comScore

J&K: पुलवामा में आतंकी हमले की साजिश नाकाम, निशाने पर थे सुरक्षाबल, सेना ने इस तरह हादसे को टाला


हाईलाइट

  • पुलवामा में आतंकी हमले की साजिश को सेना ने किया नाकाम
  • राजपोरा इलाके में IED से भरी कार को सेना ने किया जब्त

डिजिटल डेस्क, श्रीनगर। जम्मू-कश्मीर के पुलवामा में सेना ने गुरुवार को एक बड़े आतंकी हमले की साजिश को नाकाम कर दिया है। आतंकियों ने 2019 में पुलवामा में सीआरपीएफ के काफिले पर हुए हमले की तरह ही फिर से IED ब्लास्ट करने की योजना बनाई थी, लेकिन सुरक्षाबलों ने समय रहते ही इस पर पानी फेर दिया। दरअसल सुरक्षाबलों ने राजपोरा के आइनगुंड इलाके में एक सैंट्रो कार को जब्त किया है, जिसमें IED प्लांट किया गया था। बम डिस्पोज़ल स्क्वायड ने वक्त रहते इसे डिफ्यूज कर दिया। इसके बाद इलाके को खाली कराकर कार को बम से उड़ा दिया गया। आतंकियों की इस साजिश को सुरक्षाबलों ने किस तरह से फेल किया इसकी पूरी कहानी जम्मू-कश्मीर पुलिस ने बताई।

कश्मीर पुलिस ने प्रेस कॉन्फ्रेंस कर बताया, सुरक्षाबलों ने पुलवामा जैसे आतंकी हमले को नाकाम किया है। आईजी विजय कुमार ने कहा, हमे जैश-ए-मोहम्मद की साजिश की जानकारी मिली थी। यह एक आत्मघाती हमले की योजना थी जिसके निशाने पर सुरक्षाबल थे। पुलिस, सेना और सीआरपीएफ की मदद से एक बड़े हादसे को टाला गया। मैं इसके लिए सबको बधाई देता हूं।

पुलिस ने बताया हमें पिछले एक हफ्ते से हमले के बारे में खबर मिल रही थी, इसलिए हम बेहद सतर्क थे। चेक पोस्ट पर जब गाड़ी रोकने की कोशिश की गई तो संदिग्धों ने गाड़ी नहीं रोकी। गाड़ी पर फायरिंग के बाद वे गाड़ी को छोड़कर भाग गए। बरामद की गई कार में करीब 45 किलो विस्फोटक था जिसे पूरी सावधानी के साथ नष्ट किया गया।

बताया जा रहा है कि, आईईडी से भरी कार को पुलवामा के राजपोरा रोड के पास शादीपुरा में पकड़ा गया। सफेद रंग की इस सैंट्रो कार में स्कूटर की नंबर प्लेट लगाई गई थी, जो कि कठुआ की रजिस्टर्ड थी। जम्मू-कश्मीर पुलिस ने इसे ट्रैक कर जब्त कर लिया। 

एक आतंकी गाड़ी को चला रहा था, सुरक्षाबलों की शुरुआती गोलीबारी के बाद ही वह मौके से फरार हो गया। हालांकि अब इस मामले की जांच NIA करेगी, इसके लिए एजेंसी की एक टीम इलाके का दौरा भी करेगी।

 IED ब्लास्ट में शहीद हुए थे 40 जवान
गौरतलब है कि, 14 फरवरी 2019 को जम्मू-कश्मीर के पुलवामा में सीआरपीएफ के काफिले पर बड़ा हमला हुआ था, जिसमें 40 जवान शहीद हो गए थे। इस हमले में जैश-ए-मोहम्मद के आतंकियों ने आईईडी से भरी एक कार का इस्तेमाल किया था, जिसे सीआरपीएफ जवानों के काफिले में घुसा दिया था।

लॉकडाउन उल्लंघन: दिल्ली पुलिस ने दाती महाराज को किया गिरफ्तार, पूछताछ के बाद जमानत पर रिहा

कमेंट करें
Cgs8X