबर को सरकार बनाने के लिए आमंत्रित करने के महाराष्ट्र के राज्यपाल के फैसले के खिलाफ संयुक्त याचिका सुप्रीम कोर्ट में दाखिल की थी। 

 

- एनसीपी विधायक दल के अंतरिम नेता जयंत पाटिल ने कहा है कि अजित पवार ने ऐसा क्यों किया, यह सवाल अब भी हमारे मन में है। यह सवाल उन विधायकों के मन में भी होगा, जो हम से दूर हैं। उन्होंने कहा कि हमारी तरफ से दो-तीन नेता उनसे जाकर मिले और बात की, उन्हें बुलाया नहीं गया। पाटिल ने अजित पवार से हुई वार्ता के संबंध में पूछा गया सवाल टाल दिया। उन्होंने कहा कि वक्त आने पर सब बता दिया जाएगा। पाटिल ने 42 विधायकों के मीटिंग में मौजूद होने की जानकारी देते हुए कहा कि 49 विधायक हमारे संपर्क में हैं। पाटिल ने कहा कि फडणवीस बहुमत साबित नहीं कर पाएंगे। हम सरकार बनाएंगे। जयंत पाटिल ने कहा कि अजित पवार ने विधायकों के समर्थन की जो चिट्ठी राज्यपाल को सौंपी, उनका समर्थन उन्हें खुद नहीं है। आगे की रणनीति के संबंध में पूछे जाने पर जयंत ने कहा कि आगे-आगे देखिए होता है क्या। हम जो भी करेंगे, वह बताएंगे।

- वाईबी सेंटर से एनसीपी विधायकों को लेकर बस होटल के लिए रवाना हो गई है। एनसीपी विधायकों की लिस्ट से सवार विधायकों का मिलान करने के बाद ही बस को पवई स्थित होटल के लिए रवाना किया गया। फ्लोर टेस्ट होने तक इन विधायकों को किसी भी अन्य दल के नेता से मिलने नहीं दिया जाएगा। शरद पवार के साथ बैठक के बाद एनसीपी के विधायकों को बस से एक साथ रवाना किया जा रहा है। पार्टी सूत्रों के अनुसार सभी विधायकों को होटल रेनी सेंस ले जाया जाएगा।

 

 

- शिवसेना, कांग्रेस और एनसीपी ने सुप्रीम कोर्ट में याचिका के साथ 288 सदस्यीय विधानसभा में 154 विधायकों के समर्थन का दावा किया है। याचिकाकर्ताओं ने सुप्रीम कोर्ट से जल्द से जल्द, संभव हो तो रविवार को ही विधानसभा का विशेष सत्र बुलाकर फ्लोर टेस्ट कराने का निर्देश देने की अपील की है। याचिका में कर्नाटक के मामले की ही तरह महाराष्ट्र के राज्यपाल से देवेंद्र फडनवीस को निमंत्रण देने और राज्यपाल को दिए गए समर्थन पत्र समेत सारा रिकॉर्ड अदालत के सामने प्रस्तुत करने का निर्देश देने की मांग भी की है।याचिकाकर्ताओं ने प्रोटेम स्पीकर की नियुक्ति, ध्वनिमत की बजाय डिवीजन ऑफ वोट के जरिए तुरंत फ्लोर टेस्ट और इसकी वीडियोग्राफी कराने की मांग की है।
 

- भाजपा नेता आशीष शेलार ने कहा कि भारतीय जनता पार्टी का मानना ​​है कि एनसीपी विधायक दल के नेता के रूप में अजीत पवार की नियुक्ति वैध थी और उनकी जगह आज (शनिवार) जयंत पाटिल की नियुक्ति अमान्य है।

- एनसीपी प्रमुख शरद पवार और पार्टी विधायकों के साथ बैठक के बाद मुंबई के वाईबी चव्हाण केंद्र से रवाना गए हैं। एनसीपी नेता सुप्रिया सुले ने जीत के संकेत दिए। वहीं यहां से एनसीपी विधायकों को दो बसों बैठाकर एक निजी होटल ले जाया गया है। ये विधायक 30 नवंबर तक एक साथ एक ही होटल में रहेंगे।
 

 

