दैनिक भास्कर हिंदी: अर्थव्यवस्था की हालत चिंताजनक, नोटबंदी-GST से हुआ नुकसान: मनमोहन सिंह

September 1st, 2019

हाईलाइट

  • पूर्व PM मनमोहन सिंह ने इकॉनमी पर चिंता व्यक्त करते हुए मोदी सरकार पर निशाना साधा
  • मनमोहन सिंह ने कहा, सरकार के कुप्रबंधन ने अर्थव्यवस्था को मंदी में ढकेल दिया

डिजिटल डेस्क, नई दिल्ली। देश की बिगड़ती अर्थव्यवस्था को लेकर पूर्व प्रधानमंत्री डॉ. मनमोहन सिंह ने चिंता व्यक्त की है। मंदी की मार से जूझ रही भारतीय अर्थव्यवस्था को लेकर मनमोहन सिंह ने केंद्र की मोदी सरकार पर निशाना साधते हुए कहा है कि, इकॉनमी की हालत काफी चिंताजनक है। पिछली तिमाही में विकास दर 5% यह बताता है कि इकॉनमी में स्लोडाउन चल रहा है। नोटबंदी और जीएसटी की वजह से हमारी इकॉनमी को जो नुकसान हुआ है, उससे हम अभी उबर नहीं पाए हैं।

भारत की गिरती जीडीपी को लेकर अर्थशास्त्री रहे मनमोहन सिंह ने मोदी सरकार के नीतियों को जिम्मेदार ठहराया है। मनमोहन सिंह रविवार को कहा, देश की अर्थव्यवस्था व्यक्ति द्वारा की गई गलतियों से नहीं उबर पाई है, जिसने नोटबंदी और जीएसटी को जल्दबाजी में लागू किया। यह चिंताजनक है कि विनिर्माण क्षेत्र की वृद्धि 0.6% पर आ गई। उन्होंने कहा, भारतीय अर्थव्यवस्था में तेजी से आगे बढ़ने की क्षमता है, लेकिन मोदी सरकार के कुप्रबंधन ने अर्थव्यवस्था को मंदी में ढकेल दिया है। 

पूर्व पीएम ने कहा, घरेलू मांग में निराशा साफ नजर आ रही है। खपत में वृद्धि 18 महीने के सबसे निचले स्तर पर है। नॉमिनल जीडीपी 15 साल के सबसे निचले स्तर पर पहुंच गई है। कर राजस्व में भारी कमी है। निवेशकों में उदासीनता है। यह आर्थिक सुधार की नींव नहीं है।

रोजगार के मुद्दे को लेकर मनमोहन सिंह ने कहा, ऑटोमोबाइल सेक्टर में 3.5 लाख नौकरियां जा चुकी हैं। इसी तरह असंगठित क्षेत्र में भी लोग नौकरियां खो रहे हैं। उन्होंने ये भी कहा कि, ग्रामीण भारत की स्थिति और दयनीय है। किसानों को सही दाम नहीं मिल रहा और ग्रामीण आय गिर गई है। जिस कम महंगाई दर को मोदी सरकार दिखा रही है, उसकी कीमत हमारे किसान और उनकी आय है।