दैनिक भास्कर हिंदी: केरल बाढ़: बारिश से राहत लेकिन बीमारी और पुनर्वास बनी बड़ी चुनौती

August 21st, 2018

हाईलाइट

  • केरल में बारिश थमने से लोगों को राहत।
  • अब लाखों लोगों का पुनर्वास और बीमारियों को रोकना बड़ी चुनौती।
  • राहत शिविरों में 10 लाख से अधिक लोग शरण लिए हुए हैं।
  • 3,274 राहत शिविरों में 10,28,000 लोग ठहरे हैं।
  • केरल बाढ़ में करीब 400 लोगों की मौत हो चुकी है।
  • केंद्र सरकार ने केरल बाढ़ को 'गंभीर प्रकृतिक आपदा' घोषित किया है।


डिजिटल डेस्क, तिरुवनंतपुरम। केरल में बारिश थमने से लोगों को थोड़ी राहत तो मिली है, लेकिन अब राज्य में बीमारी का खतरा बढ़ गया है वहीं लाखों लोगों का पुनर्वास भी बड़ी चुनौती बन गई है। बारिश में कमी आने से उफनती नदियों के जलस्तर कम हो गए हैं। जिससे राहत-बचाव कार्यों में तेजी आई है। राज्य सरकार अब बीमारियों को रोकने की कोशिश और लोगों के पुनर्वास में जुट गई है। मंगलवार को कोयंबटूर से एर्नाकुलम, कोट्टायम और अलप्पुजा में बाढ़ पीड़ितों की मदद के लिए RAF की 105 बटालियन और रोटरी क्लब्स का G-36 ग्रुप रवाना किया गया है।

 


 

बाढ़ से 54 लाख की आबादी पर असर

केरल में बाढ़ की विभीषिका ने 373 लोगों की जान ले ली। वहीं 5411712 लोग प्रभावित हुए। 5645 राहत कैंप लोगों की मदद कर रहे हैं। इन कैंपों में 12 लाख से ज्यादा लोग शरण लिए हुए हैं।

 

 

 

 

 

 


 

खबरें और भी हैं...