दैनिक भास्कर हिंदी: ... जब मुन्ना बजरंगी ने बीजेपी विधायक के सीने में उतार दी थी 100 गोलियां

July 9th, 2018

डिजिटल डेस्क, लखनई। फिल्मी दुनिया का खुमार हर किसी के सिर पर चढ़ता है। ऐसा ही कुछ प्रेम प्रकाश सिंह के साथ भी था। फिल्मों में विलेन बनने की चाहत ने प्रेम प्रकाश सिंह को कुख्यात मुन्ना बजरंगी बना दिया। मुन्ना का जन्म 1967 में उत्तर प्रदेश के जौनपुर जिले के पूरा दयाल गांव में हुआ था। पिता पारसनाथ सिंह उसे पढ़ा लिखाकर बड़ा आदमी बनाना चाहते थे। मगर प्रेम प्रकाश उर्फ मुन्ना बजरंगी को यह मंजूर नहीं था। मुन्ना को उसके शौकिया मिजाज ने उसे कोई फिल्मस्टार तो नहीं, लेकिन जुर्म की दुनिया का एक ऐसा डॉन बना दिया जिसने भाजपा विधायक के सीने में 100 गोलियों दागकर लोगों में दहशत फैली दी। 

 

 

Related image

 

प्रेम प्रकाश से मुन्ना बनने की कहानी पूरी फिल्मी है। मुन्ना फिल्मों के विलेन की तरह हमेशा अपने साथ एक कट्टा रखता था। महज 17 साल की उम्र में उसके खिलाफ पुलिस ने आपराधिक मुकदमे दर्ज होना शुरू हो गए थे। जौनपुर थाना में उसके खिलाफ अवैध असलहा रखने का पहला मामला दर्ज हुआ। इसके बाद मुन्ना ने कभी पलटकर नहीं देखा और जुर्म के दलदल में धंसता चला गया। धीरे-धीरे मुन्ना के सिर पर जुर्म का बादशाह बनने का जुनून सवार होने लगा था। वो दुनिया का डॉन बनना चाहता था, इसलिए उसने जौनपुर के स्थानीय दबंग माफिया गजराज सिंह का संरक्षण हासिल कर लिया था। मुन्ना ने गजराज के लिए काम करना शुरू कर दिया था। बदले में मुन्ना को गजराज ने पैसा और आधुनिक हथियार दिए। गजराज के कहने पर मुन्ना ने कई हत्या की सबसे पहले उसने 1984 में लूट के लिए एक व्यापारी की हत्या की थी। खून देखकर उसका चेहरा खिल जाता था| 

 

 

Image result for मुख्तार अंसारी

 

भाजपा विधायक के सीने में दागी थी 100 गोलियां 
पूर्वांचल में सरकारी ठेकों और वसूली के कारोबार करने वाले मुख्तार अंसारी के कहने पर मुन्ना बजरंगी ने भाजपा विधायक कृष्णानंद राय की हत्या की थी। विधायक कृष्णानंद अपने दौर के तेजी से उभरते विधायक थे। विधायक कृष्णानंद मुख्तार अंसारी के दुश्मन ब्रिजेश सिंह के खास थे, इसलिए मुख्तार ने विधायक की हत्या का जिम्मा बजरंगी को दिया। मुख्तार से फरमान मिल जाने के बाद मुन्ना बजरंगी ने भाजपा विधायक कृष्णानंद राय को खत्म करने की साजिश रची। 29 नवंबर 2005 को माफिया डॉन मुख्तार अंसारी के कहने पर मुन्ना बजरंगी ने कृष्णानंद राय को दिन दहाड़े मौत की नींद सुला दिया। उसने अपने साथियों के साथ लखनऊ हाइवे पर कृष्णानंद राय की दो गाड़ियों पर AK47 से 400 गोलियां बरसाई थी। करीब 100 गोलियां कृष्णानंद के सीने में दागी गई थी। जिनमें पचास से ज्यादा गोलियां तो पोस्टमॉर्टम के दौरान निकाली गई थी। 

 

 

Image result for भाजपा विधायक कृष्णानंद राय

 

भाजपा नेता रामचन्द्र सिंह की हत्या
मुन्ना बजंरगी ने दबंग माफिया गजराज के इशारे पर भाजपा नेता रामचन्द्र की बेहरमी से हत्या कर दी थी। रामचन्द्र सिंह उस दौरे में दबंग माफिया गजराज सिंह के गले की फांस बना हुआ था। गजराज के सारे काले करनामों की खबर रामचन्द्र को थी। इसलिए अपने रास्ते से रामचन्द्र को हटाने के लिए गजराज ने मुन्ना को इसकी जिम्मेदारी सौंपी और बजरंगी ने रामचन्द्र को मौत के घाट उतार दिया।  

 

Image result for मुन्ना बजरंगी

 

