comScore

कार्रवाई: आतंकियों के साथ गिरफ्तार डीएसपी सस्पेंड, वापस लिया जा सकता है वीरता पदक, जांच एजेंसियां सक्रिय

कार्रवाई: आतंकियों के साथ गिरफ्तार डीएसपी सस्पेंड, वापस लिया जा सकता है वीरता पदक, जांच एजेंसियां सक्रिय

हाईलाइट

  • डीएसपी देवेंद्र सिंह के घर दोबारा तलाशी
  • श्रीनगर एयरपोर्ट स्थित डीएसपी कार्यालय सील
  • वीरता पदक भी लिया जा सकता है वापस

डिजिटल डेस्क, नई दिल्ली। जम्मू-कश्मीर के कुलगाम में हिज्बुल मुजाहिदीन और लश्कर-ए-तैयबा के आतंकियों के साथ गिरफ्तार किए गए डीएसपी देवेंद्र सिंह को सोमवार को निलंबित कर दिया गया है। डीएसपी से पूछताछ में कई चौंकाने वाले खुलासे के बाद दूसरी बार उसके घर की तलाशी ली गई, जिसमें पता चला कि उसने तीन आतंकियों को अपने घर ठहराया था। उसका घर बादामीबाग स्थित सेना की 15वीं कोर मुख्यालय के बगल में है। डीएसपी इस को 2017 से बनवा रहा था। यह एरिया जम्मू-कश्मीर के सबसे सुरक्षित क्षेत्रों में से एक माना जाता है। इसके साथ ही श्रीनगर एयरपोर्ट स्थित उसके कार्यालय को भी सील कर दिया गया है, जहां वह एंटी हाइजैकिंग स्कवॉड में तैनात था।

जम्मू-कश्मीर के पुलिस अधिकारी देवेंद्र सिंह की गिरफ्तारी के दो दिन बाद केंद्रीय गृह मंत्रालय को विभिन्न एजेंसियों द्वारा तैयार की गई प्रारंभिक पूछताछ रिपोर्ट प्राप्त हुई है। देवेंद्र सिंह को बहादुरी के लिए राष्ट्रपति का वीरता पुलिस पदक मिल चुका है, जिसे वापस लिया जा सकता है। देवेंद्र सिंह के दो आतंकवादियों के साथ शनिवार को गिरफ्तार किए जाने के बाद से एजेंसियां सक्रिय हो गई थीं।

सूत्रों ने सोमवार को कहा कि रिपोर्ट को रिसर्च एंड एनालिसिस विंग (आरएडब्ल्यू), इंटेलिजेंस ब्यूरो (आईबी), नेशनल इन्वेस्टिगेशन एजेंसी (एनआईए) और जम्मू-कश्मीर पुलिस की सीआईडी विंग ने तैयार किया है। ये सभी सिंह के गिरफ्तार किए जाने के बाद से उससे पूछताछ कर रही थीं। ऐसा सिंह द्वारा आतंकवादियों को दिल्ली में पहुंचने के लिए मदद किए जाने की जानकारी पता चलने के बाद किया गया।

केंद्रीय गृह सचिव को रिपोर्ट सौंपी
अतिरिक्त सचिव (जम्मू-कश्मीर और लद्दाख) ज्ञानेश कुमार के माध्यम से केंद्रीय गृह सचिव को भेजी गई रिपोर्ट सौंपी गई। ज्ञानेश कुमार इस प्रमुख घटनाक्रम की निगरानी कर रहे हैं। देवेंद्र सिंह, श्रीनगर इंटरनेशनल एयरपोर्ट पर उप पुलिस अधीक्षक के पद पर तैनात था।
  
दो दिन से था गैर हाजिर
पूछताछ में पता चला है कि हिजबुल मुजाहिदीन कमांडर नवीद बाबू तथा अल्ताफ को लेकर शुक्रवार को वकील इरफान डीएसपी के घर पहुंचा था। इरफान आतंकी संगठनों के लिए ओजीडब्ल्यू के तौर पर काम करता है। मीर बाजार इलाके में आतंकियों के साथ पकड़े जाने के दिन डीएसपी ड्यूटी से गैरहाजिर था।

घर से मिले थे हथियार
उसने रविवार से गुरुवार तक छुट्टी ले रखी थी। पकड़े जाने के बाद जब उसके घर की तलाशी ली गई तो एक एके-47 राइफल, दो पिस्टल तथा गोला-बारूद बरामद किया गया था। माना जा रहा है कि 48 घंटे से अधिक समय तक पुलिस हिरासत में रहने के कारण उसे निलंबित किया गया है। 

दफ्तर को सील किया गया
उसके एयरपोर्ट स्थित दफ्तर को इसलिए सील किया गया है, ताकि सबूतों से किसी प्रकार का छेड़छाड़ न की जा सके। पूछताछ में हुए खुलासे के बाद सोमवार को उसके श्रीनगर स्थित आवास की दोबारा तलाशी ली गई। यहां से कुछ अहम दस्तावेज जब्त किए गए हैं। पूरे मामले से जुड़ी अहम कड़ियां तलाशने के लिए एक दर्जन जांच टीमें बनाई गई हैं। टीमें कश्मीर के अलग-अलग हिस्सों में जांच कर रही हैं। एक टीम स्थायी तौर पर शोपियां में डेरा डाले हुए है। 

कमेंट करें
12Otm