comScore

कोलंबिया से जुड़े कोकीन ट्रेल का पता लगा रहे भारतीय अधिकारी

June 13th, 2020 00:00 IST
 कोलंबिया से जुड़े कोकीन ट्रेल का पता लगा रहे भारतीय अधिकारी

हाईलाइट

  • कोलंबिया से जुड़े कोकीन ट्रेल का पता लगा रहे भारतीय अधिकारी

नई दिल्ली, 12 जून (आईएएनएस)। नारकोटिक्स कंट्रोल ब्यूरो(एनसीबी) ने रॉयल कैनेडियन माउंटेड पुलिस(आरसीएमपी) के साथ अंतर्राष्ट्रीय एजेंसी के खुफिया इनपुट के जरिए कोलंबियन ड्रग किंगपिन से जुड़े भारतीय तस्कर गिरोह का पता लगा रही है।

एनसीबी के निदेशक राकेश अस्थाना ने कहा, कनाडा में भारतीय प्रवासियों द्वारा चलाए जाने वाले अपराध गिरोह वास्तव में विदेशी ड्रग किंगपिन और भारतीय तस्करों की बीच की कड़ी है। भारत में हाल ही में 20 किलोग्राम के कोकिन जब्त किए गए थे। एनसीबी इस बाबत पंजाब और अन्य राज्यों में बड़े खिलाड़ियों की तलाशी के लिए मिले महत्वपूर्ण लीड पर कर रही है और हमें उम्मीद है कि हम जल्द ही उन्हें बेनकाब करने में सफल होंगे।

कोलंबिया और मैक्सिको ड्रग तस्करों से कई भारतीय-कनाडाई संगठित अपराध समूह जुड़े हुए हैं, जो कि ब्रिटिश कोलंबिया में सक्रिय हैं और भारत समेत एशिया में अपने ड्रग्स को भेज रहे हैं। इनमें से अधिकतर गैंग्सटर भारतीय मूल के हैं जो पंजाब से आते हैं।

आस्ट्रेलियाई फेडरल पुलिस से मिली एक खुफिया जानकारी के अनुसार, एनसीबी के शीर्ष अधिकारी ने बीते वर्ष दिसंबर में भारत के सबसे बड़े ड्रग कारटेल का भंडाफोड़ किया था,जोकि कनाडा और कालंबिया के ड्रग माफियाओं से जुड़ा हुआ था।

अस्थाना पहले सीबीआई में थे और उन्होंने कई करोड़ रुपये के चारा घोटाले समेत कई महत्वपूर्ण मामलों का भंडाफोड़ किया है।

उन्होंने कहा, हमने एएफपी के इनपुट पर काम किया और पता चला कि कनाडा के जरिए कोकीन की बड़ी खेप आस्ट्रेलिया पहुंची। कई देशों से जुड़े इस रैकेट के तार भारत से जुड़े हुए थे। अबतक इस मामले में कई लोगों को गिरफ्तार किया गया।

बीते वर्ष दक्षिण दिल्ली से इंडोनेशिया की स्मगलर मोनिका रेनकोट को गिरफ्तार किया गया था, एनसीबी को उससे पूछताछ के दौरान बड़ी लीड मिली है।

रेनकोट अक्षिंदर सिंह सोढ़ी के साथ काम करती थी, जो कि मामले में मुख्य संपर्ककर्ता है। एनीबी के अनुसार, दोनों कनाडा से चलने वाले बड़े ड्रग्स सिंडिकेट के लिए काम करते थे। खेप को भारत, आस्ट्रेलिया और अन्य देशों में भेजा गया था।

अस्थाना ने कहा, मैं ज्यादा सूचनाएं साझा नहीं कर सकता, क्योंकि यह महत्वपूर्ण जांच है। लेकिन मैं आश्वस्त कर सकता हूं कि एनसीबी भारत में इस मामले का भांडाफोड़ करने के लिए प्रतिबद्ध है।

