comScore

© Copyright 2019-20 : Bhaskarhindi.com. All Rights Reserved.

India Corona Virus Update: देश में कोरोना पीड़ितों की संख्या 18,601 पहुंची, 590 की मौत

April 21st, 2020 11:34 IST
India Corona Virus Update: देश में कोरोना पीड़ितों की संख्या 18,601 पहुंची, 590 की मौत

हाईलाइट

  • कोरोना पीड़ितों की संख्या 18 हजार के पार
  • 590 लोगों की हुई संक्रमण से मौत

डिजिटल डेस्क, नई दिल्ली। देश मे कोरोना पीड़ितों की संख्या 18,601 पहुंच गयी है। केन्द्रीय स्वास्थ्य मंत्रालय द्वारा मंगलवार सुबह जारी आंकड़े के मुताबिक इनमें से 14,759 अभी भी कोविड-19 वायरस से पीड़ित हैं। 3251 को अस्पताल से ईलाज के बाद डिस्चार्ज किया जा चुका है,जबकि मरने वालों की संख्या 590 पहुंच गई है।

स्वास्थ्य मंत्रालय के मुताबिक अंडमान निकोबार में कोरोना पीड़ित लोगों की संख्या 16 हो गई है। इनमें से 11 को अस्पताल से इलाज के बाद छुट्टी दे दी गई है। उधर आंध्र प्रदेश में यह आंकड़ा तेजी से बढ़ा है। यहां मंगलवार सुबह तक 722 लोग इस वायरस से पीड़ित बताए गए हैं। इनमें से 92 को डिस्चार्ज किया जा चुका है। 20 की मौत हो गई है।

अरुणाचल प्रदेश में सिर्फ 1 की कोरोना पीड़ित होने की सूचना है। असम में आंकड़ा 35 हो चुका है, यहां 19 लोगों को डिस्चार्ज किया चुका है। एक की मौत हुई है। बिहार में स्वास्थ्य मंत्रालय की रिपोर्ट के मुताबिक मंगलवार सुबह तक 113 लोग इस वायरस की चपेट में आ चुके थे। जिनमें से 42 लोगों को अभी तक डिस्चार्ज किया जा चुका है। 2 की मौत हो चुकी है। चंडीगढ़ में आंकड़ा 26 है। छत्तीसगढ़ में 36 लोग इस वायरस से पीड़ित बताए गए हैं। यहां 25 लोगों को अस्पताल से डिस्चार्ज किया जा चुका है।

भारत कोरोना को कंट्रोल करने में दूसरे स्थान पर, जापान-अमेरिका को किया पीछे

दिल्ली में कोरोना वायरस लोगों की संख्या अब भी बढ़ रही है । अब तक जारी आंकड़े के मुताबिक 2081 लोग इस वायरस से पीड़ित हैं। 431 को अस्पताल से छुट्टी दी जा चुकी है। अकेले दिल्ली में 47 लोगों की मौत हुई है। वही दूसरी तरफ गोवा कोरोना से मुक्त राज्य बना हुआ है। यहां 7 मामले सामने आए थे, सभी को अस्पताल से ईलाज के बाद डिस्चार्ज किया जा चुका है।

गुजरात में भी करोना से संक्रमित लोगों की संख्या बढ़ी है। यहां 1939 लोग इस वायरस से पीड़ित बताए गए हैं। 132 लोगों को डिस्चार्ज किया जा चुका है। 71 की मौत हो गई है। हरियाणा में यह आंकड़ा 254 पहुंच गया है। यहां 127 लोगों को डिस्चार्ज किया जा चुका है। यहां सिर्फ 3 लोगों की मौत हुई है। हिमाचल में आंकड़ा 39 हो गया है। 16 को डिस्चार्ज किया गया । एक की मौत हुई है।

जम्मू कश्मीर में भी कोविड-19 वायरस से पीड़ित लोगों की संख्या 368 हो गई है। 71 को डिस्चार्ज किया गया है और 5 की मौत हो गई है। झारखंड में यह संख्या 46 हो गई है। यहां 2 लोगों की मौत हुई है। कर्नाटक में यह आंकड़ा 408 हो गया है। 122 लोगों को डिस्चार्ज किया जा चुका है। इस राज्य में कोरोना से मरने वालों की संख्या 16 हो गयी है।

केरल में कोरोना पीड़ित लोगों का आंकड़ा 408 है। यहां 291 लोगों को डिस्चार्ज किया जा चुका है और 3 की मौत हुई है। लद्दाख में सिर्फ 18 मामले सामने आए हैं। 14 को अस्पताल से छुट्टी दे दी गई है।

उम्मीद की किरण: देश 300 अधिक जिलों में नहीं कोरोना का केस, 18 जिलों में सिर्फ आधे मामले

मध्यप्रदेश में इस वायरस से पीड़ित लोगों की संख्या लगातार बढ़ती जा रही है। मंगलवार सुबह तक केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्रालय के मुताबिक अब तक 1485 लोग इस वायरस से पीड़ित बताए गए हैं। 127 को डिस्चार्ज किया जा चुका है। सिर्फ मध्यप्रदेश में 74 लोगों की मौत हो गई है।

