दैनिक भास्कर हिंदी: Award: मेजर सुमन गवानी को संयुक्त राष्ट्र जेंडर एडवोकेट अवार्ड, पहली बार किसी भारतीय को मिलेगा सम्मान

May 26th, 2020

हाईलाइट

  • मेजर सुमन गवानी को 29 मई को एक ऑनलाइन समारोह में सम्मानित किया जाएगा
  • संयुक्त राष्ट्र जेंडर एडवोकेट अवार्ड पाने वाली पहली भारतीय है मेजर सुमन गवानी

डिजिटल डेस्क, नई दिल्ली। भारतीय सेना की अधिकारी मेजर सुमन गावनी (Major Suman Gawani) को प्रतिष्ठित संयुक्त राष्ट्र सैन्य जेंडर एडवोकेट ऑफ द ईयर अवार्ड (2019) के लिए चुना गया है। सुमन संयुक्त राष्ट्र मिशन के तहत दक्षिण सूडान में तैनात थीं। हाल ही में उन्होंने अपना मिशन पूरा किया है। ऐसा पहली बार है जब किसी भारतीय शांति सैनिक को पुरस्कार दिया जाएगा। उनके साथ ब्राजील की नौसना अधिकारी कमांडर कार्ला मोंटेइरो डे कास्त्रो अरुजो भी अवार्ड प्राप्त करेंगी।

ऑनलाइन समारोह में पुरस्कार प्राप्त करेंगी सुमन
मेजर सुमन सम्मान समारोह के लिए न्यूयॉर्क जाने वाली थी, लेकिन कोरोनावायरस के कारण एक ऑनलाइन समारोह में पुरस्कार प्राप्त करेंगी। दोनों को 29 मई को सम्मानित किया जाएगा। संयुक्त राष्ट्र प्रमुख एंतोनियो गुतारेस ने दोनों अधिकारियों को प्रभावशाली आदर्श बताते हुए कहा कि अपने काम के माध्यम से वे नये विचारों को समाहित करती हैं और समुदायों में विश्वास जगाती हैं।

NBT

टिहरी गढ़वाल के पोखर गांव से हैं सुमन
बता दें मेजन गावनी ने स्कूली शिक्षा उत्तरकाशी में पूरी की और देहरादून के गवर्नमेंट पोस्ट ग्रेजुएट कॉलेज से बैचलर ऑफ एजुकेशन की डिग्री हासिल की। ​​वह टिहरी गढ़वाल के पोखर गांव से हैं। जबकि उनके पिता एक सेवानिवृत्त सरकारी अधिकारी हैं। उनके तीन भाई-बहनों में से दो भारतीय सशस्त्र बलों में सेवारत हैं। वर्तमान में, मेजर गावनी दिल्ली में तैनात हैं।