ओमिक्रॉन पर कर्नाटक सख्त: राज्य सरकार ने किया अंतर्राष्ट्रीय यात्रियों के लिए नए दिशानिर्देश जारी, 7 दिनों के लिए होम आइसोलेशन अनिवार्य

November 29th, 2021

हाईलाइट

  • अंतर्राष्ट्रीय यात्री निगेटिव रिपोर्ट के बाद ही हवाई अड्डों से बाहर निकल सकते है

डिजिटल डेस्क, बेंगलुरु। कर्नाटक सरकार ने सोमवार को अंतर्राष्ट्रीय यात्रियों की आवाजाही पर नए दिशानिर्देशा जारी किए हैं। स्वास्थ्य विभाग द्वारा जारी सर्कुलर के अनुसार, जोखिम वाले 12 देशों से आने वाले यात्रियों के आने पर आरटी-पीसीआरटेस्ट किया जाएगा। सात दिनों के लिए होम आइसोलेशन अनिवार्य किया जा रहा है और यात्रियों को आठवें दिन फिर से टेस्ट करवाना होगा।

मुख्यमंत्री बसवराज बोम्मई ने सोमवार को कहा कि अंतर्राष्ट्रीय यात्री केवल निगेटिव रिपोर्ट के साथ ही हवाई अड्डों से बाहर निकल सकते हैं। नए स्ट्रेन के संबंध में विश्व स्वास्थ्य संगठन (डब्ल्यूएचओ) के दिशानिर्देशों का पालन किया जाएगा। प्रधानमंत्री और केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्री ने भी एहतियाती उपायों की सिफारिश की है जिनका पालन किया जाएगा। उन्होंने कहा कि कर्नाटक ने बहुत पहले ही एहतियाती उपाय शुरू कर दिए हैं। दिशानिर्देशों के अनुसार, अंतर्राष्ट्रीय आवाजाही पर अगर कोई कोरोना पॉजिटिव मामला मिलेगा तो उसके नमूने के लिए जीनोमिक अनुक्रमण के लिए भेजा जाएगा और उन्हें एक अलग आइसोलेशन सुविधा में भर्ती कराया जाएगा। अगर जीनोमिक अनुक्रमण बी.1.1.529 (ओमिक्रॉन वेरिएंट) निगेटिव आता है, तो उन्हें उपचार करने वाले चिकित्सक के कहने पर छुट्टी दे दी जाएगी।

जोखिम वाले देशों के रूप में सूचीबद्ध देशों को छोड़कर देशों से आने वाले यात्रियों के लिए, निगेटिव परिणामों वाले पांच प्रतिशत यात्रियों को एक या²च्छिक नमूने आने पर आरटी-पीसीआर परीक्षण से गुजरना होगा। अगर पॉजिटिव आता है, तो उनके नमूने जीनोमिक अनुक्रमण के लिए भेजे जाएंगे। जिन देशों से यात्रियों को आगमन पर अतिरिक्त उपायों का पालन करने की आवश्यकता होगी, उनमें यूके, दक्षिण अफ्रीका, ब्राजील, बांग्लादेश, बोत्सवाना, चीन, मॉरीशस, न्यूजीलैंड, जिम्बाब्वे, सिंगापुर, हांगकांग और इजरायल सहित यूरोप के सभी देश शामिल हैं।

धारवाड़, मैसूरु जिलों में शैक्षणिक संस्थानों में पाए गए कोरोना मामलों के हालिया समूहों में केरल और महाराष्ट्र से 15 दिन पहले आने वालों के लिए आरटी-पीसीआर परीक्षण करने का निर्देश दिया गया है। पड़ोसी राज्यों के छात्रों को भी उनके आगमन के सातवें दिन बार-बार आरटी-पीसीआर परीक्षण से गुजरना होगा। सरकार ने शिक्षण संस्थानों को सभी सामाजिक, सांस्कृतिक और शैक्षणिक गतिविधियों को स्थगित करने के लिए भी कहा है।

(आईएएनएस)