comScore

Maha Cyclone: मौसम विभाग ने किया अलर्ट, इन राज्यों में भारी बारिश की चेतावनी


हाईलाइट

  • गुजरात के तटीय इलाके की तरफ महा तूफान तेजी से बढ़ रहा है
  • 90 किलोमीटर प्रति घंटे तक की रफ्तार से चल सकती हैं हवाएं
  • गुजरात सहित कई राज्यों में भारी बारिश की चेतावनी

डिजिटल डेस्क, नई दिल्ली। अरब सागर से उठ रहा महा तूफान(MahaCyclone) आज(बुधवार) गुजरात तट से टकरा सकता है। तूफान को देखते हुए मौसम विभाग ने हाई अलर्ट जारी कर दिया है। इस चक्रवाती तूफान का असर कई राज्यों में देखने को मिलेगा। महाराष्ट्र, मध्यप्रदेश, गुजरात, दमन और दादर एवं नगर हवेली के कुछ हिस्सों में 6 से 7 नवंबर तक आंधी-तूफान के साथ भारी बारिश की आशंका है। साथ में 80 से 90 किलोमीटक प्रति घंटे की रफ्तार से हवाएं चल सकती है। मछुआरों को समुद्र में नहीं जाने की सलाह दी है। 

मौसम विभाग ने महातूफान के कारण 6 नवंबर को गुजरात के सौराष्ट्र और कच्छ व अंडमान निकोबार में कुछ क्षेत्रों में मूसलाधार बारिश और कोंकण, गोवां तथा मध्य महाराष्ट्र में तेज बारिश की आशंका जताई है। वहीं जम्मू-कश्मीर में तेज बर्फीली हवाएं व हिमाचल प्रदेश और पंजाब में ओलावृष्टि के साथ तेज हवाएं चलने की संभावना है। सात नंवबर को गुजरात में कुछ स्थानों पर हल्की बारिश जबकि जम्मू-कश्मीर, हिमाचल प्रदेश, पंजाब, पूर्वी राजस्थान, पश्चिमी मध्यप्रदेश और अंडमान निकोबार में कुछ स्थानों पर भारी बारिश की चेतावनी है। 

तूफान बुलबुल भी करेगा प्रभावित
वहीं तूफान बुलबुल भारत के पूर्वी तटों को प्रभावित करने वाला है। इसके हिट करने की लोकेशन का अभी सटीक अंदाजा सामने नहीं आया है। हालांकि ओडिशा या आंध्रप्रदेश के तटीय भागों पर इसके लैंडफॉल के संकेत मिल रहे हैं। 

आपदा प्रबंधन बल तैनात
गुजरात में बिगड़ते मौसम को ध्यान में रखते हुए कैबिनेट सचिव राजीव गाबा की अध्यक्षता में राष्ट्रीय आपदा प्रबंधन समिति की बैठक हुई। बैठक में महाचक्रवात से निपटने की तैयारी का जायजा लिया गया। बैठक में गुजरात और महाराष्ट्र के मुख्य सचिवों ने बताया कि जरूरी तैयारियां पूरी कर ली गई है। आपदा प्रबंधन बल के दलों को तैनात कर दिया गया है।

पालघर में स्कूल-कॉलेज बंद
भारी बारिश की चेतावनी के बाद महाराष्ट्र के पालघर जिले में स्कूल और कॉलेज की 6 से 8 नवंबर तक छुट्टी घोषित कर दी गई है। अधिकारियों ने कहा कि पालघर और पड़ोस के ठाणे जिले में मछुआरों को अगले चार-पांच दिनों तक समुद्र में नहीं जाने को कहा है।

कमेंट करें
RlEb9