उधर मणिपुर में 2, मेघालय में 11, मिजोरम में 1 और नागालैंड में कोई मामला सामने नहीं आया है। जबकि उड़ीसा में 74 लोग इस वायरस से पीड़ित है। 24 को डिस्चार्ज किया जा चुका है, 1 की मौत हो गई है । पुडुचेरी में सिर्फ 7 मामले सामने आए हैं। यहां 3 लोगों को अस्पताल से ईलाज के बाद छुट्टी दे दी गयी है।

पंजाब में यह आंकड़ा 245 पहुंच गया है। 38 को डिस्चार्ज किया जा चुका है। 16 की मौत हो गई है। राजस्थान में भी कोरोना का कहर साफ-साफ दिखाई पड़ रहा है। यहां 1576 लोग इस वायरस से पीड़ित हो चुके हैं। यहां 205 लोगों को डिस्चार्ज किया जा चुका है। तमिलनाडु में 1520 आंकड़ा पहुंच चुका है। 457 को अस्पताल से डिस्चार्ज किया जा चुका है। 17 की मौत हो गई है ।

दिल्ली: क्वारंटाइन सेंटर से भागे 4 युवक, मामला दर्ज

तेलंगाना में कोरोना पीड़ितों की संख्या 873 पहुंच गयी है। 457 को डिस्चार्ज किया जा चुका है, जबकि 23 की मौत हो गई है। अब तक त्रिपुरा में सिर्फ दो मामला सामने आया है। उत्तराखंड में मंगलवार सुबह तक 46 मामले सामने आये हैं। 18 को डिस्चार्ज किया जा चुका है।

उधर उत्तर प्रदेश में 1184 लोग इस वायरस से पीड़ित बताए गये हैं। 140 को डिस्चार्ज किया जा चुका है। 18 की मौत हो गई है। पश्चिम बंगाल में यह आंकड़ा 392 पहुंच गया है। 73 को डिस्चार्ज किया जा चुका है। 12 की मौत हो गई है।

कमेंट करें
fLozV
NEXT STORY

Real Estate: खरीदना चाहते हैं अपने सपनों का घर तो रखे इन बातों का ध्यान, भास्कर प्रॉपर्टी करेगा मदद

Real Estate: खरीदना चाहते हैं अपने सपनों का घर तो रखे इन बातों का ध्यान, भास्कर प्रॉपर्टी करेगा मदद

डिजिटल डेस्क, जबलपुर। किसी के लिए भी प्रॉपर्टी खरीदना जीवन के महत्वपूर्ण कामों में से एक होता है। आप सारी जमा पूंजी और कर्ज लेकर अपने सपनों के घर को खरीदते हैं। इसलिए यह जरूरी है कि इसमें इतनी ही सावधानी बरती जाय जिससे कि आपकी मेहनत की कमाई को कोई चट ना कर सके। प्रॉपर्टी की कोई भी डील करने से पहले पूरा रिसर्च वर्क होना चाहिए। हर कागजात को सावधानी से चेक करने के बाद ही डील पर आगे बढ़ना चाहिए। हालांकि कई बार हमें मालूम नहीं होता कि सही और सटीक जानकारी कहा से मिलेगी। इसमें bhaskarproperty.com आपकी मदद कर सकता  है। 

जानिए भास्कर प्रॉपर्टी के बारे में:
भास्कर प्रॉपर्टी ऑनलाइन रियल एस्टेट स्पेस में तेजी से आगे बढ़ने वाली कंपनी हैं, जो आपके सपनों के घर की तलाश को आसान बनाती है। एक बेहतर अनुभव देने और आपको फर्जी लिस्टिंग और अंतहीन साइट विजिट से मुक्त कराने के मकसद से ही इस प्लेटफॉर्म को डेवलप किया गया है। हमारी बेहतरीन टीम की रिसर्च और मेहनत से हमने कई सारे प्रॉपर्टी से जुड़े रिकॉर्ड को इकट्ठा किया है। आपकी सुविधाओं को ध्यान में रखकर बनाए गए इस प्लेटफॉर्म से आपके समय की भी बचत होगी। यहां आपको सभी रेंज की प्रॉपर्टी लिस्टिंग मिलेगी, खास तौर पर जबलपुर की प्रॉपर्टीज से जुड़ी लिस्टिंग्स। ऐसे में अगर आप जबलपुर में प्रॉपर्टी खरीदने का प्लान बना रहे हैं और सही और सटीक जानकारी चाहते हैं तो भास्कर प्रॉपर्टी की वेबसाइट पर विजिट कर सकते हैं।

ध्यान रखें की प्रॉपर्टी RERA अप्रूव्ड हो 
कोई भी प्रॉपर्टी खरीदने से पहले इस बात का ध्यान रखे कि वो भारतीय रियल एस्टेट इंडस्ट्री के रेगुलेटर RERA से अप्रूव्ड हो। रियल एस्टेट रेगुलेशन एंड डेवेलपमेंट एक्ट, 2016 (RERA) को भारतीय संसद ने पास किया था। RERA का मकसद प्रॉपर्टी खरीदारों के हितों की रक्षा करना और रियल एस्टेट सेक्टर में निवेश को बढ़ावा देना है। राज्य सभा ने RERA को 10 मार्च और लोकसभा ने 15 मार्च, 2016 को किया था। 1 मई, 2016 को यह लागू हो गया। 92 में से 59 सेक्शंस 1 मई, 2016 और बाकी 1 मई, 2017 को अस्तित्व में आए। 6 महीने के भीतर केंद्र व राज्य सरकारों को अपने नियमों को केंद्रीय कानून के तहत नोटिफाई करना था।