दैनिक भास्कर हिंदी: ममता ने एग्जिट पोल को बताया गॉसिप, उमर बोले हर एक पोल गलत नहीं

May 20th, 2019

हाईलाइट

  • एग्जिट पोल में बीजेपी की अगुवाई वाले एनडीए की आसानी से जीत होती हुई दिखाई दे रही है
  • विपक्ष के कई नेता एग्जिट पोल्स के इन नतीजों को सिरे से खारिज कर रहे हैं
  • पश्चिम बंगाल की मुख्यमंत्री ममता बनर्जी ने एक्जिट पोल के नतीजों को गॉसिप करार दिया है

डिजिटल डेस्क, नई दिल्ली। लोकसभा चुनाव के बाद आए एग्जिट पोल में बीजेपी की अगुवाई वाले एनडीए की आसानी से जीत होती हुई दिखाई दे रही है। हालांकि विपक्ष के कई नेता एग्जिट पोल्स के इन नतीजों को सिरे से खारिज कर रहे हैं। पश्चिम बंगाल की मुख्यमंत्री ममता बनर्जी ने एक्जिट पोल के नतीजों को गोसिप करार देते हुए हज़ारों ईवीएम में छेड़छाड़ करने का गेमप्लान बताया।

ममता बनर्जी ने विपक्ष से एकजुट रहने का आग्रह करते हुए ट्विटर पर लिखा, 'मैं एग्जिट पोल ​​गॉसिप में विश्वास नहीं करती। इस गॉसिप के माध्यम से हजारों ईवीएम में हेरफेर करने या बदलने की योजना है। मैं सभी विपक्षी दलों से एकजुट, मजबूत और निर्भीक होने की अपील करती हूं। हम इस लड़ाई को एक साथ लड़ेंगे।'

टीएमसी के वरिष्ठ नेता डेरेक ओ ब्रायन ने भी ईवीएम की कार्यप्रणाली पर सवाल उठाए। उन्होंने कहा, 'क्या 'दिल्ली मीडिया' जिसे 'राष्ट्रीय मीडिया' भी कहा जाता है ने अपनी विश्वसनीयता खो दी है? तथाकथित एग्जिट पोल केवल भ्रमित करने के लिए हैं। हमें लोगों के फैसले का इंतजार है। मोदी जी ने फेज 7 से पहले ही 300 सीटें जीतने का दावा किया था। क्या ये नंबर EVM में हेरफेर को मैच करने के लिए हैं?'

एग्जिट पोल में पश्चिम बंगाल में भाजपा को पिछले साल की तुलना में कई अधिक सीटें मिलने का अनुमान लगाया गया है। पार्टी ने 2014 में केवल दो सीटें जीती थीं। ज्यादातार एग्जिट पोल्स में सत्तारूढ़ टीएमसी को 24, जबकि भाजपा को 16 सीटें मिलने का अनुमान लगाया गया है।

मध्य प्रदेश के मुख्यमंत्री कमलनाथ ने कहा, 'हमने सारे एग्जिट पोल्स 2004 में भी देखे थे,2018 के पांच राज्यों के चुनाव के समय भी देखे थे,सब कांग्रेस की हार दिखा रहे थे,पर परिणाम सभी ने देखे.. 23 मई का इंतजार करिये,सारी हक़ीकत सामने आ जाएगी। कांग्रेस की सीटें निश्चित ही बढ़ेगी,भाजपा के नारों-जुमलों की हक़ीकत भी सामने आयेगी।' उन्होंने कहा, ऑस्ट्रेलिया में आज 50 एग्जिट पोल फेल हो गए। मुझे लगता है कि भारतीय स्थिति अलग नहीं है। एग्जिट पोल ज़मीनी हालातों को नहीं दिखाते हैं। मीडिया की साख दांव पर। यह ड्रामा Vs गवर्नेंस है।

पंजाब के मुख्यमंत्री अमरिंदर सिंह ने एक्जिट पोल को यह कहते हुए खारिज कर दिया कि उनकी सटीकता संदिग्ध है। उन्होंने कहा, 'बहुत अनुभव के बावजूद भी अगर मैं पंजाब में घूमकर इसे पता लगाने की कोशिश करूं तब भी मैं इसे पूरी सटीकता के साथ नहीं कर पाऊंगा। तो ये एग्जिट पोल्स कैसे सटीक हो सकते हैं।'

हालांकि, कांग्रेस के सहयोगी और नेशनल कॉन्फ्रेंस के नेता उमर अब्दुल्ला ने कहा कि हर एक एग्जिट पोल गलत नहीं हो सकता। उन्होंने ट्वीट किया, 'टीवी बंद करने का समय, सोशल मीडिया से लॉग आउट करें और यह देखने के लिए प्रतीक्षा करें कि क्या दुनिया अभी भी 23 वीं (मई) को अपनी धुरी पर घूम रही है।'

उपराष्ट्रपति एम वेंकैया नायडू ने एग्जिट पोल का मज़ाक उड़ाते हुए कहा कि 'ये चुनाव के सही नतीजे नहीं है। एग्जिट पोल का मतलब रिजल्ट नहीं है। हमें ये समझना होगा। 1999 के बाद से अधिकांश एक्जिट पोल गलत साबित हुए हैं।'