comScore

Nirbhaya Case: मौत के करीब चारों दरिंदे, इस तरह से परिजन को मिल सकता है मुआवजा!

Nirbhaya Case: मौत के करीब चारों दरिंदे, इस तरह से परिजन को मिल सकता है मुआवजा!

हाईलाइट

  • कैदियों को फांसी देने से पहले मेडिकल जांच की जाती है
  • फांसी देने से पहले एक डमी या बोरी का परीक्षण किया जाता है
  • प्रत्येक कैदी के लिए दो अतिरिक्त रस्सियां होती हैं

डिजिटल डेस्क, नई दिल्ली। तिहाड़ जेल में बंद निर्भया गैंगरेप के चारों दरिंदों को फांसी देने की तैयारी लगभग पूरी हो चुकी है। फांसी देने से पहले कैदियों की मेडिकल जांच की जाएगी। फिट होने पर ही उन्हें सजा दी जाएगी। वहीं फांसी देने से पहले यह भी देखा जाएगा कि तैयार तख्त सही है या नहीं। फांसी देने के बाद पोस्टमार्टम भी किया जाएगा। नियम का पालन नहीं होने पर कैदी के परिजनों को मुआवजा पाने का हक होता है। 

कमेंट करें
rAZo3