comScore

© Copyright 2019-20 : Bhaskarhindi.com. All Rights Reserved.

केरल में बाढ़ से अब तक 357 मौतें, केन्द्र समेत अन्य राज्यों ने जारी की सहायता राशि

August 19th, 2018 00:48 IST
केरल में बाढ़ से अब तक 357 मौतें, केन्द्र समेत अन्य राज्यों ने जारी की सहायता राशि

हाईलाइट

  • चार राज्यों के मुख्यमंत्री कर चुके हैं करोड़ों रुपए की मदद का ऐलान।
  • जलमग्न हुआ कोच्चि इंटरनेशनल एयरपोर्ट।
  • NDRF की 5 यूनिट तिरुवनन्तपुरम पहुंची।
  • 39 बांधों में से ज्यादातर बांधों में वॉटर लेवल खतरे के निशान से ऊपर।

डिजिटल डेस्क, तिरुवनन्तपुरम। केरल में भारी बारिश और बाढ़ के चलते शनिवार को 33 और मौतें हुई। यहां बाढ़ और भूस्खलन से मरने वालों की संख्या 357 हो गई है। शनिवार को प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी ने बाढ़ प्रभावित इलाकों का हवाई सर्वे किया। इस दौरान उन्होंने केंद्र की ओर से राज्य को तत्काल 500 करोड़ रुपए की राहत राशि देने की घोषणा की। इसके अलावा आपदा में मृत लोगों के परिजनों को 2 लाख और गंभीर घायलों को 50 हजार रुपए देने का ऐलान भी किया। यह राशि प्रधानमंत्री राहत कोष से दी जाएगी।

केन्द्र के अलावा देशभर की विभिन्न राज्य सरकारों ने भी केरल को मदद के रूप में 5 से 15 करोड़ रुपए तक की राशि जारी की है। कई संस्थान, विधायक, सांसद और आम लोग भी केरल में बाढ़ से प्रभावित लोगों की मदद के लिए आगे आ रहे हैं और अपनी सैलरी मदद राशि के रूप में केरल बाढ़ सहायता कोष में डाल रहे हैं।

बता दें कि केरल में आज (रविवार) को भी भारी बारिश की आशंका है। इसे देखते हुए पथानमथिटा, इडूकी और इरनाकुलम में रविवार के लिए रेड अलर्ट जारी किया गया है। शनिवार को भी तेज बारिश के चलते 11 जिलों में रेड अलर्ट जारी किया गया था। पूरे राज्य में इस समय बड़ी संख्या में NDRF की टीमें राहत एवं बचाव कार्य में जुटी हुई हैं। यहां NDRF के द्वारा अब तक का सबसे बड़ा ऑपरेशन चलाया जा रहा है। केरल के मुख्यमंत्री पिनाराई विजयन के मुताबिक, बाढ़ से राज्य को तकरीबन 19512 करोड़ रुपये का नुकसान हुआ है।

LIVE UPDATES :

11.51 PM : नीलाम्पंथी में भूस्खलन के बाद रेस्क्यू किए गए 35 लोगों को नेमारा के सरकारी स्कूल में आश्रय दिया गया है। यहां उनके रहने और खाने-पीने की व्यवस्था की गई है।
 


11.10 PM :
NDRF की तीन और टीमें पुणे से केरल रवाना हुईं। इससे पहले पुणे से ही 4 टीमें भेजी गई थीं।


10.35 PM : इंडियन कोस्टगॉर्ड ने बाढ़ प्रभावित पूर्वी कडांगलुर के एक घर से 10 दिन के नवजात को बचाया।
 



09.37 PM : शनिवार को 33 मौतें। 357 पहुंचा मरने वालों का आंकड़ा।


09.21 PM :
राजस्थान सीएम वसुंधरा राजे ने बाढ़ प्रभावित केरल के लिए 10 करोड़ की सहायता राशि जारी करने का एलान किया।
 


08.15 PM :
पथानमथिटा, इडूकी और इरनाकुलम में रविवार के लिए रेड अलर्ट जारी किया गया है।
 


07.54 PM :
छत्तीसगढ़ से केरल जाएगी चावल से भरी ट्रेन। डॉक्टर, सैनिक और राज्य की जनता भी मदद के लिए केरल जाने को तैयार।



07.15 PM : इंडियन कमर्शियल पायलट एसोसिएशन ने पीएम मोदी को पत्र लिखकर कहा, 'बाढ़ प्रभावित केरल में ऑपरेशन मदद और ऑपरेशन सहयोग को सपोर्ट करने के लिए हम प्रतिबद्ध हैं।'


