comScore

आजादी के 71 साल बाद भी इस गांव के लोग खुद को मानते हैं गुलाम

आजादी के 71 साल बाद भी इस गांव के लोग खुद को मानते हैं गुलाम

हाईलाइट

  • हरियाणा का एक गांव ऐसा भी है जो अब तक अपने आप को गुलाम मानता है।
  • स्वतंत्रता या गणतंत्र दिवस पर आज तक रोहनात गांव में तिरंगा नहीं फहराया गया।
  • इस गांव की पूरी जमीन को अंग्रेजी हुकूमत ने नीलाम कर दिया था। सरकारी रिकॉर्ड में आज भी ग्रामीणों को उनकी जमीन नहीं मिली है।

डिजिटल डेस्क, भिवानी। देश को आजाद हुए 71 साल हो चुके हैं, लेकिन हरियाणा का एक गांव ऐसा भी है जो अब तक अपने आप को गुलाम मानता है। यही वजह है कि इस गांव में स्वतंत्रता या गणतंत्र दिवस पर आज तक तिरंगा नहीं फहराया गया। हालांकि हरियाणा के सीएम मनोहर लाल खट्टर ने पहली बार आजादी के बाद 23 मार्च 2018 को शहीद दिवस के दिन तिरंगा फहराया था।

इस गांव के लोगों ने स्वतंत्रता आंदोलन में जमकर भाग लिया था। इन्होंने अंग्रेजी हुकूमत के सामने कभी घुटने नहीं टेके और शहीद हो गए। बावजूद इसके ये गांव सालों से सरकार की उपेक्षा का शिकार बना हुआ है। इस गांव की पूरी जमीन को अंग्रेजी हुकूमत ने नीलाम कर दिया था। सरकारी रिकॉर्ड में आज भी ग्रामीणों को उनकी जमीन नहीं मिली है। इसीलिए ग्रामीण आज भी खुद को गुलाम समझते हैं।

जलियांवाला बाग जैसा नरसंहार
हरियाणा के इस गांव का नाम है रोहनात। इस गांव की आबादी 4200 के करीब है। अंग्रेजों ने रोहनात गांव में भी जलियांवाला बाग जैसा नरसंहार किया था। दरअसल, यहां के लोगों को 1857 के क्रांति में भाग लेने की खौफनाक सजा दी गई थी। ग्रामीणों के अनुसार हांसी में अंग्रेज़ों की छावनी होती थी। वर्ष 1857 के प्रथम स्वतंत्रता संग्राम की चिंगारी हिसार- हांसी भी पहुंची थी। देश को आजाद करवाने की ज्वाला दिल में लेकर 29 मई 1857 को मंगल खां के विरोध का साथ देते हुए रोहनात के निवासी स्वामी बरण दास बैरागी, रूपा खाती व नौंदा जाट सहित हिंदू व मुस्लिम एकत्रित होकर हांसी पहुंचे। गांव रोहनात के अलावा आसपास के गांवों के ग्रामीणों ने भी अंग्रेजों पर हमला बोल दिया, जिसमें हांसी व हिसार के दर्जन-दर्जन भर अंग्रेजी अफसर मारे गए। यहां के क्रांतिकारी वीरों ने जेल में बंद कैदियों को रिहा करवा दिया और तत्कालीन अंग्रेजी सल्तनत के खजाने भी लूटे। जब अंग्रेज आला अधिकारियों को इस बात की सूचना मिली तो विरोध की इस चिंगारी को दबाने के लिए एक प्लाटून को जरनल कोर्ट लैंड की अगुवाई में हांसी भेजा।


 

कमेंट करें
E4A8c
NEXT STORY

Tokyo Olympics 2020:  इस बार दिखेगा भारत के 120 खिलाड़ियों का दम, 18 खेलों में करेंगे शिरकत

Tokyo Olympics 2020:  इस बार दिखेगा भारत के 120 खिलाड़ियों का दम, 18 खेलों में करेंगे शिरकत

डिजिटल डेस्क, नई दिल्ली। टोक्यो ओलंपिक का काउंटडाउन शुरु हो चुका हैं। 23 जुलाई से शुरु होने जा रहे एथलेटिक्स त्यौहार में भारतीय दल इस बार 120 खिलाड़ियों के साथ 18 खेलों में दावेदारी पेश करेगा। बता दें 81 खिलाड़ियों के लिए यह पहला ओलंपिक होगा। 120 सदस्यों के इस दल में मात्र दो ही खिलाड़ी ओलंपिक पदक विजेता हैं। पी.वी सिंधू ने 2016 रियो ओलंपिक में सिल्वर तो वहीं मैराकॉम ने 2012 लंदन ओलंपिक में ब्रॉन्ज मेडल अपने नाम किया था।

भारत पहली बार फेंनसिग में चुनौता पेश करेगा। चेन्नई की भवानी देवी पदक की दावेदारी पेश करेंगी। भारत 20 साल के बाद घुड़सवारी में वापसी कर रहा है, बेंगलुरु के फवाद मिर्जा तीसरे ऐसे घुड़सवार हैं जो ओलंपिक में भारत का प्रतिनिधित्व करेंगे। 

olympic

युवा कंधो पर दारोमदार

टोक्यो ओलंपिक में भाग लेने जा रहे भारतीय दल में अधिकतर खिलाड़ी युवा हैं। 120 खिलाड़ियों में से 103 खिलाड़ी 30 से भी कम आयु के हैं। मात्र 17 खिलाड़ी ही 30 से ज्यादा उम्र के होंगे। 

भारतीय दल में 18-25 के बीच 55, 26-30 के बीच 48, 31-35 के बीच 10 तो वहीं 35+ उम्र के 7 खिलाड़ी हिस्सा ले रहे हैं। इस लिस्ट में सबसे युवा 18 साल के दिव्यांश सिंह पंवार हैं, जो शूटिंग में चुनौता पेश करेंगे, तो वहीं सबसे उम्रदराज 45 साल के मेराज अहमद खान होंगे जो शूटिंग में ही पदक के लिए भी दावेदार हैं।