दैनिक भास्कर हिंदी: भारत को 23 मई का इंतजार, भाजपा- कांग्रेस क्षेत्रीय दलों के लाइन अप में जुटी

May 21st, 2019

हाईलाइट

  • एग्जिट पोल के नतीजों में NDA को बहुमत के बाद अमित शाह की डिनर पार्टी
  • इसमें प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के भी शामिल होने की उम्मीद है
  • डिनर से पहले भाजपा मुख्यालय में केंद्रीय मंत्रियों की एक बैठक भी आयोजित की गई है

डिजिटल डेस्क, नई दिल्ली। एग्जिट पोल के नतीजों में NDA को बहुमत के अनुमान के बाद भाजपा प्रमुख अमित शाह ने गठबंधन सहयोगियों के लिए मंगलवार को दिल्ली में डिनर आयोजित किया है। इसमें प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के भी शामिल होने की उम्मीद है। डिनर से पहले भाजपा मुख्यालय में केंद्रीय मंत्रियों की एक बैठक भी बुलाई गई है। उधर विपक्षी दल भी नतीजों से पहले सरकार बनाने की संभावनाओं को लेकर चर्चा कर रहे हैं। आंध्र प्रदेश के सीएम और टीडीपी प्रमुख एन चंद्रबाबू नायडू और अन्य विपक्षी दलों के नेताओं ने 21 मई को दिल्ली में बैठक बुलाई है।

अमित शाह के डिनर में बिहार के मुख्यमंत्री नीतीश कुमार, शिवसेना प्रमुख उद्धव ठाकरे और लोक जनशक्ति पार्टी के रामविलास पासवान की बैठक में शामिल होने की संभावना है। इसके अलावा तमिलनाडु में NDA के सभी लीडर्स के साथ मुख्यमंत्री के पलानीस्वामी और ओ पन्नीरसेल्वम इस समारोह में शामिल होंगे। तमिलनाडु बीजेपी के प्रमुख तमिलिसाई साउंडराजन ने कहा कि बैठक का आयोजन लोकसभा चुनाव के दौरान अपनी कड़ी मेहनत के लिए एनडीए के घटकों को धन्यवाद देने के लिए किया गया है, साथ ही साथ भविष्य की योजनाओं पर भी चर्चा की जाएगी।

दूसरी ओर आंध्र प्रदेश के मुख्यमंत्री और टीडीपी नेता चंद्रबाबू नायडू ने 23 मई को आने वाले नतीजों से पहले विपक्षी दलों को एकजुट करने में जुटे हैं। जिसके तहत सोमवार शाम को उन्होंने पश्चिम बंगाल की मुख्यमंत्री ममता बनर्जी से उनके आवास पर मुलाकात की। दोनों नेताओं ने कांग्रेस और क्षेत्रीय दलों के समर्थन से गैर-भाजपा सरकार बनाने की संभावनाओं पर चर्चा की। सूत्रों के हवाले से बताया जा रहा है कि इस बैठक में निर्णय लिया गया है कि अगर 23 मई को चुनाव परिणाम घोषित होने के बाद अगर हंग असेंबली की स्थिति बनती है तो महागठबंधन के अन्य नेताओं के साथ भी विस्तृत चर्चा की जाएगी।  21 मई को भी टीडीपी प्रमुख एन चंद्रबाबू नायडू और अन्य विपक्षी दलों के नेताओं ने बैठक बुलाई है।

विपक्षी पार्टियां मंगलवार को इलेक्ट्रॉनिक वोटिंग मशीन (ईवीएम) और वीवीपैट के मामले को लेकर चुनाव आयोग भी जाएगी। इस अभियान की अगुआई चंद्रबाबू नायडू कर रहे हैं। चुनाव आयोग से मिलने वाले दलों में ममता बनर्जी की तृणमूल कांग्रेस भी शामिल हो सकती है। चंद्रबाबू नायडू ने कहा कि ईवीएम में छेड़छाड़ काफी आसान है जैसा कि फोन टैपिंग में किया जाता है। इसी को देखते हुए उन्होंने मतों की गिनती के दौरान 50 फीसदी वोटर वेरीफाएबल पेपर ऑडिट ट्रेल (वीवीपैट) पर्चियों का मिलान ईवीएम से कराने की मांग की है।

बता दें कि सात अलग-अलग एग्जिट पोल में अनुमान लगाया गया है कि 543 सदस्यीय लोकसभा में NDA को 287-365 सीटें मिलेगी और केंद्र में फिर से मोदी सरकार बनेगी। एग्जिट पोल में कांग्रेस, जिसने 2014 में 44 सीटों के साथ अपना सबसे खराब प्रदर्शन दर्ज किया था इस बार उसे 100 के करीब सीटें मिल सकती है।