comScore

MiG-29 Accident: 11 दिन बाद मिला इंडियन नेवी के पायलट का शव, ट्रेनिंग के दौरान गोवा में हुआ था हादसा

MiG-29 Accident: 11 दिन बाद मिला इंडियन नेवी के पायलट का शव, ट्रेनिंग के दौरान गोवा में हुआ था हादसा

हाईलाइट

  • खोज और बचाव के लिए अत्याधुनिक संसाधनों का इस्तेमाल किया गया था
  • निशांत का विमान 26 नवंबर को गोवा के तट से अरब सागर में दुर्घटनाग्रस्त हो गया था

डिजिटल डेस्क, नई दिल्ली। भारतीय नौसेना के दुर्घटनाग्रस्त हुए प्रशिक्षु ‘मिग 29के’ विमान हादसे के 11 दिन बाद से लापता चल रहे दूसरे पायलट कमांडर निशांत सिंह का शव बरामद हो गया है। बता दें कि बचाव दल को गोवा के तट से करीब 30 मील दूर उनका शव सतह से 70 मीटर की गहराई पर मिला। इस खोज अभियान में नौसेना ने दिन और रात एक कर दिए थे। खोज और बचाव के लिए अत्याधुनिक संसाधनों का इस्तेमाल किया गया था।

पायलट निशांत की तलाश बीते 11 दिन से की जा रही थी। इसके लिए नौकाएं एवं विमान तैनात किए गए थे। निशांत का विमान 26 नवंबर को गोवा के तट से अरब सागर में दुर्घटनाग्रस्त हो गया था। हादसे में एक पायलट को बचा लिया गया था। नौसेना के एक प्रवक्ता ने यह जानकारी दी। 

नौसेना ने बयान में कहा था कि लापता पायलट कमांडर निशांत सिंह का पता लगाने के लिए नौसेना की नौकाएं एवं विमान तटीय क्षेत्रों में गहन तलाशी अभियान जारी रखे हुए हैं। साथ ही गोताखोरों की मदद से पानी के भीतर भी तलाशी अभियान चलाया जा रहा है। नौसेना ने यह भी कहा था कि गोवा के तट से अरब सागर में लापता मिग-29 के विमान का कुछ मलबा मिला था, जिसमें विमान का टर्बो चार्जर, ईंधन टैंक इंजन, विंग इंजन समेत कुछ मलबा मिला है। रूस निर्मित विमान ने विमान वाहक पोत INS विक्रमादित्य से उड़ान भरी थी और शाम में करीब पांच बजे यह दुर्घटनाग्रस्त हो गया था।

26 नवंबर की दुर्घटना मिग-29 के समुद्री लड़ाकू बेड़े से जुड़ी चौथी दुर्घटना थी। भारत के शीर्ष लेखा परीक्षक ने चार साल पहले संसद में पेश की गई एक रिपोर्ट में इंजन आधारित परेशानी, एयरफ्रेम समस्याओं, इसके फ्लाई-बाय-वायर सिस्टम की कमियों और खराब सेवाक्षमता सहित डेक-आधारित लड़ाकू में कुछ कमियों की ओर इशारा किया था।
 

कमेंट करें
HFp6Q