comScore

एम्स में भर्ती गोवा CM मनोहर पर्रिकर, धवलीकर हो सकते हैं नए सीएम

September 16th, 2018 16:00 IST

हाईलाइट

  • मनोहर पर्रिकर की तबीयत बिगड़ी, एम्स में इलाज के लिए आज आएंगे दिल्ली
  • गोवा सीएम पर्रिकर के जगह मंत्री धवलीकर को मिल सकती है जिम्मेदारी
  • मनोहर पर्रिकर ने अमित शाह और पीएम मोदी से फोन पर बातचीत कर मांगा 6 महीने का रेस्ट

डिजिटल डेस्क, नई दिल्ली। गोवा के मुख्यमंत्री मनोहर पर्रिकर जल्द सीएम पद छोड़ सकते है। खबर है कि पर्रिकर लंबे समय से अग्नाशय से जुड़ी बीमारी से जूझ रहे हैं। जिसकी वजह से पर्रिकर ने 6 महीनों के लिए अस्थाई रूप से पद छोड़ने की इच्छा जताई है। पर्रिकर अपने इलाज के लिए आज दिल्ली एम्स में भर्ती हो गए हैं। उन्हें इलाज के लिए विशेष विमान के जरिए दिल्ली लाया गया है। यहां डॉक्टरों की विशेष टीम उनका इलाज करेगी।  

मनोहर पर्रिकर ने प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी और पार्टी अध्यक्ष अमित शाह से फोन पर बात कर अनुरोध किया था कि राज्य के नेतृत्व के लिए वैकल्पिक व्यवस्था कराई जाए, क्योंकि बीमारी के चलते वो सीएम पद पर बने रहने में 'असक्षम' हैं। इससे पहले 6 सिंतबर को पर्रिकर अमेरिका से इलाज करवाने के बाद स्वेदश से लौटे थे, लेकिन उन्होंने अब तक ऑफिस ज्वाइन नहीं किया है।पिछली बार जब पर्रिकर इलाज कराने के लिए विदेश गए थे तब उन्होंने 3 मंत्रियों को राज्य से जुड़े मामले देखने की जिम्मेदारी दी थी, लेकिन आखिरी फैसला वो खुद ले रहे थे। गोवा विधानसभा के डिप्टी स्पीकर माइकल लोबो ने कहा कि मनोहर पर्रिकर दोपहर 1 बजे दिल्ली के एम्स पहुंचेंगे। 

मनोहर पर्रिकर अब तक तीन बार इलाज के लिए अमेरिका जा चुके हैं लेकिन हालत में कोई सुधार नहीं हुआ है। पर्रिकर अपनी बीमारी को लेकर पीएम मोदी और भाजपा राष्ट्रीय अध्यक्ष अमित शाह के संपर्क में हैं। जानकारी के मुताबिक पर्रिकर ने अमित शाह से शुक्रवार को फोन पर बातचीत की थी। इस दौरान उन्होंने दिल्ली एम्स में भर्ती होने और सीएम पद को छोड़ने की इच्छा जताई। इसके बाद बीजेपी का केंद्रीय नेतृत्व पर्रिकर के एक अस्थायी विकल्प की खोज में जुट गया है। पार्टी विजय पुराणिक को पर्यवेक्षक बनाकर भेज रही है। ऑर्गनाइजिंग सेक्रटरी बीएल संतोष भी गोवा जा रहे हैं। 

धवलीकर को मिल सकती है कमान 
सूत्रों की मानें तो गोवा में बीजेपी सरकार की सहयोगी पार्टी महाराष्ट्रवादी गोमांतक पार्टी के रामकृष्ण सुदीन धवलीकर को अस्थायी तौर पर सीएम का चार्ज दिया जा सकता है। पर्रिकर कैबिनेट में अभी सबसे वरिष्ठ मंत्री धवलीकर ही हैं। कुछ दिन पहले पर्रिकर ने बातचीत के लिए धवलीकर बुलाया था लेकिन लीडरशिप को लेकर कोई बात नहीं हुई। हालांकि इस संबंध में अभी कोई फैसला नहीं लिया गया है कि पर्रिकर की जगह बीजेपी किस को कार्यभार सौंपेंगी। 

कमेंट करें
E98V5