- सुप्रीम कोर्ट में एनसीपी-कांग्रेस-शिवसेना की संयुक्त याचिका पर रविवार को 11.30 बजे सुनवाई होगी। विशेष बेंच इस पर सुनवाई करेगी।

 

- एनसीपी के अध्यक्ष शरद पवार की मौजूदगी में हुई पार्टी के विधायकों और नेताओं की बैठक खत्म हो गई है। इस संबंध में नवाब मलिक ने बताया कि बैठक में यह प्रस्ताव पारित किया गया कि पार्टी अजित पवार के निर्णय से सहमत नहीं है। उन्होंने कहा कि जब तक नया नेता नहीं चुना जाता, सभी अधिकार पार्टी के प्रदेश अध्यक्ष जयंत पाटिल को सौंपने का निर्णय लिया गया। उन्होंने कि राज्यपाल को भ्रमित कर सरकार का गठन कराया गया। हमारे पास नंबर है। हम विधानसभा अध्यक्ष के चुनाव में उन्हें मात देंगे। उन्होंने कहा कि 5 विधायकों से संपर्क नहीं हो सका।

 

- कांग्रेस नेता अशोक चव्हाण ने कहा कि देवेंद्र फड़नवीस ने महाराष्ट्र के राज्यपाल को गुमराह किया है। उन्हें इस्तीफा देना चाहिए। एनसीपी के पास संख्या है, केवल 4-5 एनसीपी विधायक पार्टी के संपर्क में नहीं हैं। अजीत पवार को अपने घर (एनसीपी) में वापस आना चाहिए।

 

- राष्ट्रवादी कांग्रेस पार्टी (राकांपा) के विधायकों को मुंबई के पुनर्जागरण होटल में स्थानांतरित किया जा रहा है। ये विधायक 30 नवंबर तक एक साथ एक जगह पर रहेंगे, क्योंकि महाराष्ट्र के राज्यपाल भगत सिंह को​श्यारी ने भाजपा को बहुमत सिद्ध करने के लिए 30 नवंबर तक का समय दिया है। एनसीपी सूत्रों ने बताया कि ऐसा इसलिए किया जा रहा है, ताकि पार्टी में भाजपा सेंधमारी न कर सके। 

- पार्टी विधायकों की बैठक के बाद NCP नेता नवाब मलिक ने कहा कि सर्वसम्मति से एक प्रस्ताव पारित किया गया है। इसमें पार्टी अजीत पवार के फैसले का समर्थन नहीं करती है और उन्हें राकांपा विधायक दल के नेता के रूप में हटा दिया गया है। नए नेता के चुनाव होने तक जयंत पाटिल को विधायक दल के नेता पद की जिम्मेदारी सौंपी गई है।

 

- कांग्रेस-एनसीपी-शिवसेना के लिए वरिष्ठ अधिवक्ता देवदत्त कामत ने कहा है कि हमने सुप्रीम कोर्ट में याचिका दायर की है। इसमें हमने SC से कल ही होने वाले फ्लोर टेस्ट के लिए तत्काल निर्देश देने का अनुरोध किया है। हमें उम्मीद है कि सुप्रीम कोर्ट हमारी सुनवाई करेगा। हमारी याचिका पर मंजूर कर ली गई है।

- महाराष्ट्र सरकार के गठन पर कांग्रेस नेता केसी वेणुगोपाल ने कहा कि हमारे 44 विधायक बरकरार हैं। महाराष्ट्र के राज्यपाल ने सभी मानदंडों और नियमों को दरकिनार किया है। बिना किसी सत्यापन के उन्होंने भाजपा को सरकार बनाने के लिए आमंत्रित किया। हमने सुप्रीम कोर्ट का रुख किया है। हम इस मुद्दे को संसद में भी उठाएंगे।

- महाराष्ट्र के राज्यपाल भगत सिंह कोश्यारी रविवार को राज्यपालों के वार्षिक सम्मेलन में भाग लेने के लिए दिल्ली पहुंचे हैं।

- मुंबई के वाईबी चव्हाण केंद्र में राष्ट्रवादी कांग्रेस पार्टी की बैठक चल रही है। इसमें में राकांपा प्रमुख शरद पवार और अन्य नेताओं के बीच महाराष्ट्र की राजनीति पर चर्चा चल रही हैं।

