comScore

PM मोदी के सऊदी दौरे के लिए पाक का एयर स्पेस खोलने से इनकार, ICAO पहुंचा भारत

PM मोदी के सऊदी दौरे के लिए पाक का एयर स्पेस खोलने से इनकार, ICAO पहुंचा भारत

हाईलाइट

  • पीएम मोदी के लिए पाक के एयरस्पेस खोलने से इनकार के बाद, भारत का सख्त रुख
  • भारत इस मामले को लेकर इंटरनेशनल सिविल एविएशन ऑर्गेनाइजेशन (ICAO) पहुंचा
  • पाक ने पीएम मोदी के अमेरिका दौरे के लिए भी एयरस्पेस खोलने से इनकर कर दिया था

डिजिटल डेस्क, नई दिल्ली। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के सऊदी दौरे के लिए पाकिस्तान के एयरस्पेस खोलने से इनकार के बाद, भारत ने सख्त रुख अपनाया है। भारत इस मामले को लेकर इंटरनेशनल सिविल एविएशन ऑर्गेनाइजेशन (ICAO) पहुंच गया है। यह सिविल एविएशन से संबंधित संयुक्त राष्ट्र की एक विशेष एजेंसी है। इससे पहले भी पाकिस्तान ने पीएम मोदी के अमेरिका दौरे के लिए एयरस्पेस खोलने से इनकर कर दिया था।

सरकारी सूत्रों ने एएनआई को बताया, 'वीवीआईपी की खास फ्लाइट्स के लिए ओवरफ्लाइट क्लीयरेंस मांगे जाने पर सभी 'सामान्य देश' एयर स्पेस खोलने की अनुमति दे देते हैं। पाकिस्तान के इनकार के बाद हमने सिविल एविएशन ऑर्गेनाइजेशन चार्टर के सामने यह मामला उठाया है।' भारत के ओवरफ्लाइट अनुरोध को ठुकराना इंटरनेशनल सिविल एविएशन ऑर्गेनाइजेशन चार्टर का उल्‍लंघन है। इस चार्टर के मुताबिक युद्ध की स्थिति को छोड़कर किसी भी अन्‍य परिस्थिति में एयरस्‍पेस की इजाजत से इनकार नहीं किया जा सकता।

पाकिस्तान के विदेश मंत्री शाह महमूद कुरैशी ने रविवार को कहा था कि 'पाकिस्तान ने भारत के उस अनुरोध को नामंजूर कर दिया है जिसमें भारतीय प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की सऊदी अरब यात्रा के लिए उनके विमान को पाकिस्तानी एयर स्पेस से गुजरने देने की अनुमति मांगी गई थी। कुरैशी ने एयर स्पेस के अनुरोध को नामंजूर करने के पीछे की वजह जम्मू-कश्मीर में कथित मानवाधिकारों के उल्लंघन को बताया। उन्होंने कहा कि भारतीय उच्चायुक्त को इस निर्णय के बारे में लिखित रूप में सूचित किया गया है।

पाकिस्तान ने 27 फरवरी को भारतीय वायु सेना के बालाकोट हमले के बाद अपने हवाई क्षेत्र को बंद कर दिया था और 16 जुलाई को 138 दिनों के बाद फिर से खोला था। इस दौरान दिल्ली और पश्चिम के बीच सभी फ्लाइट ने लंबा रूट अपनाया। जून में प्रधानमंत्री मोदी ने एयरस्पेस बंद होने के चलते दिल्ली से बिश्केक के लिए लंबा रूट तय किया था।

इस दौरान उन्होंने 5,475 किमी की दूरी तय की जिसमें 6 घंटे 30 मिनट का ब्लॉक टाइम लगा था। ब्लॉक टाइम का मतलब है कि डिपार्चर के समय फ्लाइट के दरवाजे बंद होने से लेकर लैंडिंग के बाद दरवाजे खुलने के बीच का समय। अगर पीएम स्ट्रेट रूट से रास्ता तय करते तो दूरी घटकर 2,585 किमी हो जाती जिसमें 3 घंटे 45 मिनट का समय लगता। 

कमेंट करें
aSNlt