comScore

© Copyright 2019-20 : Bhaskarhindi.com. All Rights Reserved.

भारत-चीन का टकराव जमीनी स्तर पर कम, आभासी दुनिया में ज्यादा

June 01st, 2020 16:01 IST
 भारत-चीन का टकराव जमीनी स्तर पर कम, आभासी दुनिया में ज्यादा

हाईलाइट

  • भारत-चीन का टकराव जमीनी स्तर पर कम, आभासी दुनिया में ज्यादा

नई दिल्ली, 1 जून (आईएएनएस)। भारत और चीन ने लद्दाख में वास्तविक नियंत्रण रेखा (एलएसी) पर चल रहे तनाव के समाधान के लिए राजनयिक और सैन्य व्यस्तता बढ़ा दी है। लेकिन, इसके साथ ही दोनों देशों के सोशल मीडिया यूजर्स के बीच डिजिटल परिदृश्य में एक अलग ही तरह का धारणा युद्ध शुरू हो गया है।

महज एक फोन और इंटरनेट कनेक्शन से लैस, दोनों देशों में गुमनामी के पर्दे के पीछे छिपे हुए यूजर्स मौखिक रूप से द्वंद्व में लगे हुए हैं। वे भारतीय और चीनी सैनिकों के उन असत्यापित वीडियो व तस्वीरों पर अपनी विभिन्न प्रतिक्रियाएं व्यक्त कर रहे हैं, जिनमें वह खून से लथपथ एक-दूसरे को बेरहमी से पीटते दिखाई दे रहे हैं।

यह वीडियो और तस्वीर कैसे और कहां से आई, इसकी केवल अटकलें ही लगाई जा रही हैं, लेकिन इस धारणा युद्ध ने इस मुद्दे को हल करने के लिए वार्ता की गंभीरता को जरूर कम कर दिया है।

चीन के यह अनाम यूजर कोविड-19 महामारी फैलाने में चीन की जिम्मेदारी से दुनिया का ध्यान हटाने के छिपे हुए एजेंडे पर काम कर रहे हैं।

इन अपुष्ट वीडियो के बीच, एक क्लिप सोशल मीडिया पर वायरल हो गई, जिसमें एक घायल चीनी सैनिक दिखाई दे रहा है। भारतीय सैनिक चीन की पीपुल्स लिबरेशन आर्मी के उन लोगों का पीछा कर रहे हैं, जिन्होंने अपने हाई मोबिलिटी मल्टीपर्पज व्हीकल व्हीकल (हम्वे) को छोड़ दिया है। यह वीडियो सोशल मीडिया पर एक चीनी नागरिक के असत्यापित यू-ट्यूब अकाउंट के माध्यम से दिखाई दिया और भारतीय सोशल मीडिया यूजर्स द्वारा प्रसारित किए जाने के बाद यह वायरल हो गया।

इसके अलावा एक असत्यापित और दिनांक रहित तस्वीर में पांच भारतीय सैनिक जमीन पर खून से लथपथ दिखाई दे रहे हैं और उनके ठीक सामने चीनी सैनिक खड़े दिखाई दे रहे हैं। इस तस्वीर ने भी सोशल मीडिया युद्ध छेड़ दिया है। यह तस्वीर एक चीनी नागरिक के असत्यापित ट्विटर अकाउंट के माध्यम से सोशल मीडिया पर सामने आई और फिर ज्यादातर चीनी सोशल मीडिया यूजर द्वारा भारतीय सैनिकों को अपशब्द कहते भी देखा गया।

इसके बाद रविवार को सोशल मीडिया पर विभिन्न प्रतिक्रियाओं के साथ एक प्रकार का बयानबाजी युद्ध शुरू हो गया। दोनों देशों के प्रतिनिधि वीडियो और तस्वीर पर चुप रहे, मगर ऑनलाइन युद्ध जरूर छिड़ गया।

तस्वीर और वीडियो से यह स्पष्ट है कि चीन ने हिंसा के इस स्तर के लिए अच्छी तरह से योजना बनाई है, क्योंकि उन्हें धातु की छड़ें (मेटल रॉड) और हम्वे चलाते हुए देखा गया था। यह भी स्पष्ट है कि चीन ने एलएसी में बहुत बड़ा बुनियादी ढांचा विकसित किया है और अपने हजारों सैनिकों को भी तैनात किया है।

धारणा युद्ध से किसको लाभ होगा यह अभी भी बहस का विषय है। लेकिन यह स्पष्ट है कि दोनों देशों के लोग एक-दूसरे को अपशब्द कहने लगे हैं।

हालांकि ऐसे असत्यापित वीडियो या तस्वीरों पर भारतीय सेना अपनी प्रतिक्रिया व्यक्त कर चुकी है। भारतीय सेना ने रविवार को एक सोशल मीडिया पर भारतीय और चीनी सैनिकों के बीच झड़प के एक कथित वीडियो के सामने आने पर प्रतिक्रिया व्यक्त करते हुए कहा कि इसकी सामग्री को प्रमाणित नहीं किया गया है।

भारतीय सेना के एक वरिष्ठ अधिकारी ने कहा कि वर्तमान में कोई हिंसा नहीं हो रही है और प्रोटोकॉल के तहत बातचीत के माध्यम से मतभेदों को हल किया जा रहा है।