अस्थाना ने कहा, यह महंगा ड्र्रग्स है और इसलिए इसे उच्च वर्ग के लोग प्रयोग करते हैं। इसलिए जब हमने पंजाब, दिल्ली और उत्तराखंड में तस्कर माफियाओं को धर दबोचने की कोशिश की तो हमने मुंबई, बेंगलुरू, दिल्ली और गोवा जैसे मेट्रो शहरों पर नजर रखी, जोकि भारत में बड़े वितरण केंद्र हैं।

कमेंट करें
JlQRK
NEXT STORY

Real Estate: खरीदना चाहते हैं अपने सपनों का घर तो रखे इन बातों का ध्यान, भास्कर प्रॉपर्टी करेगा मदद

Real Estate: खरीदना चाहते हैं अपने सपनों का घर तो रखे इन बातों का ध्यान, भास्कर प्रॉपर्टी करेगा मदद

डिजिटल डेस्क, जबलपुर। किसी के लिए भी प्रॉपर्टी खरीदना जीवन के महत्वपूर्ण कामों में से एक होता है। आप सारी जमा पूंजी और कर्ज लेकर अपने सपनों के घर को खरीदते हैं। इसलिए यह जरूरी है कि इसमें इतनी ही सावधानी बरती जाय जिससे कि आपकी मेहनत की कमाई को कोई चट ना कर सके। प्रॉपर्टी की कोई भी डील करने से पहले पूरा रिसर्च वर्क होना चाहिए। हर कागजात को सावधानी से चेक करने के बाद ही डील पर आगे बढ़ना चाहिए। हालांकि कई बार हमें मालूम नहीं होता कि सही और सटीक जानकारी कहा से मिलेगी। इसमें bhaskarproperty.com आपकी मदद कर सकता  है। 

जानिए भास्कर प्रॉपर्टी के बारे में:
भास्कर प्रॉपर्टी ऑनलाइन रियल एस्टेट स्पेस में तेजी से आगे बढ़ने वाली कंपनी हैं, जो आपके सपनों के घर की तलाश को आसान बनाती है। एक बेहतर अनुभव देने और आपको फर्जी लिस्टिंग और अंतहीन साइट विजिट से मुक्त कराने के मकसद से ही इस प्लेटफॉर्म को डेवलप किया गया है। हमारी बेहतरीन टीम की रिसर्च और मेहनत से हमने कई सारे प्रॉपर्टी से जुड़े रिकॉर्ड को इकट्ठा किया है। आपकी सुविधाओं को ध्यान में रखकर बनाए गए इस प्लेटफॉर्म से आपके समय की भी बचत होगी। यहां आपको सभी रेंज की प्रॉपर्टी लिस्टिंग मिलेगी, खास तौर पर जबलपुर की प्रॉपर्टीज से जुड़ी लिस्टिंग्स। ऐसे में अगर आप जबलपुर में प्रॉपर्टी खरीदने का प्लान बना रहे हैं और सही और सटीक जानकारी चाहते हैं तो भास्कर प्रॉपर्टी की वेबसाइट पर विजिट कर सकते हैं।

ध्यान रखें की प्रॉपर्टी RERA अप्रूव्ड हो 
कोई भी प्रॉपर्टी खरीदने से पहले इस बात का ध्यान रखे कि वो भारतीय रियल एस्टेट इंडस्ट्री के रेगुलेटर RERA से अप्रूव्ड हो। रियल एस्टेट रेगुलेशन एंड डेवेलपमेंट एक्ट, 2016 (RERA) को भारतीय संसद ने पास किया था। RERA का मकसद प्रॉपर्टी खरीदारों के हितों की रक्षा करना और रियल एस्टेट सेक्टर में निवेश को बढ़ावा देना है। राज्य सभा ने RERA को 10 मार्च और लोकसभा ने 15 मार्च, 2016 को किया था। 1 मई, 2016 को यह लागू हो गया। 92 में से 59 सेक्शंस 1 मई, 2016 और बाकी 1 मई, 2017 को अस्तित्व में आए। 6 महीने के भीतर केंद्र व राज्य सरकारों को अपने नियमों को केंद्रीय कानून के तहत नोटिफाई करना था।