दैनिक भास्कर हिंदी: कर्नाटक: कांग्रेस के आरोपों पर उसी के विधायक ने फेरा पानी, कहा- बीजेपी ने नहीं दिया कोई ऑफर

May 21st, 2018

डिजिटल डेस्क, बेंगलुरू। कर्नाटक में कांग्रेस द्वारा बीजेपी पर लगाए गए विधायकों की खरीद-फरोख्त के आरोपों को उन्हीं के विधायक ने खारिज किया है। कर्नाटक विधानसभा में फ्लोर टेस्ट से पहले कांग्रेस ने कुछ ऑडियो टेप जारी कर दावा किया था कि बीजेपी की ओर से कांग्रेस विधायकों की पत्नियों को फोन कर ऑफर दिया जा रहा है। ऐसी ही एक टेप में कर्नाटक की येल्लापुर विधानसभा से कांग्रेस के विधायक शिवराम हेब्बर की पत्नी को बीजेपी द्वारा ऑफर दिए जाने की बात कही जा रही थी, जिसे खुद शिवराम हेब्बर ने झूठा बताया है।

कांग्रेस विधायक शिवराम हेब्बर ने अपनी पार्टी द्वारा जारी किए गए ऑडियो टेप को फर्जी बताते हुए कहा है कि उनकी पत्नी के पास बीजेपी नेताओं की ओर से कोई कॉल नहीं आया। उन्होंने यह भी कहा है कि ऑडियो टेप में जो आवाज आ रही है वह भी उनकी पत्नी की नहीं है। शिवराम हेब्बर ने फेसबुक पोस्ट लिखकर अपनी बात रखी है। उन्होंने कन्नड़ भाषा में पोस्ट करते हुए लिखा है, 'मुझे बड़ी देर में यह सूचना मिली कि पार्टी ने कुछ ऑडियो टेप जारी किए हैं, जिनमें बीजेपी की ओर से मेरी पत्नी को समर्थन के लिए कॉल किया गया था। मैं स्पष्ट कर दूं कि यहां कुछ गलतफहमी है। मेरी पत्नी को बीजेपी की ओर से कोई फोन कॉल नहीं आया। टेप में जो आवाज है वह भी मेरी पत्नी की नहीं है। ऑडियो टेप फर्जी है और मैं इसकी निंदा करता हूं।'

गौरतलब है कि कर्नाटक में चुनाव नतीजे आने के बाद चार दिनों तक राजनीतिक उठापटक चली थी। यहां 104 सीटें जीतकर सबसे बड़ी पार्टी बनकर उभरी बीजेपी ने सरकार बनाने के दावे के साथ ही बीएस येदियुरप्पा को सीएम पद की शपथ भी दिला दी थी। राज्यपाल वजुभाई वाला ने सीएम येदियुरप्पा को बहुमत साबित करने के लिए 15 दिन का समय भी दे दिया था। कांग्रेस और जेडीएस ने इस पर सुप्रीम कोर्ट का दरवाजा खटखटाया था। इसके बाद दो दिन के अंदर ही बीजेपी को सदन में बहुमत साबित करने के लिए कहा गया था। हालांकि दो दिन मुख्यमंत्री रहने के बाद येदियुरप्पा बहुमत के लिए जरूरी आंकड़े नहीं जुटा पाए थे और फ्लोर टेस्ट से पहले ही सीएम पद से इस्तीफा दे दिया था। इन चार दिनों के बीच में कांग्रेस-जेडीएस गठबंधन और बीजेपी के बीच जमकर आरोप-प्रत्यारोप का दौर चला था। कांग्रेस और जेडीएस ने बीजेपी पर अपने विधायकों को खरीदने और किडनैप करने के आरोप लगाए थे। कांग्रेस ने कुछ ऑडियो टेप जारी कर दावा किया था कि बीजेपी की ओर से कांग्रेस विधायकों की पत्नियों को फोन कर ऑफर दिया जा रहा है।