रूस-यूक्रेन युद्ध: दिल्ली पहुंची नागालैंड की छात्रा, अभी भी यूक्रेन में फंसी मिजोरम की 2 नन

March 2nd, 2022

हाईलाइट

  • युद्ध प्रभावित यूक्रेन में अभी भी पूर्वोत्तर राज्यों सहित भारत के विभिन्न हिस्सों से बड़ी संख्या में छात्र फंसे हुए

डिजिटल डेस्क, नई दिल्ली। युद्ध प्रभावित यूक्रेन में अभी भी पूर्वोत्तर राज्यों सहित भारत के विभिन्न हिस्सों से बड़ी संख्या में छात्र फंसे हुए हैं। नागालैंड की एक मेडिकल छात्र बुधवार को यहां इंदिरा गांधी अंतर्राष्ट्रीय हवाईअड्डे पर विशेष विमान से पहुंची। छात्रा नागालैंड के दीमापुर की रहने वाली है और एक डॉक्टर की बेटी है। स्वदेश पहुंचने पर राहत महसूस कर रही छात्रा ने कहा, मैं अन्य भारतीय दोस्तों के साथ पोलैंड पहुंचने के लिए दो दिनों तक पैदल चलकर पहुंची थी।

हालांकि छात्रा ने जानकारी देते हुए अपना नाम और अन्य जानकारी उजागर नहीं करने का अनुरोध किया। छात्रा ने कहा कि स्वदेश आकर अच्छा लग रहा है। उन्होंने कहा कि यह सभी के लिए एक चुनौतीपूर्ण समय है, लेकिन सभी भारतीय छात्र एक बहादुर लड़ाई लड़ रहे हैं। विशेष विमान बुधवार को सुबह लगभग 10 बजे यहां पहुंचा और हवाई अड्डे पर वरिष्ठ जनसंपर्क अधिकारी (पीआरओ) कौली मेरे के नेतृत्व में नागालैंड सरकार के अधिकारियों ने छात्रा का स्वागत किया। डिप्टी रेजिडेंट कमिश्नर वेनेई कोन्याक ने नागालैंड हाउस, 29 डॉ. एपीजे अब्दुल कलाम रोड पर उनका गर्मजोशी से स्वागत किया।

नागालैंड सरकार गुरुवार (3 मार्च) को दीमापुर के लिए उनकी उड़ान का आयोजन कर रही है। इस बीच, मिजोरम से मिशनरीज ऑफ चैरिटी के साथ काम करने वाली दो नन रोजेला नुथंगु और एन फेडा अभी भी यूक्रेन में फंसी हुई हैं। भारत सरकार ने पुष्टि की है कि पूर्वी यूक्रेन के खारकीव में मंगलवार को कर्नाटक के 21 वर्षीय मेडिकल छात्र नवीन शेखरप्पा ज्ञानगौदर की गोलाबारी में मौत हो गई।

विदेश मंत्रालय (एमईए) के प्रवक्ता अरिंदम बागची ने ट्वीट किया, गंभीर दुख के साथ हम पुष्टि करते हैं कि आज (मंगलवार) सुबह खारकीव में गोलाबारी में एक भारतीय छात्र की जान चली गई। मंत्रालय उनके परिवार के संपर्क में है। हम परिवार के प्रति अपनी गहरी संवेदना व्यक्त करते हैं। 24 फरवरी को सैन्य संघर्ष शुरू होने से पहले यूक्रेन में बड़ी संख्या में छात्रों सहित लगभग 20,000 भारतीय रह रहे थे। इनमें अधिकतर छात्र शामिल हैं, जो कि मुख्य रूप से चिकित्सा संस्थानों में पढ़ाई कर रहे हैं।

अधिकारियों ने कहा है कि उनमें से लगभग 60 प्रतिशत, यानी लगभग 12,000, यूक्रेन छोड़ चुके हैं और 2,000 से अधिक को भारत लाया जा चुका है। भारत के विदेश सचिव हर्षवर्धन श्रृंगला ने कहा, यूक्रेन में शेष 40 प्रतिशत भारतीयों में से लगभग आधे खारकीव, सूमी क्षेत्र में संघर्ष क्षेत्र में रहते हैं और अन्य आधे या तो यूक्रेन की पश्चिमी सीमाओं तक पहुंच गए हैं या यूक्रेन का पश्चिमी भाग में जा रहे हैं। वे आमतौर पर संघर्ष क्षेत्रों से बाहर हैं।

9,000 से अधिक भारतीय नागरिकों को यूक्रेन से बाहर लाया गया है, जबकि काफी संख्या में छात्र अब सुरक्षित क्षेत्रों में शरण लिए हुए हैं। दो ननों में से सिस्टर फेडा यूक्रेन की राजधानी कीव में काम कर रही हैं। सिस्टर एन. फेडा ने कथित तौर पर मिशनरीज ऑफ चैरिटी ऑर्डर में शामिल होने के लिए नन बनने के लिए 1998 में अपनी पहली शपथ ली थी और 2015 में वह यूक्रेन गई थीं। उनके बड़े भाई डेंगडेलोवा ने यह जानकारी दी, जो आइजोल में सेंट मैरी पैरिश चर्च के चेयरमैन भी हैं। मिजोरम राज्य सरकार के गृह मंत्रालय के एक वरिष्ठ अधिकारी ने भी कहा कि किसी अन्य मिजो के यूक्रेन में होने की कोई सूचना नहीं है। सूत्रों ने कहा कि यूक्रेन में त्रिपुरा और अन्य पूर्वोत्तर राज्यों से भी बड़ी संख्या में मेडिकल छात्र पढ़ रहे हैं।

(आईएएनएस)