सेना ने राष्ट्रीय सुरक्षा को प्रभावित करने वाले मुद्दों को सनसनीखेज बनाने के प्रयासों की भी निंदा की है।

पूर्वी लद्दाख क्षेत्र में दोनों सेनाओं के बीच तनाव की स्थिति बनी हुई है। तीन से चार स्थान ऐसे चिन्हित किए गए हैं, जहां पर पांच मई से ही विशेष तौर पर निगरानी रखी जा रही है। वास्तविक नियंत्रण रेखा पर दोनों पक्षों ने चार स्थानों पर 1000 से अधिक सैनिकों को तैनात किया है।

भारतीय सेना पूर्वी लद्दाख और पैंगवान घाटी क्षेत्र के पैंगोंग त्सो क्षेत्र में कड़ी निगरानी रख रही है, जहां चीन ने तैनाती बढ़ा दी है।

रक्षा मंत्री राजनाथ सिंह ने शनिवार को कहा कि सरकार किसी भी परिस्थिति में भारत के गौरव को चोट नहीं पहुंचने देगी। अमेरिकी राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रम्प द्वारा मध्यस्थता की पेशकश पर रक्षा मंत्री ने कहा कि उन्होंने शुक्रवार को अमेरिकी रक्षा सचिव मार्क टी. एस्पर को बताया कि भारत और चीन के पास राजनयिक और सैन्य स्तरों पर बातचीत के माध्यम से समस्याओं को हल करने के लिए मौजूदा तंत्र मौजूद है।

वहीं चीनी विदेश मंत्रालय ने भी कहा है कि दोनों देश बातचीत के माध्यम से सीमा संबंधी मुद्दों को हल करने में सक्षम हैं।

कमेंट करें
0tzEa
NEXT STORY

Real Estate: खरीदना चाहते हैं अपने सपनों का घर तो रखे इन बातों का ध्यान, भास्कर प्रॉपर्टी करेगा मदद

Real Estate: खरीदना चाहते हैं अपने सपनों का घर तो रखे इन बातों का ध्यान, भास्कर प्रॉपर्टी करेगा मदद

डिजिटल डेस्क, जबलपुर। किसी के लिए भी प्रॉपर्टी खरीदना जीवन के महत्वपूर्ण कामों में से एक होता है। आप सारी जमा पूंजी और कर्ज लेकर अपने सपनों के घर को खरीदते हैं। इसलिए यह जरूरी है कि इसमें इतनी ही सावधानी बरती जाय जिससे कि आपकी मेहनत की कमाई को कोई चट ना कर सके। प्रॉपर्टी की कोई भी डील करने से पहले पूरा रिसर्च वर्क होना चाहिए। हर कागजात को सावधानी से चेक करने के बाद ही डील पर आगे बढ़ना चाहिए। हालांकि कई बार हमें मालूम नहीं होता कि सही और सटीक जानकारी कहा से मिलेगी। इसमें bhaskarproperty.com आपकी मदद कर सकता  है। 

जानिए भास्कर प्रॉपर्टी के बारे में:
भास्कर प्रॉपर्टी ऑनलाइन रियल एस्टेट स्पेस में तेजी से आगे बढ़ने वाली कंपनी हैं, जो आपके सपनों के घर की तलाश को आसान बनाती है। एक बेहतर अनुभव देने और आपको फर्जी लिस्टिंग और अंतहीन साइट विजिट से मुक्त कराने के मकसद से ही इस प्लेटफॉर्म को डेवलप किया गया है। हमारी बेहतरीन टीम की रिसर्च और मेहनत से हमने कई सारे प्रॉपर्टी से जुड़े रिकॉर्ड को इकट्ठा किया है। आपकी सुविधाओं को ध्यान में रखकर बनाए गए इस प्लेटफॉर्म से आपके समय की भी बचत होगी। यहां आपको सभी रेंज की प्रॉपर्टी लिस्टिंग मिलेगी, खास तौर पर जबलपुर की प्रॉपर्टीज से जुड़ी लिस्टिंग्स। ऐसे में अगर आप जबलपुर में प्रॉपर्टी खरीदने का प्लान बना रहे हैं और सही और सटीक जानकारी चाहते हैं तो भास्कर प्रॉपर्टी की वेबसाइट पर विजिट कर सकते हैं।

ध्यान रखें की प्रॉपर्टी RERA अप्रूव्ड हो 
कोई भी प्रॉपर्टी खरीदने से पहले इस बात का ध्यान रखे कि वो भारतीय रियल एस्टेट इंडस्ट्री के रेगुलेटर RERA से अप्रूव्ड हो। रियल एस्टेट रेगुलेशन एंड डेवेलपमेंट एक्ट, 2016 (RERA) को भारतीय संसद ने पास किया था। RERA का मकसद प्रॉपर्टी खरीदारों के हितों की रक्षा करना और रियल एस्टेट सेक्टर में निवेश को बढ़ावा देना है। राज्य सभा ने RERA को 10 मार्च और लोकसभा ने 15 मार्च, 2016 को किया था। 1 मई, 2016 को यह लागू हो गया। 92 में से 59 सेक्शंस 1 मई, 2016 और बाकी 1 मई, 2017 को अस्तित्व में आए। 6 महीने के भीतर केंद्र व राज्य सरकारों को अपने नियमों को केंद्रीय कानून के तहत नोटिफाई करना था।