- शिवसेना, राष्ट्रवादी कांग्रेस पार्टी और भारतीय राष्ट्रीय कांग्रेस ने आज (23 नवंबर) को देवेंद्र फडणवीस को सरकार बनाने के लिए आमंत्रित करने के महाराष्ट्र के राज्यपाल के फैसले के खिलाफ सुप्रीम कोर्ट में एक संयुक्त याचिका दायर की है। इसमें तत्काल सुनवाई की मांग की गई है। तीनों पक्षों के वरिष्ठ अधिवक्ता देवदत्त कामत ने कहा कि हमारे लोग वहां मौजूद हैं। रजिस्ट्री अब खुली है। वे मामले की तात्कालिकता पर फैसला करेंगे। तीन पक्षों की ओर से याचिका दायर की गई है, एससी रजिस्ट्री इसे आगे की कार्रवाई के लिए संसाधित कर रही है।

- मुंबई के वाईबी चव्हाण केंद्र में NCP प्रमुख शरद पवार के साथ विधायकों की बैठक में अजित पवार को विधायक दल के नेता पद से हटाने का निर्णय लिया गया है। उनकी जगह अब जयंत पाटिल को NCP विधायक दल का नेता बनाया गया है।

- एनसीपी की बैठक में अजित पवार को विधायक दल के नेता पद से हटा दिया है। अजित पवार आज (शनिवार) सुबह उप-मुख्यमंत्री पद की शपथ ली थी।

- मुंबई के वाईबी चव्हाण केंद्र में एनसीपी प्रमुख शरद पवार के साथ एनसीपी के विधायकों की बैठक चल रही है। इस बैठक में एनसीपी के 50 विधायक शामिल हैं। बैठक में अजीत पवार सहित एनसीपी के 4 विधायक अभी तक बैठक के लिए नहीं आए हैं। उनसे जल्द ही बैठक के लिए आने की उम्मीद है। सभी विधायकों को मुंबई के एक होटल में रखा जाएगा।

- शिवसेना नेता मिलिंद नार्वेकर और एकनाथ शिंदे अपने साथ 2 एनसीपी विधायकों संजय बंसोड़ और बाबासाहेब पाटिल को मुंबई हवाई अड्डे से वाईबी चव्हाण केंद्र में एनसीपी की बैठक में लेकर आए हैं। एनसीपी के दो विधायक एनसीपी नेता अजीत पवार के साथ हैं।
 

 

- मुंबई में वाईबी चव्हाण केंद्र में एनसीपी प्रमुख शरद पवार के साथ एनसीपी के विधायकों के साथ बैठक चल रही है। इस बैठक में एनसीपी के 42 विधायक मौजूद हैं। 

- शिवसेना ने देवेंद्र फड़नवीस और अजीत पवार के खिलाफ महाराष्ट्र के सीएम और डिप्टी सीएम के रूप में शपथ लेने के खिलाफ सुप्रीम कोर्ट में रिट याचिका दायर की है।

- दिल्ली में केंद्रीय मंत्री और भाजपा नेता प्रकाश जावड़ेकर ने महाराष्ट्र में सरकार के गठन के बारे में पूछे जाने पर जीत के संकेत दिए।

- मुंबई के ललित होटल में शिवसेना प्रमुख उद्धव ठाकरे की अपने विधायकों के साथ बैठक खत्म। बाहर आए शिवसेना प्रमुख उद्धव ठाकरे मीडिया से बिना बातचीत किए चले गए।

- एनसीपी में शनिवार को हुए दो फाड़ के बाद शरद पवार ने पार्टी के विधायकों से कहा कि दहशत में न आएं, ऐसे कई हालात मैंने जीवन में देखे हैं।

- एनसीपी प्रमुख शरद पवार और शिवसेना की बैठक में धनंजय मुंडे वाईवी चव्हाण केंद्र पहुंच गए हैं। 

- मुंबई में राष्ट्रवादी कांग्रेस पार्टी के विधायक अतुल बेनके ने कहा कि मैं शरद पवार जी के साथ हूं, हम सब साथ हैं।