06.59 PM :
हिमाचल प्रदेश सीएम जयराम ठाकुर ने बाढ़ प्रभावित केरल के लिए 5 करोड़ की सहायता राशि का ऐलान किया।
 


06.43 PM :
अलापाजुआ के चेगनूर में भारतीय वायु सेना ने सहायता सामान और खाने की चीजें ड्रॉप कीं।
 


06.18 PM :
इंडियन नेवी बाढ़ प्रभावित चेगनुर में रेस्क्यू ऑपरेशन चला रही है।
 


05.30 PM :
केरल में राहत एवं बचाव कार्य के लिए उड़ीसा से रवाना हुए 240 फायर सर्विस पर्सनल।


05.19 PM :
रेलमंत्री पीयुष गोयल ने कहा है, केन्द्र सरकार केरल को बाढ़ संकट से उबारने के लिए पूरी मदद कर रही है। विभिन्न राज्य सरकारों और संस्थानों द्वारा भेजी जा रही राहत सामग्री का रेलवे फ्री ट्रांसपोर्ट कर रहा है।
 



04.59 PM :
मध्यप्रदेश के मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने बाढ़ प्रभावित केरल के लिए 10 करोड़ की मदद राशि जारी की।


04.44 PM : कांग्रेस प्रवक्ता रणदीप सुरजेवाला ने बताया, कांग्रेस के सभी सांसद और विधायक अपने 1 महीने की सैलरी केरल में बाढ़ प्रभावितों की मदद के लिए दान करेंगे।
 


04.30 PM :
केरल के तीन जिलों को छोड़कर पूरे राज्य में आज फिर भारी बारिश के संकेत, 11 जिलों में जारी किया गया रेड अलर्ट।


04.22 PM : पंजाब सीएम कैप्टन अमरिंदर सिंह ने केरला बाढ़ पीड़ितों के लिए 10 करोड़ सहायता राशि जारी की है। इसमें 5 करोड़ रुपए की राशि फूड मटेरियल के रूप में है, जो कि पंजाब से केरल के लिए भेजी जा रही है।


04.10 PM : NDRF की 15 टीमें त्रिसर में, 11 टीमें अलापुजा, 5 एरनाकुलम, 4 इडूकी, 3 मालापुरम् और 2-2 टीमें वायनड और कोझिकोड में राहत एवं बचाव कार्य में जुटी हुई हैं। शनिवार को 194 लोगों का रेस्क्यू किया गया है।


02.20 AM : केरल में आई बाढ़ को कांग्रेस ने राष्ट्रीय आपदा घोषित करने की मांग की। कांग्रेस के मुख्य प्रवक्ता रणदीप सुरजेवाला ने कहा, 'बाढ़ की वजह से केरल में 2000 से 3000 करोड़ का नुकसान हो गया है।

02.00 AM : बाढ़ प्रभावित क्षेत्रों में मदद पहुंचाने के लिए भारतीय सेना राहत सामग्री लेकर तिरुअनंतपुरम हवाई अड्डे पर पहुंची।

01.20 AM : केरल के मुख्यमंत्री पिनाराई विजयन ने कहा कि प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने राज्य का हवाई सर्वे किया। खराब मौसम के कारण कुछ जगहों पर हमारा हेलीकॉप्टर नहीं जा सका। पीएम ने राज्य को 500 करोड़ रुपए दिए हैं। हम उन्हें धन्यवाद देते हैं, साथ ही हम पीएम से और हेलीकॉप्टर की मांग करते हैं।

