comScore

हैदराबाद एनकाउंटर की जांच शुरू, आरोपी की पत्नी धरने पर बैठी, कहा- नाइंसाफी हुई

हैदराबाद एनकाउंटर की जांच शुरू, आरोपी की पत्नी धरने पर बैठी, कहा- नाइंसाफी हुई

हाईलाइट

  • एनएचआरसी के सात सदस्यीय दल ने घटना स्थल का दौरा किया
  • दो जनहित याचिका दायर कर एसआईटी जांच कराने की मांग

डिजिटल डेस्क, हैदराबाद। हैदराबाद में वेटनरी डॉक्टर के साथ दुष्कर्म और जलाकर मारने वाले सभी चारों आरोपियों को पुलिस ने एनकाउंटर में मार दिया। अब राष्ट्रीय मानवाधिकार आयोग (एनएचआरसी) के सात सदस्यीय दल ने घटना स्थल का दौरा किया, जहां चारों आरोपी मारे गए। वहीं सुप्रीम कोर्ट में दो जनहित याचिका दायर कर एसआईटी जांच कराने की मांग की है। एक याचिका में मुठभेड़ में शामिल पुलिसवालों के खिलाफ एफआईआर दर्ज करने की मांग की गई है। वहीं दूसरी याचिका में मारे गए चार आरोपियों के परिवारों को मुआवजा देने की मांग की गई है।

पुलिस की इस कार्रवाई के दो पक्ष देखने को मिल रहे हैं। एक ओर जहां इसकी सराहना हो रही है, वहीं दूसरी ओर इसकी आलोचना भी हो रही है। याचिकाकर्ता जी.एस. मणि ने एक प्राथमिकी दर्ज करने के साथ ही सीबीआई, एसआईटी, सीआईडी या किसी अन्य राज्य के पुलिस अधिकारियों की एक टीम द्वारा की गई मुठभेड़ की जांच करने के निर्देश देने की मांग की है। याचिका में शीर्ष अदालत से आग्रह किया गया कि एक स्वतंत्र जांच एजेंसी को फर्जी मुठभेड़ की जांच (पीयूसीएल बनाम महाराष्ट्र राज्य) के संबंध में निर्धारित दिशा-निर्देशों के अनुसार निर्देशित किया जाना चाहिए।

याचिका में आरोप लगाया गया कि यह पुलिस की कथित चूक पर पर्दा डालने के लिए एक सुनियोजित मुठभेड़ थी। एक अन्य याचिका में अधिवक्ता मनोहर लाल शर्मा ने कहा कि पुलिस हिरासत में चार गिरफ्तार लोगों की हत्या कथित तौर पर राजनेताओं की मांग पर की गई।शर्मा ने आरोपियों के परिवारों के लिए मुआवजे की मांग करते हुए कहा कि शीर्ष अदालत को न्याय के हित में पुलिस हिरासत में मारे गए प्रत्येक आरोपी के परिवार के सदस्यों को 20-20 लाख रुपये का मुआवजा देने के लिए एक निर्देश पारित करना चाहिए।

तेलंगाना पुलिसा का कहना है कि चारों आरोपियों के खिलाफ पुलिसवालों पर हमला करने का मामला दर्ज किया गया है। इधर मारे गए आरोपियों में से एक की पत्नी ने कुछ लोगों के साथ सड़क पर बैठकर चक्का जाम किया। उसने आरोप लगाया है कि नाइंसाफी हुई है। मारे गए आरोपी चेन्नकेशावुलू की पत्नी रेणुका ने कहा कि गलती करने पर कितने लोग जेल में हैं। उन सबकों भी गोली मार दी जाना चाहिए, जैसे मेरे पति को मारा। हम शवों को नहीं दफनाएंगे। बता दें पशु चिकित्सक युवती के साथ सामूहिक दुष्कर्म और हत्या की वारदात के 10 दिन बाद पुलिस ने शुक्रवार को रंगारेड्डी जिले में शादनगर के पास मुठभेड़ में चारों आरोपियों को मार गिराया। पुलिस ने कहा कि आरोपियों ने पुलिस से हथियार छीन लिए और उनपर फायरिंग करने लगे, जिसके बाद जवाबी कार्रवाई में चारों को मार गिराया गया। चारों आरोपी पुलिस रिमांड पर थे

कमेंट करें
y5YJd