- समाजवादी पार्टी के चीफ अखिलेश यादव ने महाराष्ट्र में चल रहे सियासी घमासान को लेकर बयान दिया है। उन्होंने कहा कि अब तो लगता है कि जिसका गवर्नर उसकी सरकार।

- मुख्यमंत्री देवेंद्र फडणवीस ने महाराष्ट्र भाजपा के कार्यालय पर नेताओं और कार्यकर्ताओं को संबोधित करते हुए कहा कि यह विश्वास दिलाना चाहता हूं कि यह सरकार अगले पांच साल महाराष्ट्र के हित में मजबूती से कार्य करेगी। महाराष्ट्र भाजपा के कार्यालय पर सरकार गठन का जश्न मनाया जा रहा है। 

- मुख्यमंत्री देवेंद्र फडणवीस ने मंच पर नेताओं को लड्डू खिलाए। नेताओं ने भी मुख्यमंत्री को लड्डू खिलाकर दूसरे कार्यकाल के लिए बधाई दी। अजीत पवार के समर्थन से सरकार बनने के बाद महाराष्ट्र भाजपा के कार्यालय पर नया नारा लगाया जा रहा है। 

- कार्यकर्ता 'फडणवीस पवार आगे बढ़ो, हम तुम्हारे साथ हैं' का नारा लगा रहे हैं। महाराष्ट्र भाजपा कार्यालय पर बड़ी संख्या में कार्यकर्ता और नेता जुटे हैं। इन सबके बीच अब मुख्यमंत्री देवेंद्र फडणवीस भी पार्टी दफ्तर पहुंच चुके हैं। वह थोड़ी देर में कार्यकर्ताओं को संबोधित कर सकते हैं।

- कांग्रेस के वरिष्ठ नेता और प्रवक्ता रणदीप सुरजेवाला ने बीजेपी पर निशाना साधते हुए कहा कि महाराष्ट्र की जनता से विश्वासघात किया गया।रात के अंधेरे में चोरी-छिपे शपथ दिलाई गई। 23 नवंबर के दिन महाराष्ट्र और देश के लोकतांत्रिक इतिहास में एक काले अध्याय के तौर पर दर्ज होगा, जब संविधान को पांव तले रौंद दिया गया। उन्होंने कहा कि अवसरवादी अजित पवार को जेल की सलाखों का डर दिखाकर सत्ता की हवस में अंधी भाजपा ने लोकतंत्र की सुपारी ले हत्या कर डाली। भाजपा व अजित पवार ने दुर्योधन व शकुनि की तरह महाराष्ट्र के जनादेश का चीरहरण कर दिया। ये महाराष्ट्र की जनता से विश्वासघात है? फड़णवीस जी का वादा तो ₹72,000 करोड़ के कृषि घोटाले में अजित पवार को आर्थर रोड जेल भेजने का था, मगर उपमुख्यमंत्री बना मंत्रालय भेज दिया।

कांग्रेस ने बीजेपी से 10 सवाल पूछे हैं।

1. भाजपा द्वारा सरकार बनाने का दावा कब और किसने पेश किया?
2. सरकार बनाने के दावे पर BJP और NCP के कितने विधायकों के हस्ताक्षर थे?
3. महाराष्ट्र के राज्यपाल ने उन हस्ताक्षरों को कब और कैसे प्रमाणित किया?
4. राज्यपाल ने केंद्र सरकार को राष्ट्रपति शासन हटाने की अनुशंसा कितने बजे की?
5. केंद्रीय मंत्रिमंडल की बैठक कल रात कितने बजे हुई, उसमें कौनसे मंत्री थे और राष्ट्रपति से कितने बजे राष्ट्रपति शासन हटाने की अनुशंसा की?
6. ये सिफारिश राष्ट्रपति जी को कितने बजे भेजी गई?
7. राष्ट्रपति ने केंद्रीय मंत्रिमंडल द्वारा राष्ट्रपति शासन हटाने की अनुशंसा को कितने बजे स्वीकार किया?
8. राज्यपाल ने फड़नवीस एवं अजित पवार को शपथ के लिए किस पत्र द्वारा कितने बजे आमंत्रित किया? 
9. शपथ कितने बजे हुई? एक प्राइवेट न्यूज़ एजेंसी को छोड़कर दूरदर्शन सहित किसी भी मीडिया के साथी, अन्य राजनीतिक दलों, महाराष्ट्र के प्रशासनिक अधिकारियों, नागरिकों और महाराष्ट्र के मुख्य न्यायाधीश को उस शपथ ग्रहण समारोह में क्यों नहीं बुलाया गया?
10. शपथ दिलाने के बावजूद भी राज्यपाल ने अब तक ये क्यों नहीं बताया कि फड़नवीस सरकार को बहुमत कब तक साबित करना है?