01.00 AM : राहुल गांधी ने केरल बाढ़ को राष्ट्रीय आपदा घोषित करने की मांग की है।

12.30 AM : एनडीआरएफ डीजी संजय कुमार ने बताया, 'बाढ़ प्रभावित 8 जिलों में एनडीआरएफ की 58 टीमें तैनात की गई हैं। 170 लोगों को रेस्क्यू किया गया है। 7000 लोगों को सुरक्षित स्थानों पर पहुंचाया गया है। जरूरत पढ़ने पर और टीमें तैनात की जाएंगी।

11.05 AM : प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी, केरल के मुख्यमंत्री पिनाराई विजयन, राज्यपाल पी सदाशिवम और केंद्रीय पर्यटन मंत्री केजे अल्फोंस ने बाढ़ प्रभावित इलाकों का हवाई सर्वे किया।

10.50 AM : स्टेट बैंक ऑफ इंडिया ने मुख्यमंत्री आपदा कोष में 2 करोड़ रुपए दान किए। एसबीआई ने केरल में बैंक फीस और चार्ज में भी छूट देने का फैसला किया है।

तेलंगाना के सीएम के चंद्रशेखर राव ने 25 करोड़ और महाराष्ट्र के मुख्यमंत्री ने 20 करोड़ रुपए केरल को देने का ऐलान किया है। इसके अलावा पंजाब के मुख्यमंत्री कैप्टिन अमरिंदर सिंह, आंध्र प्रदेश के सीएम चंद्रबाबू नायडू, हरियाणा के सीएम मनोहर लाल खट्टर, बिहार के मुख्यमंत्री नीतीश कुमार, गुजरात के सीएम विजय रुपाणी और दिल्ली के सीएम अरविंद केजरीवाल ने केरल बाढ़ पीड़ितों के लिए 10-10 करोड़ की राहत राशि देने का ऐलान किया। ओडीशा के सीएम नवीन पटनायक और झारखंड के मुख्यमंत्री रघुवर दास ने भी 5-5 करोड़ रुपए देने का ऐलान किया है।

4688 लोगों को सुरक्षित स्थानों पर पहुंचाया
इंडियन कोस्ट गार्ड के 4 कैपिटल शिप कोच्चि पहुंच गए हैं। ये डिजास्टर और रिलीफ टीम के साथ काम करेंगे। 24 टीमें पहले से ही बाढ़ प्रभावित गांवों में हैं। इंडियन कोस्टगार्ड ने अब तक 1764 लोगों को बचा लिया है और 4688 लोगों को सुरक्षित स्थानों पर पहुंचाया है। वायुसेना के हेलिकॉप्टर प्रभावित इलाकों से लोगों को एयरलिफ्ट कर सुरक्षित स्थानों पर पहुंचा रहे हैं।

बाढ़ को लेकर SC भी गंभीर
केरल की बाढ़ को लेकर सुप्रीम कोर्ट भी गंभीर हो गया है। सुप्रीम कोर्ट ने राहत और बचाव के लिए दिशानिर्देश जारी किए हैं। सुप्रीम कोर्ट ने राष्ट्रीय संकट प्रबंधन समिति और केंद्रीय कैबिनेट सचिव की तरफ से गठित की गई उप-समिति से कहा है, वो केरल बाढ़ आपदा के मामले में मुल्लापेरियार बांध की समिति के साथ मिलकर काम करें। सुप्रीम कोर्ट ने कहा सभी समितियों को मिलकर बांध के जल स्तर को कम करने की संभावनाओं पर काम करना चाहिए। 

केरल सरकार को मानने होंगे NCMC के निर्देश
SC ने कहा बाढ़ से निपटने में वह विशेषज्ञ नहीं है, इस आपदा से निपटने की जिम्मेदारी कार्यपालिका पर छोड़ी जा रही है। इस बारे में राष्ट्रीय संकट प्रबंधन समिति (NCMC) के निर्देश ही प्रभावी होंगे। राहत और बचाव के लिए केरल सरकार को NCMC के निर्देश मानने ही होंगे।



 




 

कमेंट करें
24MZv
कमेंट पढ़े
pradeep kumar August 18th, 2018 17:52 IST

16th June 2013. The big disaster was came in Uttarakhand. I think when you ware conducting at the Center. But you did not declared as a national disaster. May be you have forgot.

