दैनिक भास्कर हिंदी: केरल में बारिश एक बार फिर मचा सकती है तबाही, 3 जिलों में जारी किया गया रेड अलर्ट

October 4th, 2018

हाईलाइट

  • केरल में एक बार फिर बारिश कहर बरपा सकती है।
  • मौसम विभाग ने अगले 5 दिनों के लिए केरल में भारी बारिश होने की आशंका जताई है।
  • मौसम विभाग ने मछुआरों को सलाह दी है कि वह अगले 2-4 दिनों तक समुद्र में मछली पकड़ने न जाए।

डिजिटल डेस्क, तिरुवनंतपुरम। केरल में एक बार फिर बारिश कहर बरपा सकती है। मौसम विभाग ने अगले 5 दिनों के लिए केरल में भारी बारिश होने की आशंका जताई है। मौसम विभाग ने जिलावार चेतावनी जारी करते हुए मछुआरों को सलाह दी है कि वह अगले 2-4 दिनों तक समुद्र में मछली पकड़ने न जाए। इससे पहले बुधवार को भारतीय मौसम विभाग (IMD) ने केरल के इडुक्की, थ्रिशूर और पलक्कड़ जिलों में बारिश होने का अनुमान जताते हुए रेड अलर्ट जारी किया था।

चक्रवाती तूफान बरपा सकता है कहर
केरल मौसम विज्ञान विभाग के डायरेक्टर के. संतोष ने कहा कि दक्षिणपूर्व अरब सागर और आसपास के लक्षद्वीप मालदीव क्षेत्र पर साइकलोनिक सर्कुलेशन है। इसके प्रभाव से, अगले 24 घंटों के दौरान लक्षद्वीप के पास दक्षिणपूर्व अरब सागर पर कम दबाव वाला क्षेत्र बन सकता है। यह अगले 36 घंटों में बढ़कर डिप्रेशन बन जाएगा और फिर उत्तर-पश्चिम की ओर बढ़ते हुए चक्रवाती तूफान में बदल जाएगा। यह उत्तर-पश्चिम की ओर ओमान कोस्ट की दिशा में बढ़ेगा। यह तूफान कहर बरपा सकता है।

क्या कहा पिनरायी विजयन ने?
बुधवार को केरल के मुख्यमंत्री पिनारायी विजयन ने तीन जिलों में भारी बारिश की चेतावनी जारी होने के बाद विपरीत हालात से निपटने के लिए जिला प्रशासन को निर्देश दिए थे। वहीं पलक्कड़ जिले में एहतियात के तौर पर मालमपूजा बांध के जलस्तर को कम किया जा रहा है। गुरुवार को बांध के जलस्तर को 9 सेमी तक कम करने के लिए इसके 4 गेट को खोल दिया गया। इसके अलावा प्रशासनिक अधिकारी लगातार हालात पर नजर बनाए हुए हैं।

अगस्त में केरल ने किया था बड़ी त्रासदी का सामना
इससे पहले इसी साल अगस्त में केरल ने सदी की सबसे बड़ी जल त्रासदी का सामना किया था। सरकारी आंकड़ों के मुताबिक भारी बारिश और बाढ़ की वजह से तब केरल में 443 लोग मारे गए थे। साथ ही राज्य के 14 जिलों में करीब 54.11 लाख लोग बुरी तरह प्रभावित भी हुए थे। भारी बारिश के कारण आई बाढ़ से करीब 20 हजार करोड़ रुपये की संपत्ति का नुकसान हुआ था। 

खबरें और भी हैं...