40 से ज्यादा हत्याओं का आरोपी था मुन्ना
मुन्ना बजरंगी के खिलाफ उत्तरप्रदेश के ज्यादातर थानों में आपराधिक मामले दर्ज हैं। 20 साल के आपराधिक जीवन में मुन्ना ने 40 से ज्यादा मर्डर किए। जिनमें दो भाजपा के दबंग नेता भी शामिल रहे। खौफ का पर्याय रहे मुन्ना बजरंगी की हत्या से उसका खौफ आज खत्म हो गया। पुलिस और कानून भले ही उसको सजा न दे पाए लेकिन बागपत जेल के अंदर अपराधियों ने उसे सजा दे दी। 

 

Image result for हत्या उत्तर प्रदेश मुन्ना बजरंगी

 

 

सात लाख का इनामी था मुन्ना
भाजपा विधायक की हत्या के अलावा कई मामलों में उत्तर प्रदेश पुलिस, एसटीएफ और सीबीआई को मुन्ना बजरंगी की तलाश थी, इसलिए उस पर सात लाख रुपये का इनाम भी घोषित किया गया। उस पर हत्या, अपहरण और वसूली के कई मामलों में शामिल होने के आरोप हैं। उसके ऊपर करीब 40 हत्याओं के मामले दर्ज हैं। वह अपना लगातार लोकेशन बदलता रहा। पुलिस का दबाव भी बढ़ता जा रहा था।

 

 

Image result for मुन्ना बजरंगी

 

अंडरवर्ल्ड जाने के लिए मुंबई में ली पनाह
यूपी पुलिस और एसटीएफ लगातार मुन्ना बजरंगी को तलाश कर रही थी। उसका यूपी और बिहार में रह पाना मुश्किल हो गया था। उसने खुद को अंडरवर्ल्ड में जाने का मन बना लिया था| वह मुंबई पहुंच गया। उसने एक लंबा अरसा वहीं गुजारा। इस दौरान उसका कई बार विदेश जाना भी होता रहा। उसके अंडरवर्ल्ड के लोगों से रिश्ते भी मजबूत होते जा रहे थे। वह मुंबई से ही फोन पर अपने लोगों को दिशा निर्देश दे रहा था।

 

 

Image result for मुन्ना बजरंगी गिरफ्तार

 

राजनीति में भी जाना चाहता था मुन्ना
मुन्ना ने लोकसभा चुनाव में गाजीपुर लोकसभा सीट पर अपना डमी उम्मीदवार खड़ा करने की कोशिश की। मुन्ना बजरंगी एक महिला को गाजीपुर से भाजपा का टिकट दिलवाने की कोशिश कर रहा था, लेकिन कामयाबी नहीं मिली| बीजेपी से निराश होने के बाद मुन्ना बजरंगी ने कांग्रेस का दामन थामा। वह कांग्रेस के एक कद्दावर नेता की शरण में चला गया। कांग्रेस के वह नेता भी जौनपुर जिले के रहने वाले थे, मगर मुंबई में रहकर सियासत करते थे। मुन्ना बजरंगी ने महाराष्ट्र विधानसभा चुनाव में नेता जी को सपोर्ट भी किया था। बजरंगी और उसकी पत्नी ने 2012 और 2017 में जौनपुर की मड़ियाहूं सीट से निर्दलीय कैंडिडेट के तौर पर यूपी विधानसभा का चुनाव भी लड़ा था।

 

Related image

 

मुंबई से हुई थी गिरफ्तारी 
उत्तर प्रदेश समेत कई राज्यों में मुन्ना बजरंगी के खिलाफ मुकदमे दर्ज थे। वह पुलिस के लिए परेशानी का सबब बन चुका था। उसके खिलाफ सबसे ज्यादा मामले उत्तर प्रदेश में दर्ज हैं, लेकिन 29 अक्टूबर 2009 को दिल्ली पुलिस ने मुन्ना को मुंबई के मलाड इलाके में नाटकीय ढंग से गिरफ्तार कर लिया था। माना जाता है कि मुन्ना को अपने एनकाउंटर का डर सता रहा था, इसलिए उसने खुद एक योजना के तहत दिल्ली पुलिस से अपनी गिरफ्तारी कराई थी।

 

 

Image result for मुन्ना बजरंगी गिरफ्तार

 

गिरफ्तारी पर रहा विवाद
मुन्ना की गिरफ्तारी के इस ऑपरेशन में मुंबई पुलिस को भी ऐन वक्त पर शामिल किया गया था। बाद में दिल्ली पुलिस ने कहा था कि दिल्ली के विवादास्पद एनकाउंटर स्पेशलिस्ट राजबीर सिंह की हत्या में मुन्ना बजरंगी का हाथ होने का शक है। इसलिए उसे गिरफ्तार किया गया। तब से उसे अलग-अलग जेलों में रखा जा रहा था। इस दौरान उसके जेल से लोगों को धमकाने, वसूली करने जैसे मामले भी सामने आते रहे हैं।

 

 

Related image

 

जेल में हुआ खौफ का अंत
बागपत जेल में मुन्ना बजरंगी का खौफ खत्म हो चुका है। उसको गोली माकर मौत के घाट उतार दिया गया है। जिला प्रशासन इसकी तहकीकात कर रहा है कि आखिर जेल में हथियार कैसे पहुंच गया। कई जज और इलाहाबाद कोर्ट के वकील तक बागपत जेल पहुंच चुके हैं।

 

 

Image result for मुन्ना बजरंगी