दैनिक भास्कर हिंदी: 7 आतंकियों को तिहाड़ जेल में ट्रांसफर करना चाहती है J&K सरकार

February 22nd, 2019

हाईलाइट

  • सुप्रीम कोर्ट के जज ने केंद्र और दिल्ली सरकार से मांगा जवाब
  • याचिका पर सुनवाई के लिए तैयार सुप्रीम कोर्ट
  • पुलवामा आतंकी हमले के बाद J&K सरकार ने उठाया कदम

डिजिटल डेस्क, श्रीनगर। जम्मू कश्मीर सरकार ने सात पाकिस्तान आतंकी बंदियों के खिलाफ कोर्ट में याचिका दायर की है। सरकार का कहना है कि जम्मू जेल में बंद 7 पाकिस्तानी आतंकियों को तिहाड़ जेल भेजा जाना चाहिए। आरोप है कि ये बंदी जेल में बंद दूसरे बंदियों का भी ब्रैनवॉश कर उन्हें आतंकी बनने के लिए प्रेरित कर रहे हैं। सुप्रीम कोर्ट के जस्टिस एलएन राव और एमआर शाह की बेंच ने याचिका पर केंद्र और दिल्ली सरकार  से जवाब मांगा है।

सुप्रीम कोर्ट याचिका पर सुनवाई के लिए तैयार हो गया है, उसने जम्मू कश्मीर सरकार के स्टैंडिंग काउंसल शोएब आलम से कहा है कि नोटिस की कॉपी सातों आतंकियों को भी भेजना होगा। पाकिस्तानी आतंकी बंदियों पर शोएब आलम ने सुप्रीम कोर्ट को बताया कि जम्मू जेल में बंद कई संगठनों के आतंकियों को दूसरी जगह ट्रांसफर करना होगा। आतंकी स्थानीय बंदियों को भी आतंकवाद से जुड़ने के लिए प्रेरित कर रहे हैं, सरकार का तर्क है कि तिहाड़ जेल न भेजने की सूरत में उन्हें हरियाणा या पंजाब की किसी भी जेल में कड़ी सुरक्षा के बीच भेजा जा सकता है।

बता दें कि 14 फरवरी को कश्मीर के पुलवामा में आतंकी हमला हुआ था, जिसमें सीआरपीएफ के 40 जवान शहीद हो गए थे। आतंकी संगठन जैश-ए-मोहम्मद ने इस हमले की जिम्मेदारी ली थी। इसके बाद ही लश्कर-ए-तैयबा के आतंकी जाहिद फारूक को जम्मू जेल से ट्रांसफर करने कि याचिका दायर की गई थी। फारूक को सेना ने 19 मई 2019 को बॉर्डर पार करने को कोशिश करते समय गिरफ्तार किया था।

जम्मू-कश्मीर सरकार का मानना है कि जैश और लश्कर के आतंकी जेल में बंद दूसरे बंदियों का ब्रैनवॉश कर रहे हैं। सरकार का यह भी मानना है कि उन्हें स्थानीय लोगों का भी समर्थन हासिल है। इन लोगों से ही उन्हें सूचनाएं, संसाधन और दूसरी चीजें भी मिल जाती हैं।