दैनिक भास्कर हिंदी: Water testing: दिल्ली की हवा ही नहीं पानी भी सबसे खराब, मुंबई में सबसे शुद्ध पानी

November 17th, 2019

हाईलाइट

  • दिल्ली सहित देश के सबसे बड़े 20 शहरों में वाटर टेस्टिंग
  • सरकार ने बताई पीने के पानी की गुणवत्ता की रैंकिंग
  • पानी की 19 मानकों के आधार पर रैंकिंग की गई है

डिजिटल डेस्क, नई दिल्ली। केंद्र सरकार ने आज दिल्ली सहित देश के सबसे बड़े 20 शहरों में पीने के पानी की गुणवत्ता के आधार पर रैंकिंग जारी कर दी है। केंद्रीय मंत्री राम विलास पासवान ने ये रैंकिंग जारी की। जिससे मालूम होता है कि आपके शहर में पीने योग्य पानी है या नहीं। 

आपको बता दें कि इस रैंकिंग में मुंबई ने पहला स्थान पाया है, यानी कि यहां का पानी सबसे शुद्ध है, जबकि दिल्ली का नाम लिस्ट में सबसे नीचे है, जहां का पानी पीने लायक नहीं है।दिल्ली से पानी की गुणवत्ता जांच के लिए 11 सेंपल लिए गए थे, जिसमें सभी फैल हो गए।  

इन मानकों पर हुई रैंकिंग
मालमू हो कि यह रैंकिंग उसी पानी की जारी की गई है, जिन शहरों में नगर निगम और बाकी माध्यमों से पाइप के माध्यम से पानी पहुंचता है। पानी की शुद्धता और गुणवत्ता मापने के लिए 19 मानक तय किए गए थे। इनमें पानी में आर्सेनिक जैसे खतरनाक रसायनों की मौजूदगी को देखा गया। इन्हीं 19 मानकों की कसौटी पर रैंकिंग तैयार की गई है।

इन शहरों को मिला ये स्थान
रैंकिंग में देश की आर्थिक​ राजधानी मुंबई पहले स्थान पर है। वहीं हैदराबाद को दूसरा स्थान मिला है और तीसरे नंबर पर भुवनेश्वर है। इसके अलावा चौथे नंबर पर रांची, पांचवे नंबर पर रायपुर, छठवें नंबर पर अमरावती, सातवें नंबर पर शिमला, आठवें नंबर पर चंडीगढ़, नौवें नंबर पर त्रिवेंद्रम, दसवें नंबर पर पटना रहा। 

वहीं ग्यारहवें नंबर पर भोपाल, बारहवें नंबर पर गुवाहाटी, तेरहवें नंबर पर बेंगलुरू, चौदहवें नंबर पर गांधीनगर, पंद्रहवे नंबर पर लखनऊ, सोलहवें नंबर पर जम्मू, सत्रहवें नंबर पर जयपुर, अठारहवें नंबर पर देहरादून, उन्नीसवें नंबर पर चेन्नई, बीसवें नंबर पर कोलकाता और राष्ट्रीय राजधानी दिल्ली को इस रैकिंग में सबसे आखिरी यानी कि इक्कीसवां नंबर हासिल हुआ है।