comScore

MSME: छोटे, मध्यम और गृह उद्योगों को 3 लाख करोड़ का गारंटी फ्री लोन, जानें सरकार ने और क्या-क्या दिया

MSME: छोटे, मध्यम और गृह उद्योगों को 3 लाख करोड़ का गारंटी फ्री लोन, जानें सरकार ने और क्या-क्या दिया

हाईलाइट

  • लोन 4 साल के लिए और 100 फीसदी गारंटी फ्री
  • 12 महीने तक लोन चुकाने में छूट मिलती रहेगी

डिजिटल डेस्क, नई दिल्ली। केंद्र सरकार ने छोटे कुटीर, मध्यम और गृह उद्योगों (MSMEs) की मदद के लिए 3 लाख करोड़ रुपए के कोलैटरल फ्री ऑटोमैटिक लोन देने का ऐलान किया है। इसके तहत इन छोटे उद्योगों को बिना किसी गारंटी के लोन मिल सकेगा। मंगलवार को पीएम मोदी द्वारा अपने संबोधन में 20 लाख करोड़ के आर्थिक पैकेज की घोषणा करने के बाद बुधवार को वित्तमंत्री निर्मला सीतारमण ने इस पैकेज का लेखाजोखा रखा। इसके तहत उन्होंने कहा कि MSMEs देश की रीढ़ है। यह सेक्टर 12 करोड़ लोगों को रोजगार देता है। राहत पैकेज में से 3 लाख करोड़ रुपए का लोन इस सेक्टर को दिया जाएगा, इसका समय-सीमा 4 वर्ष का होगा, 12 महीने तक मूलधन भी नहीं चुकाना होगा। वित्त मंत्री ने कहा कि तनावग्रस्त MSMEs के लिए 20 हजार करोड़ का प्रावधान किया है। इससे 2 लाख से ज्यादा तनाव वाली MSMEs को फायदा होगा। 

आईए जानते हैं सरकार ने MSMEs को क्या-क्या दिया

  1. लोन 4 साल के लिए और 100 फीसदी गारंटी फ्री है।
  2. उन उद्योगों को मिलेगा, जिनका बकाया लोन 25 करोड़ से कम हो और टर्नओवर 100 करोड़ से ज्यादा न हो।
  3. 12 महीने तक लोन चुकाने में छूट मिलती रहेगी।
  4. 31 अक्टूबर 2020 तक ही इस लोन के लिए अप्लाई किया जा सकेगा।
  5. किसी भी तरह का अतिरिक्त शुल्क नहीं लिया जाएगा। 45 लाख एमएसएमई को मिलेगा फायदा। 
  6. 20 हजार करोड़ रुपए स्ट्रेस्ड एमएसएमई को दिया।
  7. अच्छी एमएसएमई के लिए 50 हजार करोड़ का फंड ऑफ फंड बनेगा। सभी छोटे उद्योगों को शामिल किया जाएगा।
  8. माइक्रो इंडस्ट्री के लिए 25 लाख से बढ़ाकर निवेश एक करोड़ किया गया।
  9. स्माल इंडस्ट्री के लिए 10 करोड़ तक का निवेश और 50 करोड़ तक का कारोबार, मध्यम के लिए 20 करोड़ निवेश और 100 करोड़ के कारोबार को मंजूरी।
  10. लोकल उद्योगों को ग्लोबल करने के लिए 200 करोड़ रुपए से कम के ग्लोबल टेंडर के नियम को खत्म कर दिया गया यानी अब 200 करोड़ रुपए से कम का कोई टेंडर नहीं होगा।
  11. आंशिक ऋण गारंटी योजाना में 45 लाख करोड़ रुपए का प्रावधन किया जाएगा। इसमें सरकार को 20 फीसदी का नुकसान होगा। इससे सूक्ष्म, लघु और मध्यम उद्योगों और आम आदमी को लोन देने में सहूलियत होगी।

कल पीएम ने किया था 20 लाख करोड़ का ऐलान
दरअसल पीएम नरेंद्र मोदी ने 12 मई को देश को संबोधित करते हुए 20 लाख करोड़ रुपए के पैकेज का ऐलान किया था। उन्होंने कहा था कि 'आत्मनिर्भर भारत' पैकेज का फोकस लैंड, लिक्विडिटी, लेबर और लॉ पर होगा। पीएम मोदी ने कहा कि इस राहत पैकेज से देश की तस्वीर बदल जाएगी। कोरोना संकट से उबरने में इससे हर किसी को मदद मिलेगी। उन्होंने कहा कि ये आर्थिक पैकेज हमारे कुटीर उद्योग, गृह उद्योग, हमारे लघु-मंझोले उद्योग, हमारे MSME के साथ ही हमारे मजदूर भाईयों के लिए भी है। 

कमेंट करें
3tuiG