दैनिक भास्कर हिंदी: CBI विवाद: मनीष सिन्हा ट्रांसफर मामले में सामने आया अजीत डोभाल का नाम

November 20th, 2018

हाईलाइट

  • सेंट्रल ब्यूरो ऑफ इन्वेस्टिगेशन में चल रहे घामासान के बीच एक नया ट्विस्ट सामने आया है।
  • CBI के डीआईजी मनीष कुमार सिन्हा ने अपने तबादले को लेकर सुप्रीम कोर्ट में गुहार लगाई थी।
  • मनीष ने कहा कि पूछताछ के दौरान आरोपी ने अजीत डोभाल से अपने रिश्ते बताए थे।

डिजिटल डेस्क, नई दिल्ली। सेंट्रल ब्यूरो ऑफ इन्वेस्टिगेशन (CBI) में चल रहे घमासान के बीच एक नया ट्विस्ट सामने आया है। CBI के DIG मनीष कुमार सिन्हा ने अपने तबादले को लेकर सुप्रीम कोर्ट में गुहार लगाई थी। इसी कड़ी में मनीष कुमार ने एक नया खुलासा किया है। मनीष ने कहा कि उनका तबादला एक बड़े केस की दिशा को बदलने के लिए किया गया है। इस केस की पूछताछ के दौरान आरोपी ने मौजूदा राष्ट्रीय सुरक्षा सलाहकार अजीत डोभाल से अपने रिश्ते बताए हैं। इस खुलासे से CBI मामले ने एक नया मोड़ ले लिया है।

मनीष कुमार सिन्हा ने कोर्ट में बताया कि उनका तबादला करके CBI के पूर्व स्पेशल डायरेक्टर राकेश अस्थाना को फायदा पहुंचाने की कोशिश की गई। सिन्हा ने कहा, 'राकेश अस्थाना हैदराबाद के एक कारोबारी सतीश सना को CBI के चंगुल से बचाना चाहते थे।' सतीश सना मीट कारोबारी मोइन कुरैशी के खिलाफ चल रहे मामले में सह आरोपी हैं।

सिन्हा ने बताया, 'इस मामले में हमने 16 अक्टूबर, 2018 को मनोज प्रसाद नाम के एक आरोपी को गिरफ्तार किया था। गिरफ्तारी के बाद हम उसे दिल्ली स्थित CBI के मुख्यालय ले गए। मनोज ने वहां पहुंचने के बाद CBI को धमकाना शुरू कर दिया। इस दौरान उसने कई बार बड़े अधिकारियों का नाम लिया। मनोज ने कहा कि उसके पिता दिनेश्वर प्रसाद खुफिया विभाग के जॉइंट सेक्रेटरी रह चुके हैं और उनके राष्ट्रीय सुरक्षा सलाहकार अजीत डोभाल से बेहद अच्छे रिश्ते हैं। इतना ही नहीं उसने डोभाल का हवाला देते हुए अधिकारियों के तबादले की भी धमकी दी थी।'

सिन्हा ने कहा, 'मनोज प्रसाद ने अपने छोटे भाई सोमेश प्रसाद का भी हवाला दिया था और कहा था कि उसके भाई का दुबई स्थित एक कारोबारी से बेहद करीबी रिश्ते हैं। मनोज ने कहा था कि उसके छोटे भाई के मौजूदा स्पेशल सेक्रेटरी सामंत गोयल से भी अच्छे रिश्ते हैं और वह इन सबका इस्तेमाल से जांच कर रहे अधिकारियों को नुकसान पहुंचा सकता है।'

बता दें कि मनीष कुमार सिन्हा CBI अधिकारी राकेश अस्थाना के खिलाफ रिश्वत लेने के एक अहम मामले की जांच कर रहे थे। कुछ दिनों पहले सिन्हा का तबादला दिल्ली से नागपुर कर दिया गया था। इसी के खिलाफ मनीष ने सुप्रीम कोर्ट में अपील की है। इसके साथ ही उन्होंने इस मामले की जांच स्पेशल इन्वेस्टिगेशन टीम से करवाने की मांग की है। 
 

खबरें और भी हैं...