NEXT STORY

Real Estate: खरीदना चाहते हैं अपने सपनों का घर तो रखे इन बातों का ध्यान, भास्कर प्रॉपर्टी करेगा मदद

Real Estate: खरीदना चाहते हैं अपने सपनों का घर तो रखे इन बातों का ध्यान, भास्कर प्रॉपर्टी करेगा मदद

डिजिटल डेस्क, जबलपुर। किसी के लिए भी प्रॉपर्टी खरीदना जीवन के महत्वपूर्ण कामों में से एक होता है। आप सारी जमा पूंजी और कर्ज लेकर अपने सपनों के घर को खरीदते हैं। इसलिए यह जरूरी है कि इसमें इतनी ही सावधानी बरती जाय जिससे कि आपकी मेहनत की कमाई को कोई चट ना कर सके। प्रॉपर्टी की कोई भी डील करने से पहले पूरा रिसर्च वर्क होना चाहिए। हर कागजात को सावधानी से चेक करने के बाद ही डील पर आगे बढ़ना चाहिए। हालांकि कई बार हमें मालूम नहीं होता कि सही और सटीक जानकारी कहा से मिलेगी। इसमें bhaskarproperty.com आपकी मदद कर सकता  है। 

जानिए भास्कर प्रॉपर्टी के बारे में:
भास्कर प्रॉपर्टी ऑनलाइन रियल एस्टेट स्पेस में तेजी से आगे बढ़ने वाली कंपनी हैं, जो आपके सपनों के घर की तलाश को आसान बनाती है। एक बेहतर अनुभव देने और आपको फर्जी लिस्टिंग और अंतहीन साइट विजिट से मुक्त कराने के मकसद से ही इस प्लेटफॉर्म को डेवलप किया गया है। हमारी बेहतरीन टीम की रिसर्च और मेहनत से हमने कई सारे प्रॉपर्टी से जुड़े रिकॉर्ड को इकट्ठा किया है। आपकी सुविधाओं को ध्यान में रखकर बनाए गए इस प्लेटफॉर्म से आपके समय की भी बचत होगी। यहां आपको सभी रेंज की प्रॉपर्टी लिस्टिंग मिलेगी, खास तौर पर जबलपुर की प्रॉपर्टीज से जुड़ी लिस्टिंग्स। ऐसे में अगर आप जबलपुर में प्रॉपर्टी खरीदने का प्लान बना रहे हैं और सही और सटीक जानकारी चाहते हैं तो भास्कर प्रॉपर्टी की वेबसाइट पर विजिट कर सकते हैं।

ध्यान रखें की प्रॉपर्टी RERA अप्रूव्ड हो 
कोई भी प्रॉपर्टी खरीदने से पहले इस बात का ध्यान रखे कि वो भारतीय रियल एस्टेट इंडस्ट्री के रेगुलेटर RERA से अप्रूव्ड हो। रियल एस्टेट रेगुलेशन एंड डेवेलपमेंट एक्ट, 2016 (RERA) को भारतीय संसद ने पास किया था। RERA का मकसद प्रॉपर्टी खरीदारों के हितों की रक्षा करना और रियल एस्टेट सेक्टर में निवेश को बढ़ावा देना है। राज्य सभा ने RERA को 10 मार्च और लोकसभा ने 15 मार्च, 2016 को किया था। 1 मई, 2016 को यह लागू हो गया। 92 में से 59 सेक्शंस 1 मई, 2016 और बाकी 1 मई, 2017 को अस्तित्व में आए। 6 महीने के भीतर केंद्र व राज्य सरकारों को अपने नियमों को केंद्रीय कानून के तहत नोटिफाई करना था।