comScore

© Copyright 2019-20 : Bhaskarhindi.com. All Rights Reserved.

दिल्ली के प्रदूषण को लेकर हाई-लेवल मीटिंग, कैबिनेट सेक्रेटरी रोजाना रखेंगे हालात पर नजर

दिल्ली के प्रदूषण को लेकर हाई-लेवल मीटिंग, कैबिनेट सेक्रेटरी रोजाना रखेंगे हालात पर नजर

हाईलाइट

  • पीएम मोदी के प्रिंसिपल सेक्रेटरी ने दिल्ली के प्रदूषण संकट को लेकर बैठक की
  • यह बैठक वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग के माध्यम से की गई
  • बैठक में दिल्ली, पंजाब और हरियाणा के अधिकारी भी शामिल हुए

डिजिटल डेस्क, नई दिल्ली। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के प्रिंसिपल सेक्रेटरी पी.के. मिश्रा ने रविवार को दिल्ली के प्रदूषण संकट को लेकर उच्च स्तरीय बैठक की। यह बैठक वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग के माध्यम से की गई जिसमें दिल्ली, पंजाब और हरियाणा के अधिकारी भी शामिल हुए। बैठक में तय किया गया है कि कैबिनेट सेक्रेटरी राजीव गौबा प्रदूषण के हालात पर लगातार नजर रखेंगे। पंजाब, हरियाणा और दिल्ली के मुख्य सचिवों को हर रोज अपने-अपने राज्यों के जिलों में प्रदूषण के हालात पर लगातार मॉनिटर करने के लिए भी कहा गया है।

प्रदूषण से निपटने से लिए 300 टीमें बनाई गई है। ये टीमें लगातार काम कर रही है। राष्ट्रीय राजधानी क्षेत्र (NCR) में 7 औद्योगिक समूहों और प्रमुख यातायात गलियारों पर मुख्य ध्यान केंद्रित किया गया है। केंद्र निर्माण गतिविधियों के अलावा प्रदूषण फैलाने वाली यूनिट्स और कचरे को जलाने पर कड़ी नजर रखे हुए है। इससे पहले 24 अक्टूबर को प्रिंसिपल सेक्रेटरी ने स्थिति की समीक्षा की थी।

बता दें कि सिस्टम ऑफ एयर क्वालिटी एंड वेदर फोरकास्टिंग एंड रिसर्च (SAFAR) के आंकड़ों के अनुसार इस सीजन में पहली बार रविवार को दिल्ली में एयर क्वालिटी इंडेक्स (AQI) हल्की बूंदाबांदी के बावजूद सुबह 10 बजे 625 के उच्च स्तर पर पहुंच गया। धीरपुर में, AQI 509 था, जबकि दिल्ली विश्वविद्यालय क्षेत्र में यह 591 था। दिल्ली के प्रसिद्ध चांदनी चौक क्षेत्र में, AQI 432 दर्ज किया गया जबकि लोधी रोड में यह 537 था। सुबह 10.35 बजे, नोएडा का एयर क्वालिटी इंडेक्स 487 था, जबकि ग्रेटर नोएडा का स्तर 470 था।

नोएडा और ग्रेटर नोएडा में कक्षा 12 तक के सभी सरकारी और निजी स्कूलों को 4 और 5 नवंबर को गौतमबुद्ध नगर प्रशासन ने प्रदूषण स्तर में स्पाइक के मद्देनजर बंद रहने का आदेश दिया है। प्रशासन ने कहा कि दिवाली के बाद से पार्टिकुलेट मैटर 2.5 और 10 का स्तर हवा में अत्यधिक हो गया है, जिसके कारण ओवरऑल एयर क्वालिटी में बड़ी गिरावट आई है।

लो विजिबिलिटी (करीब 300 मीटर) के कारण, दिल्ली के इंदिरा गांधी इंटरनेशनल एयरपोर्ट पर  कई उड़ानें डायवर्ट कर दी गई। एयरपोर्ट की तरफ से जारी बयान में कहा गया, 'खराब मौसम के कारण, दिल्ली एयरपोर्ट के टर्मिनल-3 पर सुबह 9 बजे से फ्लाइट ऑपरेशन प्रभावित हुआ। लो विजिबिलिटी के कारण, 32 उड़ानों को डायवर्ट किया गया है।'

उधर, पंजाब व हरियाणा में पराली जलाना जारी है। दोनों राज्यों में रविवार को धुंध की परत छाई रही, इसके साथ ही पीएम 2.5 का स्तर काफी ज्यादा हो गया है और कई जगहों पर यह 800 पार हो गया है। पीएम 2.5, हवा में छोटे कण होते हैं जो दृश्यता को घटाते है और इसके स्तर के ज्यादा होने से धुंध बनती है।

