comScore

सरकार का बड़ा कदम, 18 अलगाववादी नेताओं की हटाई सुरक्षा

February 21st, 2019 16:10 IST
सरकार का बड़ा कदम, 18 अलगाववादी नेताओं की हटाई सुरक्षा

हाईलाइट

  • सरकार ने यासीन मलिक समेत 18 और अलगाववादी नेताओं और 155 राजनीतिक व्यक्तियों की सुरक्षा हटा दी है।
  • इनमें आईएएस अधिकारी रहे शाह फैजल और वाहिद पर्रा भी शामिल हैं।
  • इससे पहले 17 फरवरी को सरकार ने 5 अलगाववादी नेताओं की सुरक्षा हटा दी थी।

डिजिटल डेस्क, जम्मू। जम्मू-कश्मीर के पुलवामा में हुए आतंकी हमले के बाद जहां मोदी सरकार ने बड़ा कदम उठाते हुए पांच अलगाववादी नेताओं की सुरक्षा हटा दी थी। वहीं अब बुधवार को सरकार ने यासीन मलिक समेत 18 और अलगाववादी नेताओं और 155 राजनीतिक व्यक्तियों की सुरक्षा हटा दी है। इनमें आईएएस अधिकारी रहे शाह फैजल और वाहिद पर्रा भी शामिल हैं।

जिन अलगाववादी नेताओं की सुरक्षा हटाई गई है उनमें सैयद अली गिलानी, आगा सैयद मोसवी, मौलवी अब्बास अंसारी, यासीन मलिक, सलीम गिलानी, शहीद उल इस्लाम, जफर अकबर भट, नईम अहमद खान, मुख्तार अहमद वाजा, फारूक अहमद किचलू, मसरूर अब्बास अंसारी, आगा सैयद अबुल हुसैन, अब्दुल गनी शाह और मोहम्मद मुसद्दिक भट शामिल है। गृह मंत्रालय के मुताबिक, सरकार के इस फैसले के बाद 1000 से अधिक पुलिसकर्मी और 100 से अधिक सरकारी गाड़ियां फ्री हो जाएंगी।

इससे पहले 17 फरवरी को सरकार ने अलगाववादी नेता मीरवाइज उमर फारूक, प्रोफेसर अब्दुल गनी भट, बिलाल लोन, हाशिम कुरैशी और शबीर अहमद की सुरक्षा हटा दी थी। इन नेताओं पर कश्मीर के युवकों को भटकाने, आतंक के रास्ते पर धकलने का आरोप लगते रहे हैं। लंबे समय से सरकार इन सुरक्षा हटाने पर विचार भी कर रही थी। 

बता दें कि बता दें कि 14 फरवरी को पुलवामा में आतंकियों ने CRPF की एक बस को अपना निशाना बनाया था। आतंकियों के इस हमले में 40 जवान शहीद हो गए थे। हमले की जिम्मेदारी आतंकी संगठन जैश-ए-मोहम्मद ने ली थी।  इस हमले की जांच के लिए सरकार ने NIA की 12 सदस्यीय टीम का भी गठन किया है। ये टीम लेथीपोरा पहुंची थी और घटनास्थल से तमाम सबूत इकट्ठा किए थे।  

कमेंट करें
j7Xbw
NEXT STORY

Tokyo Olympics 2020:  इस बार दिखेगा भारत के 120 खिलाड़ियों का दम, 18 खेलों में करेंगे शिरकत

Tokyo Olympics 2020:  इस बार दिखेगा भारत के 120 खिलाड़ियों का दम, 18 खेलों में करेंगे शिरकत

डिजिटल डेस्क, नई दिल्ली। टोक्यो ओलंपिक का काउंटडाउन शुरु हो चुका हैं। 23 जुलाई से शुरु होने जा रहे एथलेटिक्स त्यौहार में भारतीय दल इस बार 120 खिलाड़ियों के साथ 18 खेलों में दावेदारी पेश करेगा। बता दें 81 खिलाड़ियों के लिए यह पहला ओलंपिक होगा। 120 सदस्यों के इस दल में मात्र दो ही खिलाड़ी ओलंपिक पदक विजेता हैं। पी.वी सिंधू ने 2016 रियो ओलंपिक में सिल्वर तो वहीं मैराकॉम ने 2012 लंदन ओलंपिक में ब्रॉन्ज मेडल अपने नाम किया था।

भारत पहली बार फेंनसिग में चुनौता पेश करेगा। चेन्नई की भवानी देवी पदक की दावेदारी पेश करेंगी। भारत 20 साल के बाद घुड़सवारी में वापसी कर रहा है, बेंगलुरु के फवाद मिर्जा तीसरे ऐसे घुड़सवार हैं जो ओलंपिक में भारत का प्रतिनिधित्व करेंगे। 

olympic

युवा कंधो पर दारोमदार

टोक्यो ओलंपिक में भाग लेने जा रहे भारतीय दल में अधिकतर खिलाड़ी युवा हैं। 120 खिलाड़ियों में से 103 खिलाड़ी 30 से भी कम आयु के हैं। मात्र 17 खिलाड़ी ही 30 से ज्यादा उम्र के होंगे। 

भारतीय दल में 18-25 के बीच 55, 26-30 के बीच 48, 31-35 के बीच 10 तो वहीं 35+ उम्र के 7 खिलाड़ी हिस्सा ले रहे हैं। इस लिस्ट में सबसे युवा 18 साल के दिव्यांश सिंह पंवार हैं, जो शूटिंग में चुनौता पेश करेंगे, तो वहीं सबसे उम्रदराज 45 साल के मेराज अहमद खान होंगे जो शूटिंग में ही पदक के लिए भी दावेदार हैं।