comScore

राम मंदिर निर्माण: पटना का हनुमान मंदिर 10 और आंध्र का तिरुपति मंदिर देगा 1 करोड़  

राम मंदिर निर्माण: पटना का हनुमान मंदिर 10 और आंध्र का तिरुपति मंदिर देगा 1 करोड़  

हाईलाइट

  • बीते 9 नवंबर को सुप्रीम कोर्ट ने अयोध्या मामले में सुनाया था फैसला
  • फैसले में विवादित भूमि रामलला को, सुन्नी पक्ष को कहीं और जमीन

डिजिटल डेस्क, नई दिल्ली। अयोध्या की विवादित राम जन्मभूमि मामले में सुप्रीम कोर्ट के फैसले के बाद अयोध्या में भव्य राम मंदिर ​निर्माण की तैयारियां शुरू हो गई हैं। मंदिर उसी जगह बनाया जाएगा, जहां वर्षों से विवाद चल रहा था। मंदिर निर्माण के लिए कई ट्रस्ट और धार्मिक संस्थाएं भी आगे आ रही हैं। ऐसे में पटना के महावीर मंदिर न्यास समिति ने अयोध्‍या में राम मंदिर निर्माण में 10 करोड़ रुपए की आर्थिक सहायता देने का ऐलान किया है। वहीं तिरुपति मंदिर ट्रस्ट ने राम मंदिर निर्माण के लिए एक करोड़ रुपए दान देने की घोषणा की है। तिरुपति मंदिर आंध्र प्रदेश में स्थित है। 

जानकारी के अनुसार, फैसले के बाद राम मंदिर बनाने की तैयारी के तहत न्यास बनाने की तैयारी शुरू हो गई है। मंदिर बनाने के लिए राजस्थान से पत्थरों के खेप पहुंचने शुरू हो गई है।

पटना
सुप्रीम कोर्ट के इस फैसले के बाद बिहार के प्रसिद्ध और पटना जंक्शन स्थित महावीर मंदिर ने राम मंदिर निर्माण में सहयोग करने का निर्णय लिया है। पटना का महावीर मंदिर अयोध्या में राम मंदिर बनाने में आर्थिक सहयोग करेगा। महावीर मंदिर न्यास समिति ने अयोध्‍या में राम मंदिर निर्माण में 10 करोड़ की आर्थिक सहायता देने का ऐलान किया है। जानकारी के अनुसार, हर साल महावीर मंदिर न्यास समिति 2 करोड़ रुपए की मदद करेगा। इसकी जानकारी न्यास समिति के सचिव और पूर्व आईपीएस अधिकारी किशोर कुणाल ने दी। मालूम हो कि पटना जंक्शन स्थित महावीर मंदिर को पूर्व आईपीएस अधिकारी किशोर कुणाल की ही देन कहा जाता है। यह बिहार के प्रख्यात मंदिरों में से एक है। आचार्य किशोर कुणाल ने अयोध्या पर एक किताब भी लिखी है। उनकी यह किताब सुप्रीम कोर्ट में अयोध्या मामले की सुनवाई के दौरान चर्चा में रही।

आंध्रप्रदेश 
प्रदेश के तिरुपति बालाजी मंदिर ने अयोध्या में राम मंदिर निर्माण के लिए 1 करोड़ रुपए दान देगा। यह मंदिर प्रदेश के तिरुपति कस्बे से 9 किलोमीटर दूर तिरुमला पहाड़ियों पर तिरुपति वेंकटेश्वर मंदिर स्थित है।

वहीं माना जा रहा है कि कुछ वर्षों में अयोध्या का राम मंदिर तिरुपति मंदिर से धनी हो जाएगा। अयोध्या में जल्द ही भव्य राम मंदिर बनने वाला है। देव नगरी उत्तर प्रदेश के सबसे धार्मिक जगह में अयोध्या शुमार हो जाएगा। वाराणसी, मथुरा और तिरुपति बालाजी जैसे भव्य मंदिर के रूप में अयोध्या भी शुमार हो जाएगा। यह आने वाले समय में बड़ा धार्मिक स्थल बन जाएगा। 50,000 से 1 लाख तीर्थयात्री शुरुआती वर्षों में अयोध्या का दौरा करेंगे, क्योंकि यह सदी में पहली बार है कि राम जन्मस्थान पर राम मंदिर होगा। "कुंभ की अर्थव्यवस्था जो 270 मिलियन भक्तों के दर्शन के लिए हर 6 साल में लगभग 12 बिलियन डॉलर है। अयोध्या में 1 बिलियन हिंदुओं द्वारा श्रद्धा की जाती है।

कमेंट करें
MieYn