बीजेपी की प्रेस कॉन्फ्रेंस में केंद्रीय मंत्री रवि शंकर प्रसाद ने कहा कि बीजेपी-शिवसेना को जनादेश मिला था और बीजेपी बड़ी पार्टी बनकर उभरी थी। सीएम के लिए देवेंद्र फडणवीस को जनादेश मिला था। शिवसेना को जिताने में बीजेपी समर्थकों का बड़ा हाथ था। ये हमारी नैतिक और राजनीतिक जीत थी। देवेंद्र फडणवीस की अगुवाई में हमें जीत मिली थी। चुनाव के नतीजे आने के बाद कुर्सी के लिए मैच फिक्सिंग कैसे हो गई? विपक्ष में बैठने की बात करने वालों की फिक्सिंग की है। रविशंकर प्रसाद ने कहा कि 30 साल की दोस्ती शिवसेना ने स्वार्थ में तोड़ दिया। ये चोर दरवाजे से वित्ती राजधानी पर कब्जे करने की साजिश थी।

केंद्रीय मंत्री रविशंकर प्रसाद ने कहा कि बाला साहेब का समर्पण सबको पता है, वो कांग्रेस के घोर विरोधी थे। अब शिवसेना उनके साथ चली गई है। उन्होंने कहा कि राज्यपाल ने सभी दलों को मौका दिया था, लेकिन किसी ने दावा नहीं किया। इसलिए आज देवेंद्र फडणवीस ने शपथ ली। महाराष्ट्र की जनता कह रही थी कि जब हमने जनादेश दिया तो सरकार बन क्यों नहीं रही है। ये गठबंधन महाराष्ट्र को स्थाई सरकार देगा। राज्य में हमारी सरकार नहीं गिरेगी।

महाराष्ट्र के पूरे घटनाक्रम के बाद कांग्रेस ने प्रेस कॉन्फ्रेंस कर भाजपा पर निशाना साधा है। कांग्रेस नेता अहमद पटेल ने प्रेस कॉन्फ्रेंस कर कहा कि एनसीपी, कांग्रेस और शिवसेना साथ हैं। मुझे यकीन है कि हम विश्वास मत में भाजपा को हराएंगे। कांग्रेस के सभी विधायक दो को छोड़कर यहां मौजूद हैं। वो अभी अपने गांव में हैं, लेकिन वे भी हमारे साथ हैं।उन्होंने कहा, 'शिवसेना-राकांपा-कांग्रेस में बात चल रही थी, लेकिन इसके पूरा होने से पहले ही सब कुछ चुपचाप हो गया। हमारी (तीनों दल) बात पूरी हो गई थी और आज दोपहर दो बिंदुओं पर निर्णय लेने वाले थे, लेकिन उससे पहले ही सब हो गया।

पटेल ने कहा कि महाराष्ट्र के इतिहास में आज एक काला धब्बा है। सब कुछ जल्दबाजी में किया गया है। इससे ज्यादा शर्मनाक कुछ नहीं हो सकता। राज्यपाल ने शिवसेना और एनसीपी को मौका दिया, लेकिन कांग्रेस को मौका नहीं दिया। आज जो हुआ वह संविधान के तहत नहीं हुआ, लोकतंत्र की धज्जियां उड़ाई गई हैं। यह शर्मनाक है। 

 

- कांग्रेस की मुंबई में प्रेस कॉन्फ्रेंस शुरू।

- शिवसेना प्रमुख उद्धव ठाकरे ने कहा कि देश में लोकतंत्र के नाम पर खेल हो रहा है। नई सरकार सदन में बहुमत साबित नहीं कर पाएगी। उन्होंने कहा कि भाजपा लोगों को तोड़ती है और हम लोगों को जोड़ते हैं। शिवसेना जो करती है वो दिन के उजाले में करती है। ये जो खेल चल रहा है वो पूरा देश देख रहा है। 

