दैनिक भास्कर हिंदी: मनोहर पर्रिकर का 63 साल की उम्र में निधन, लंबे समय से चल रहे थे बीमार

March 18th, 2019

हाईलाइट

  • लंबे समय से बीमार चल रहे गोवा के मुख्यमंत्री मनोहर पर्रिकर की हालत बेहद गंभीर है।
  • डॉक्टर उनकी हालत में सुधार के लिए पूरी कोशिश कर रहे हैं।
  • CMO गोवा के ट्विटर हैंडर से ट्वीट कर ये जानकारी दी गई है।

डिजिटल डेस्क, पणजी। लंबे समय से बीमार चल रहे गोवा के मुख्यमंत्री मनोहर पर्रिकर का रविवार को उनके पणजी स्थित निवास पर निधन हो गया। कैंसर से पीड़ित पर्रिकर 63 साल के थे। पर्रिकर की हालत बिगड़ने के बाद डॉक्टरों की टीम उनकी हालत पर नजर रखी हुई थी और सुधार की पूरी कोशिश कर रही थी, लेकिन उन्हें बचाया नहीं जा सका।केंद्र सरकार ने गोवा के मुख्यमंत्री मनोहर पर्रिकर के निधन पर 18 मार्च को राष्ट्रीय शोक की घोषणा की है। राजकीय सम्मान के साथ उनका अंतिम संस्कार किया जाएगा। इस दौरान राष्ट्रीय राजधानी, राज्यों की राजधानियों और केंद्र शासित प्रदेशों में राष्ट्रीय ध्वज झुका हुआ रहेगा। मनोहर पर्रिकर के निधन पर शोक जताने के लिए सोमवार को 11 बजे कैबिनेट की बैठक रखी गई है। राजनीति, सिनेमा, खेल और कला जगत से जुड़ी हस्तियों ने उनके निधन पर गहरा दुख जताया है। 

- राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद ने ट्वीट कर कहा, गोवा के मुख्यमंत्री मनोहर पर्रिकर के निधन के बारे में सुनकर अत्यंत दुख हुआ, जो लंबे समय से बीमार चल रहे थे। उन्होंने कहा, पर्रिकर सार्वजनिक जीवन में ईमानदारी और समर्पण का एक प्रतीक है। गोवा और भारत के लोगों के लिए उनकी सेवा को कभी नहीं भुलाया जा सकता।

- प्रधानमंत्री नेरेन्द्र मोदी ने कहा, 'मनोहर पर्रिकर एक अद्वितीय नेता थे। एक सच्चे देशभक्त और असाधारण प्रशासक, वह सभी की प्रशंसा करते थे। राष्ट्र के प्रति उनकी त्रुटिहीन सेवा को पीढ़ियों द्वारा याद किया जाएगा। उनके निधन से गहरा दुख हुआ। उनके परिवार और समर्थकों के प्रति संवेदना।'

- विदेश मंत्री सुषमा स्वराज ने कहा, 'मनोहर पर्रिकर जी के देहांत का समाचार सुनकर बहुत दुःख हुआ। हालाँकि वो बहुत समय से बीमार थे तो भी मन इसके लिए तैयार नहीं था कि वह हमें इतनी जल्दी छोड़ जायेंगे। मेरे लिए तो वो भाई की तरह थे इसलिए उनका निधन मेरे लिए व्यक्तिगत क्षति है।'

-बीजेपी प्रेसिडेंट अमित शाह ने कहा, 'संपूर्ण भाजपा पर्रिकर जी के परिवार के साथ मजबूती से खड़ी है। मैं लाखों भाजपा कार्याकर्ताओं के साथ और महत्वपूर्ण रूप से गोवा के लोगों के साथ, जो उनका परिवार थे, अपनी गहरी संवेदना व्यक्त करता हूं। भगवान इस दुखद घड़ी का सामना करने के लिए शोक संतप्त परिवार को शक्ति दे। शांति शांति शांति।'

-कांग्रेस प्रेसिडेंट राहुल गांधी ने कहा कि 'गोवा के सीएम मनोहर पर्रिकर जी के निधन की खबर से मुझे गहरा दुख हुआ है, जिन्होंने एक साल से अधिक समय तक हिम्मत के साथ बीमारी का सामना किया। इस दुख की घड़ी में उनके परिवार के प्रति मेरी संवेदना हैं।' 

