दैनिक भास्कर हिंदी: सूरत रेप केस: गुजरात सरकार ने CBI को सौंपा केस, रिपोर्ट में चौंकाने वाला खुलासा

April 17th, 2018

डिजिटल डेस्क, सूरत। देश में निर्भया कांड के बाद एक कठोर कानून लागू तो हुआ था, लेकिन उस कानून की धज्जियां कब उड़ गई, खुद कानून बनाने वालों को भी नहीं पता चला। बलात्कार जैसे अपराधों में न तो कमी आई और न बलात्कार करने वालें लोगों की संख्या में, बीते दिनों में लगातार रेप की घटनाएं प्रकाश में आई हैं। कठुआ, रोहतक, हापुड़, ऐटा जैसे शहरों में मासूम बच्चियों को निशाना बनाया गया। बीते दिनों सूरत में भी 11 साल की एक बच्ची से रेप के बाद उसकी हत्या कर दी गई थी। बच्ची का शव 10 दिन बाद जंगल से बरामद किया गया। 


बच्ची के शिनाख्त नहीं हो पाई

सूरत रेप मामले में पोस्टमार्टम में बच्ची के शरीर पर 86 जख्म के निशान पाए गए थे। इस घटना को अंजाम देने वाले आरोपी अभी भी पुलिस की गिरफ्त से दूर हैं। इस मामले को अब सीबीआई के हवाले कर दिया गया है। पुलिस ने बच्ची की पहचान में मदद के लिए अपील जारी की है, जिसकी उम्र 9 से 13 साल बताई जाती है। वहीं बच्‍ची के शव को शवगृह में रखा गया है। बता दें कि पोस्टमार्टम रिपोर्ट में इस बात का भी खुलासा हुआ है कि ज़ख़्म एक हफ़्ते के दौरान के हैं। यानी बच्ची को हफ़्ते भर टार्चर किया गया था। पुलिस ने मासूम बच्ची की पहचान को लेकर सारे कंट्रोल रूम्स को अलर्ट कर रखा है।


सीबीआई को सौंपा गया केस

गुजरात और पड़ोसी राज्यों में गुमशुदगी से जुड़ी 8000 शिकायतों को खंगाला जा रहा है। उस जगह के डेढ़ किलोमीटर के दायरे में चारों तरफ घर घर सर्वे किया जा चुका है। पुलिस को शक है कि अपराध कहीं और किया गया लिहाजा अपराधियों के सुराग के लिए सीसीटीवी फुटेज तलाशे जा रहे हैं। इस बीच रविवार को दूसरे शहरों की तरह सूरत में भी विरोध प्रदर्शन हुए। गुजरात सरकार ने मामले की गंभीरता को देखते हुए इसे सीबीआई को सौंप दिया है।