comScore

ठंड में ठिठुरा उत्तर भारत, राहत मिलने के आसार नहीं, यूपी में 59 लोगों की मौत

ठंड में ठिठुरा उत्तर भारत, राहत मिलने के आसार नहीं, यूपी में 59 लोगों की मौत

हाईलाइट

  • उत्तर भारत अत्यधित ठंड के चलते ठिठुर रहा
  • घने कोहरे के कारण हवाई यातायात और वाहनों के आवागमन प्रभावित

डिजिटल डेस्क, नई दिल्ली। उत्तर भारत रविवार को अत्यधित ठंड के चलते ठिठुर रहा है। क्षेत्रभर में पारा लुढ़कने के कारण न्यूनतम तापमान में गिरावट दर्ज की गई। भारत मौसम विज्ञान विभाग ने यह जानकारी दी। राष्ट्रीय राजधानी में, लोधी रोड में 2.8 डिग्री सेल्सियस, पालम में 3.2 डिग्री और सफदरजंग में 3.4 डिग्री तापमान दर्ज किया गया। घने कोहरे के कारण शहर में दृश्यता कम हुई और इसने हवाई यातायात और वाहनों के आवागमन को प्रभावित किया।

मौसम विभाग के अधिकारियों के अनुसार, पिछले 24 घंटों में पश्चिम राजस्थान और पश्चिम मध्य प्रदेश में कुछ स्थानों पर तापमान में एक से दो डिग्री की गिरावट दर्ज की गई। उत्तर प्रदेश, हरियाणा, चंडीगढ़, दिल्ली, बिहार, मध्य प्रदेश और राजस्थान में कुछ क्षेत्रों में पारा दो से तीन डिग्री तक बढने के बावजूद ठंड से कोई राहत नहीं है।

मौसम विभाग ने यह भी बताया कि उत्तर-पश्चिम भारत के शेष हिस्सों में तापमान में कोई उल्लेखनीय परिवर्तन नहीं हुआ। दिल्ली, हरियाणा और चंडीगढ़ में शीत लहर के चलते आईएमडी द्वारा रविवार को एक कोड रेड चेतावनी भी जारी की गई है। आईएमडी के वर्गीकरण के तहत कोड रेड उच्चतम स्तर को दर्शाता है और जनता को प्रतिकूल मौसम में एहतियात बरतने की चेतावनी दी गई है। आईएमडी की शनिवार रात की एक बुलेटिन के अनुसार, दिल्ली, हरियाणा, चंडीगढ़, पंजाब, उत्तर प्रदेश, राजस्थान, मध्य प्रदेश, महाराष्ट्र, छत्तीसगढ़, बिहार, उत्तरी गुजरात और ओडिशा के कुछ हिस्सों में भीषण शीतलहर की स्थिति की संभावना है।

उप्र में तेज शीतलहर, पारा लुढ़का
उत्तर प्रदेश में शीतलहर बढ़ती जा रही है और बर्फीली सर्द हवाएं चल रही हैं। शनिवार रात को लखनऊ में पारा लुढ़ककर 3.5 डिग्री सेल्सियस पर पहुंच गया। यूपी में तेज शीतलहर की वजह से 59 लोगों की मौत हो गई है, हालांकि राज्य सरकार का कहना है कि मौतें स्वास्थ्य संबंधी समस्याओं के कारण हुई हैं, न कि शीतलहर के कारण। सबसे ज्यादा 33 मौतें कानपुर और उसके आसपास के जिलों में हुई हैं। 

बिहार में नहीं मिलेगी ठंड से राहत
पटना सहित पूरे बिहार में ठंड कहर बरपा रही है। बिहार के गया का रविवार को न्यूनतम तापमान 5.3 डिग्री सेल्सियस दर्ज किया गया। इस बीच, पछुआ हवा और कोहरे के कारण ठिठुरन भी बढ़ी है। पटना मौसम विज्ञान केंद्र के मुताबिक, पटना का रविवार का न्यूनतम तापमान 6.8 डिग्री सेल्सियस जबकि भागलपुर का 7.3 डिग्री और पूर्णिया का 6.3 डिग्री सेल्सियस दर्ज किया गया। इधर, पटना मौसम विज्ञान केंद्र के मुताबिक, अगले एक-दो दिन तक ठंड से राहत मिलने की कोई उम्मीद नहीं है।

