दैनिक भास्कर हिंदी: फोनी पर भारत की तैयारियों को UN ने सराहा, कहा...बेहतरीन थी प्लानिंग

May 5th, 2019

हाईलाइट

  • यूएन ने कहा, भारत ने पेश की मिसाल
  • फोनी से भारत में 10 लोगों की हुई है मौत
  • 20 साल पहले ओडिशा में आए तूफान में हुई थी 10 हजार लोगों की मौत

डिजिटल डेस्क, भुवनेश्वर। चक्रवाती तूफान फोनी का सामना कर ओडिशा ने दुनिया के सामने मिसाल पेश की है। राज्य प्रसाशन ने अपनी बेहतरीन प्लानिंग से जनहानि को कई गुना कम करके यह बता दिया है कि विनाशकारी तूफान से कैसे निपटा जाता है। भारतीय मौसम विभाग ने भी इसमें मुख्य भूमिका निभाई है। शुक्रवार को ओडिशा में आए तूफान फोनी से कम जनहानि और बेहतरीन प्लानिंग को देख संयुक्त राष्ट्र (UN) ने भी भारत की तारीफ की है।

चक्रवाती तूफान फोनी अब बंगाल पहुंच चुका है। यह तूफान भी दुनिया भर में भारी नुकसान करने वाले चक्रवाती तूफान जैसा ही था, लेकिन राज्य सरकार की बेहतरीन प्लानिंग की बदौलत ज्यादा जनहानि नहीं हुई है। इससे दुनिया भर में तूफान से पीड़ित रह चुके देश हैरान रह गए हैं। फोनी जैसा भीषण तूफान कई हजार लोगों की जान ले जाता है, लेकिन इसमें सिर्फ 10 लोगों की जान गई। इससे पहले भी ओडिशा में आए एक तूफान सुपर साइक्लोन में 10 हजार लोगों की जान चला गई थी। 

दरअसल, तूफान के आने से पहले ही भारतीय मौसम विज्ञान विभाग (IMD) ने तूफान के आने की जानकारी राज्य सरकार को बता दी थी। खबर मिलते ही प्रसाशन ने लोगों को सुरक्षित स्थानों पर पहुंचाने का काम शुरू कर दिया था। आपातकालीन कर्मियों ने तूफान आने से पहले ही तटीय और गंभीर इलाकों में रह रहे करीब 12 लाख लोगों को सुरक्षित जगह पर पहुंचा दिया था। ओडिशा सरकार ने टीवी पर विज्ञापन दिया, करीब 26 लाख लोगों को टेक्स्ट मैसेज भेजे गए, 43 हजार वॉलंटियर्स और 1000 आपातकालीन कर्मियों को भी तैयार किया गया।