औद्योगिक शहर मंडी गोबिंदगढ़ में सुबह 7.30 बजे पीएम 2.5 एक्यूआई 844 पर था, जो राज्य में सबसे खराब था। वेबसाइट ब्रीजो के अनुसार, तुलनात्मक तौर पर इसके पड़ोसी औद्योगिक हब लुधियाना में दिन में सबसे ज्यादा 241 पर रहा। यह 24 घंटे में सबसे ज्यादा था।

एक अन्य शहर पटियाला में दिन के उच्च स्तर 223 पर रहा, जबकि राजधानी चंडीगढ़ में वायु गुणवत्ता 182 के साथ मध्यम रही। चंडीगढ़ में पीएम 2.5 का निचला स्तर सुबह 6.30 बजे 48 पर रहा।

पवित्र नगरी अमृतसर में यह 183 पर रहा, जबकि इसका उच्चतम स्तर 206 रहा। चंडीगढ़ के भारत मौसम विज्ञान विभाग के अनुसार, पश्चिमी विक्षोभ के प्रभाव के कारण पंजाब व हरियाणा में 7 व 8 नवंबर को छिटपुट बारिश होने की संभावना है, जिससे धुंध से राहत मिल सकती है।

कमेंट करें
YuS2a
NEXT STORY

Real Estate: खरीदना चाहते हैं अपने सपनों का घर तो रखे इन बातों का ध्यान, भास्कर प्रॉपर्टी करेगा मदद

Real Estate: खरीदना चाहते हैं अपने सपनों का घर तो रखे इन बातों का ध्यान, भास्कर प्रॉपर्टी करेगा मदद

डिजिटल डेस्क, जबलपुर। किसी के लिए भी प्रॉपर्टी खरीदना जीवन के महत्वपूर्ण कामों में से एक होता है। आप सारी जमा पूंजी और कर्ज लेकर अपने सपनों के घर को खरीदते हैं। इसलिए यह जरूरी है कि इसमें इतनी ही सावधानी बरती जाय जिससे कि आपकी मेहनत की कमाई को कोई चट ना कर सके। प्रॉपर्टी की कोई भी डील करने से पहले पूरा रिसर्च वर्क होना चाहिए। हर कागजात को सावधानी से चेक करने के बाद ही डील पर आगे बढ़ना चाहिए। हालांकि कई बार हमें मालूम नहीं होता कि सही और सटीक जानकारी कहा से मिलेगी। इसमें bhaskarproperty.com आपकी मदद कर सकता  है। 

जानिए भास्कर प्रॉपर्टी के बारे में:
भास्कर प्रॉपर्टी ऑनलाइन रियल एस्टेट स्पेस में तेजी से आगे बढ़ने वाली कंपनी हैं, जो आपके सपनों के घर की तलाश को आसान बनाती है। एक बेहतर अनुभव देने और आपको फर्जी लिस्टिंग और अंतहीन साइट विजिट से मुक्त कराने के मकसद से ही इस प्लेटफॉर्म को डेवलप किया गया है। हमारी बेहतरीन टीम की रिसर्च और मेहनत से हमने कई सारे प्रॉपर्टी से जुड़े रिकॉर्ड को इकट्ठा किया है। आपकी सुविधाओं को ध्यान में रखकर बनाए गए इस प्लेटफॉर्म से आपके समय की भी बचत होगी। यहां आपको सभी रेंज की प्रॉपर्टी लिस्टिंग मिलेगी, खास तौर पर जबलपुर की प्रॉपर्टीज से जुड़ी लिस्टिंग्स। ऐसे में अगर आप जबलपुर में प्रॉपर्टी खरीदने का प्लान बना रहे हैं और सही और सटीक जानकारी चाहते हैं तो भास्कर प्रॉपर्टी की वेबसाइट पर विजिट कर सकते हैं।

ध्यान रखें की प्रॉपर्टी RERA अप्रूव्ड हो 
कोई भी प्रॉपर्टी खरीदने से पहले इस बात का ध्यान रखे कि वो भारतीय रियल एस्टेट इंडस्ट्री के रेगुलेटर RERA से अप्रूव्ड हो। रियल एस्टेट रेगुलेशन एंड डेवेलपमेंट एक्ट, 2016 (RERA) को भारतीय संसद ने पास किया था। RERA का मकसद प्रॉपर्टी खरीदारों के हितों की रक्षा करना और रियल एस्टेट सेक्टर में निवेश को बढ़ावा देना है। राज्य सभा ने RERA को 10 मार्च और लोकसभा ने 15 मार्च, 2016 को किया था। 1 मई, 2016 को यह लागू हो गया। 92 में से 59 सेक्शंस 1 मई, 2016 और बाकी 1 मई, 2017 को अस्तित्व में आए। 6 महीने के भीतर केंद्र व राज्य सरकारों को अपने नियमों को केंद्रीय कानून के तहत नोटिफाई करना था।