हिमाचल में खिली धूप, लेकिन कड़कड़ाती ठंड बरकरार
हिमाचल प्रदेश के हिल स्टेशनों में रविवार की सुबह अच्छी धूप खिली, लेकिन कुछ स्थानों पर कड़ाके की ठंड की स्थिति अभी भी बरकरार है और इस हफ्ते बर्फबारी की भी संभावना है। राज्य में 30 दिसंबर तक शुष्क मौसम की स्थिति बनी रहेगी। उसके बाद, राज्य में बर्फबारी और बारिश की संभावना है। राज्य की राजधानी में धूप खिली है, लेकिन यहां तापमान 2.8 डिग्री सेल्सियस दर्ज किया गया है। शिमला की ही तरह, अन्य प्रमुख पर्यटन स्थलों जैसे कि कुर्फी, नारकंडा, कसौली, धर्मशाला, पालमपुर, डलहौजी और मनाली में भी धूप निकली जिससे दिन में पारे में थोड़ा चढ़ाव देखने को मिला। डलहौसी में तापमान 4.4 डिग्री सेल्सियस दर्ज किया गया जबकि मनाली में तापमान शून्य से नीचे 2.6 डिग्री और धर्मशाला में 2.2 डिग्री रही।लाहौल और स्पीति के हेडक्वार्टर केलांग में तापमान शून्य से नीचे 11 डिग्री और किन्नौर जिले के कल्पा में शून्य से नीचे 1.6 डिग्री व कुफरी में 1.2 डिग्री सेल्सियस दर्ज किया गया।

पंजाब, हरियाणा में कड़ाके की ठंड, चंडीगढ़ में सबसे सर्द रात
चंडीगढ़ में रविवार को मौसम की सबसे सर्द सुबह दर्ज की गई और इस दौरान घना कोहरा भी छाया हुआ था। यहां मौसम विभाग के अधिकारियों ने बताया कि पंजाब और हरियाणा में कई स्थानों पर तापमान हिमांक के आसपास रहा और इस सप्ताह बारिश भी हो सकती है। भारतीय मौसम विज्ञान विभाग (आईएमडी) के एक अधिकारी ने आईएएनएस से कहा, चंडीगढ़ में 2.1 डिग्री सेल्सियस न्यूनतम तापमान के साथ मौसम की सबसे सर्द रात दर्ज की गई। शनिवार को न्यूनतम तापमान 5.1 डिग्री सेल्सियस रहा था। चंडीगढ़ में लगातार 12वें दिन रविवार को भी कड़कड़ाती सर्दी रही। न्यूनतम तापमान सामान्य से तीन डिग्री कम था। आईएमडी के रिकॉर्ड्स के अनुसार, शहर में सर्दी का सबसे लंबा दौर 2007 में 22 दिन का दर्ज किया गया था। पिछले साल दिसंबर में चंडीगढ़ का न्यूनतम तापमान 3.4 डिग्री सेल्सियस तक हो गया था।

कमेंट करें
GKjAk
NEXT STORY

Tokyo Olympics 2020:  इस बार दिखेगा भारत के 120 खिलाड़ियों का दम, 18 खेलों में करेंगे शिरकत

Tokyo Olympics 2020:  इस बार दिखेगा भारत के 120 खिलाड़ियों का दम, 18 खेलों में करेंगे शिरकत

डिजिटल डेस्क, नई दिल्ली। टोक्यो ओलंपिक का काउंटडाउन शुरु हो चुका हैं। 23 जुलाई से शुरु होने जा रहे एथलेटिक्स त्यौहार में भारतीय दल इस बार 120 खिलाड़ियों के साथ 18 खेलों में दावेदारी पेश करेगा। बता दें 81 खिलाड़ियों के लिए यह पहला ओलंपिक होगा। 120 सदस्यों के इस दल में मात्र दो ही खिलाड़ी ओलंपिक पदक विजेता हैं। पी.वी सिंधू ने 2016 रियो ओलंपिक में सिल्वर तो वहीं मैराकॉम ने 2012 लंदन ओलंपिक में ब्रॉन्ज मेडल अपने नाम किया था।

भारत पहली बार फेंनसिग में चुनौता पेश करेगा। चेन्नई की भवानी देवी पदक की दावेदारी पेश करेंगी। भारत 20 साल के बाद घुड़सवारी में वापसी कर रहा है, बेंगलुरु के फवाद मिर्जा तीसरे ऐसे घुड़सवार हैं जो ओलंपिक में भारत का प्रतिनिधित्व करेंगे। 

olympic

युवा कंधो पर दारोमदार

टोक्यो ओलंपिक में भाग लेने जा रहे भारतीय दल में अधिकतर खिलाड़ी युवा हैं। 120 खिलाड़ियों में से 103 खिलाड़ी 30 से भी कम आयु के हैं। मात्र 17 खिलाड़ी ही 30 से ज्यादा उम्र के होंगे। 

भारतीय दल में 18-25 के बीच 55, 26-30 के बीच 48, 31-35 के बीच 10 तो वहीं 35+ उम्र के 7 खिलाड़ी हिस्सा ले रहे हैं। इस लिस्ट में सबसे युवा 18 साल के दिव्यांश सिंह पंवार हैं, जो शूटिंग में चुनौता पेश करेंगे, तो वहीं सबसे उम्रदराज 45 साल के मेराज अहमद खान होंगे जो शूटिंग में ही पदक के लिए भी दावेदार हैं।