-विपक्ष के नेता मल्लिकार्जुन खड़गे ने कहा, 'मनोहर पर्रिकर एक अच्छे इंसान थे। उनके निधन से राजनीति में बहुत बड़ा गैप आ गया है। हमने एक अच्छा राजनीतिज्ञ खो दिया है। उनके निधन से बहुत दुःख हुआ है। मैं अपना दुख व्यक्त करता हूं और मैं अपनी पार्टी और अपनी ओर से श्रद्धांजलि अर्पित करता हूं।'

-केन्द्रीय मंत्री वीके सिंह ने कहा कि 'पर्रिकर के निधन से खाली हुई जगह को कभी नहीं भरा जा सकता है। उन्होंने कहा कि वे एक ऐसे नेता थे जो कठिन समस्याओं का प्रैक्टिकल समाधान लेकर आते थे। गोवा और भारत ने आज एक महान सपूत को खो दिया है। रेस्ट इन पीस मेरे प्रिय मित्र। ऊँ शान्ति शान्ति।'

-सांसद किरण खेर ने कहा, 'बहुत ही भारी मने के साथ भारत के सबसे महान नेताओं में से एक को अलविदा कहना पड़ रहा है। रेस्ट इन पीस मनोहर पर्रिकर। राष्ट्र के प्रति आपकी ईमानदारी के लिए आपको हमेशा याद किया जाएगा!'

-नेशनल कॉन्फ्रेंस के उपाध्यक्ष और जम्मू-कश्मीर के पूर्व मुख्यमंत्री उमर अब्दुल्ला ने कहा कि मनोहर पर्रिकर साहब के परिवार, दोस्तों और सहयोगियों के प्रति मेरी हार्दिक संवेदना। उनके असामयिक निधन से जो जगह खाली हुई है उसे भरना मुश्किल होगा। उनकी आत्मा को शांति मिले।

-पूर्व क्रिकेटर वीरेंद्र सहवाग ने भी पर्रिकर के निधन पर शोक जताया है, उन्होंने कहा, मनोहर पर्रिकर जी के निधन पर संवेदना। ऊँ शांति।

- उत्तर प्रदेश के पूर्व मुख्यमंत्री अखिलेश यादव ने कहा कि लंबे वक्त से बीमार चल रहे गोवा के मुख्यमंत्री श्री मनोहर पर्रिकर जी का जाना दुखद! ईश्वर उनकी आत्मा को शांति एवं परिवार को शक्ति दे। राजनीतिक जीवन में उनका योगदान सदैव स्मरणीय रहेगा। शत् शत् नमन!

पैनक्रियाटिक कैंसर से पीड़ित थे पर्रिकर
बता दें कि पर्रिकर का जन्म गोवा के मापुसा में 13 दिसंबर 1955 को हुआ था। 63 वर्षीय पर्रिकर पिछले एक साल से पैनक्रियाटिक कैंसर से पीड़ित थे। 15 फरवरी 2018 को पेटदर्द की शिकायत के बाद उन्हें गोवा के मेडिकल कॉलेज एंड हॉस्पिटल में एडमिट किया गया था, लेकिन बाद में डॉक्टर्स की सलाह पर उन्हें मुंबई के लीलावती हॉस्पिटल ले जाया गया था। 22 फरवरी को उन्हें छुट्टी दी गई थी। इसके बाद उन्होंने राज्य का बजट भी पेश किया था। हालांकि कैंसर डिटेक्ट होने के बाद पर्रिकर इलाज के लिए अमेरिका चले गए थे। 14 जून 2018 को वह अमेरिका से लौटे थे। इसके बाद उनकी रेगुलर मेडिकल जांच चलती रही। 31 जनवरी को उन्हें अखिल भारतीय आयुर्विज्ञान संस्थान (एम्स) में भर्ती कराया गया था। हालांकि उन्हें कुछ ही दिनों में डिस्चार्ज कर दिया गया। 3 मार्च को पर्रिकर ने गोवा मेडिकल कॉलेज और अस्पताल (जीएमसीएच) में चेक-अप कराया था।

तीन बार रहे गोवा के मुख्यमंत्री
14 मार्च 2017 को पर्रिकर ने गोवा के मुख्यमंत्री का पद संभाला था। इससे पहले भी वह 2000 से 2005 तक और फिर 2012 से 2014 तक गोवा के मुख्यमंत्री रहे हैं। 2014 में एनडीए की सरकार बनेने के बाद प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने उन्हें केंद्र में बुलाया था। मुख्यमंत्री पद से इस्तीफा देकर उन्होंने रक्षा मंत्री का पदभार ग्रहण किया था। 1994 में पर्रिकर ने बीजेपी की सीट से गोवा की पणजी सीट से विधानसभा चुनाव लड़ा और उन्हें इसमें जीत भी मिली।

खबरें और भी हैं...