- शरद पवार ने कहा कि अजित के साथ 11 विधायक गए थे। इसमें दो विधायक प्रेस कॉन्फ्रेंस में आए हैं। हमारे पास नंबर है सरकार हम ही बनाएंगे। अजित पवार पर एक्शन पार्टी की अनुशासनात्मक कमेटी लेगी। 

- शरद पवार ने कहा कि मुझे यकीन है कि राज्यपाल ने उन्हें बहुमत साबित करने का समय दिया है, लेकिन वे इसे साबित नहीं कर पाएंगे। उसके बाद हमारी तीन पार्टियां सरकार बनाएंगी। जैसा हमने पहले तय किया था।

 

- अजित पवार के साथ राजभवन गए विधायक राजेंद्र शिंगने ने कहा, हमें अजित पवार ने फोन किया था। हमें नहीं पता था कि हमें कहां ले जाया जा रहा है। वो विधायक दल के नेता थे तो उनका फोन आया हम चले गए। हमें शपथग्रहण का नहीं पता था। हम शरद पवार के साथ हैं। 

- शरद पवार ने कहा कि अजित कुछ विधायकों के साथ राजभवन गए थे। मुझे अजित पवार के शपथ लेने की खबर सुबह मिली थी। अजित ने खुद भाजपा को समर्थन देने का फैसला किया है, लेकिन हमारा समर्थन बीजेपी को नहीं है। 

- शरद बोले, अजित का निजी फैसला है, जो कि पार्टी के विचार धारा के खिलाफ है। कुछ निर्दलीय विधायक हमारे साथ थे,  कुछ विधायक बीजेपी के साथ गए हैं। बीजेपी के हम सख्त खिलाफ हैं- शरद पवार

- प्रेस कॉन्फ्रेंस में शिवसेना प्रवक्ता संजय राउत और उद्धव ठाकरे के बेटे आदित्य ठाकरे मौजूद हैं। वहीं कांग्रेस ने इस कांफ्रेंस में हिस्सा नहीं लिया।

- शिवसेना-एनसीपी की प्रेस कांफ्रेंस शुरु :

- विधायक दल के नेता पद से हटाए गए अजित पवार। 

- एनसीपी प्रमुख शरद पवार, कांग्रेस नेता मल्लिकार्जुन खड़गे और अहमद पटेल साझा प्रेस कॉन्फ्रेंस के लिए पहुंच चुके हैं। 
 

- कांग्रेस दिग्गज नेता दिग्विजय सिंह ने कहा कि यह संविधान का मजाक बना रहे हैं। बीजेपी ने गोवा, मेघालय और अन्य राज्यों में भी ऐसा ही किया है। एनसीपी का कोई भी विधायक इसका समर्थन नहीं करेगा, अजित अकेले उनके साथ गए हैं। 
 

- एनसीपी नेता नवाब मलिक ने कहा कि ये धोखे से बनाई गई सरकार है और विधानसभा के फ्लोर पर हारेगी। सारे विधायक हमारे साथ हैं। 

 

- एनसीपी प्रमुख शरद पवार ने पार्टी के विधायकों की बैठक बुलाई है। ये बैठक शाम 4.30 बजे होगी। 

 

- कांग्रेस नेता संजय निरुपम ने कहा कि लोग सोच रहे होंगे कि मैं आज के घटनाक्रम से खुश हूं, लेकिन मैं बहुत दुखी हूं। इसमें कांग्रेस को अनावश्यक रूप से बदनाम किया गया। शिवसेना के साथ गठबंधन की सोच एक गलती थी। मैं सोनिया जी से अपील करता हूं कि वे पहले कांग्रेस वर्किंग कमेटी को भंग करें। 

- कांग्रेस पार्टी ने  मुंबई के पार्टी कार्यालय में तत्काल एक बैठक बुलाई है। 

 

- शिवसेना प्रमुख उद्धव ठाकरे और एनसीपी प्रमुख शरद पवार दोपहर 12.30 बजे साझा प्रेस कॉन्फ्रेंस करेंगे।