दैनिक भास्कर हिंदी: 10 संदिग्ध आतंकियों को कोर्ट ने भेजा रिमांड पर, NIA करेगी पूछताछ

December 28th, 2018

हाईलाइट

  • जांच एजेंसी का दावा, नाकाम किया बड़ा हमला
  • फिदायीन हमले के बारे में होगी पूछताछ
  • संदिग्ध आतंकियों में कुछ इंजीनियर भी शामिल

डिजिटल डेस्क, नई दिल्ली। देश को दहलाने की साजिश रचने के आरोपी 10 संदिग्ध आतंकियों को गुरुवार को पटियाला हाउस कोर्ट में पेश किया गया, कोर्ट ने सभी को 12 दिन की रिमांड पर एनआईए (नेशनल इंवेस्टिगेशन एजेंसी) के हवाले कर दिया है। जांच एजेंसी NIA का दावा है की उसने बहुत बड़े आतंकी हमले को नाकाम किया है। अब एनआईए पकड़े गए संदिग्धों से पूछताछ करेगी। दरअसल, एजेंसी संदिग्ध आतंकियों से जानना चाहती है कि उनके निशाने पर कौन धर्मिक नेता या बड़े राजनेता थे ? उनसे महिला फिदायीन हमले के बारे में भी पूछताछ की जाएगी। इस बीच गृहमंत्री राजनाथ सिंह ने एनआई की तारीफ की है। राजनाथ ने कहा, 'वेलडन एनआईए, जांच एजेंसी ने आईएसआई का मॉड्यूल धराशायी किया है।

बता दें कि आतंकी संगठन हरकत-उल-हर्ब ए इस्लाम के 16 सदस्यों को नेशनल इन्वेस्टिगेशन एजेंसी (NIA) ने बुधवार को हिरासत में लिया था, जिसमें से 10 को गिरफ्तार किया गया। ये आतंकी संगठन, ISIS जैसे मॉड्यूल से प्रेरित है। इस संगठन के सदस्य उत्तर भारत में सीरियल धमाकों की साजिश रच रहे थे। NIA को मिले इनपुट्स के आधार पर इन्हें गिरफ्तार किया गया है। सभी आरोपियों की उम्र 20 से 30 साल बताई जा रही है। गिरफ्तार आतंकी मुफ्ती सोहेल को इस ग्रुप का सरगना बताया जा रहा है, आरोपियों में कुछ लोग इंजीनियर भी हैं।

 

 

एनआईए के आईजी आलोक मित्तल ने बताया कि इनपुट के आधार पर दिल्ली के सीलमपुर और यूपी के अमरोहा, हापुर, मेरठ, लखनऊ समेत 17 स्थानों पर तलाशी अभियान चलाया गया, जिसमें खुलासा हुआ कि ISIS से प्रेरित संगठन हरकत-उल-हर्ब ए इस्लाम उत्तर भारत में सीरियल धमाके करने का साजिश रच रहा था, जो कि एडवांस स्टेज में थी। NIA ने इन जगहों से बड़ी मात्रा विस्फोटक सामग्री, हथियार और गोला-बारूद बरामद किया है। इसमें कंट्री मेड रॉकेट लॉन्चर भी शामिल है। इसके अलावा 100 मोबाइल फोन, 135 सिम कार्ड, 120 अलार्म घड़ियां, मेमोरी कार्ड और लैपटॉप जब्त किए गए हैं। NIA ने जिन 10 लोगों को अरेस्ट किया है उनमें से 5 को उत्तर प्रदेश के अमरोहा से अरेस्ट किया गया है। UP एंटी टेररिस्ट स्कवॉड और NIA जॉइंट ऑपरेशन चलाकर इन्हें पकड़ा है। जबकि पांच अन्य को नॉर्थ-ईस्ट दिल्ली से दिल्ली पुलिस की स्पेशल सेल के साथ चलाए गए जॉइंट ऑपरेशन के बाद हिरासत में लिया गया है।

आलोक मित्तल ने बताया कि इन आतंकियों के टार्गेट पर राजनीतिक और दूसरी महत्वपूर्ण हस्तियां, महत्वपूर्ण इमारतें, कुछ सिक्योरिटी इंस्टॉलेशन और भीड़-भाड़ वाले इलाके थे। मित्तल ने कहा कि इनकी तैयारी को देख कर लगता है कि ये लोग रिमोट कंट्रोल से ब्लास्ट और फिदायीन हमलों को अंजाम देने की फिराक में थे। उन्होंने कहा कि यह नया मॉड्यूल है, जो ISIS से प्रेरित है। इस मॉड्यूल के सदस्य एक विदेशी एजेंट के संपर्क में भी थे, जिसकी अभी पहचान नहीं हो पाई है। इस मॉड्यूल का गैंग लीडर मुफ्ती सोहेल है, जो दिल्ली में रहता है और यूपी के अमरोहा का मूल निवासी है, जहां वह एक मस्जिद में काम करता है।

 

गृहमंत्री ने दी बधाई

 

संदिग्धों से मिल सकेंगे परिजन