दैनिक भास्कर हिंदी: राफेल: बीजेपी का पलटवार, केन्द्रीय मंत्री ने गिनाए राहुल गांधी के आठ झूठ

October 13th, 2018

हाईलाइट

  • बीजेपी ने राफेल सौदे को लेकर राहुल गांधी के सारे आरोपों को झूठ करार दिया।
  • केंद्रीय मंत्री पीयूष गोयल ने राफेल सौदे से जुड़े राहुल गांधी के 8 झूठ गिनाएं
  • पीयूष गोयल बोले- एक मुद्दा रहित इंसान ही बार-बार झूठ को दोहरा सकता है

डिजिटल डेस्क, नई दिल्ली। राफेल डील को लेकर बीजेपी-कांग्रेस के बीच सियासी घमासान जारी है। इस सौदे को लेकर कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी द्वारा उठाए जा रहे सवालों और आरोपों पर बीजेपी ने पलटवार किया है। बीजेपी ने राहुल के सारे आरोपों को झूठ करार दिया है। केंद्रीय मंत्री पीयूष गोयल ने शुक्रवार को एक प्रेस कॉन्फ्रेंस कर एक के बाद एक राहुल गांधी के आठ झूठ गिनाए। उन्होंने कहा, 'हम पिछले कुछ समय से लगातार झूठ सुन रहे हैं। एक मुद्दा रहित इंसान ही बार-बार झूठ को दोहरा सकता है। हालांकि झूठ को 100 बार दोहराने से वह सच में तब्दील नहीं होता।'

पीयूष गोयल ने गिनाएं राहुल के ये आठ झूठ

झूठ न. 1 - राफेल सौदे को लेकर फ्रेंच मीडिया हाउस की रिपोर्ट को राहुल गांधी ने तोड़ा-मरोड़ कर पेश किया। डसॉल्ट के सीईओ को खुद राहुल के झूठ को खारिज करना पड़ा।

झूठ न. 2 - सुप्रीम कोर्ट ने राफेल की कीमत और टेक्निकल मुद्दों को सार्वजनिक करने की मांग को खारिज कर दिया। कोर्ट ने इन जानकारियों को बेहद संवेदनशील माना और राष्ट्र की सुरक्षा को देखते हुए इसे खारिज किया। कांग्रेस ने सुप्रीम कोर्ट के इस फैसले को भी तोड़-मरोड़ दिया।

झूठ न. 3 - कांग्रेस ने झूठ फैलाया कि डिफेंस मिनिस्ट्री ने एक अधिकारी को राफेल मामले में बात करने के लिए दंडित किया है। कहा गया कि अधिकारी को छुट्टी पर भेज दिया गया है, जबकि वह ट्रेनिंग के लिए गया था।

झूठ न. 4 - सरकार और एक प्राइवेट कंपनी के बीच किसी अहसान के बदले में फायदा पहुंचाने की बात भी झूठी है। सरकार किसी भी प्राइवेट कंपनी के बिजनेस डील में हस्तक्षेप नहीं करती।

झूठ न. 5 - राहुल गांधी ने पांचवा झूठ यह फैलाया कि पूर्व फ्रांसीसी राष्ट्रपति फ्रांस्वा ओलांद ने पीएम मोदी को चोर कहा। कांग्रेस के नेताओं ने  फ्रांस्वा ओलांद के बहाने पीएम मोदी के बारे में अनाप-शनाप शब्द कहे। इससे भारत की छवि को नुकसान पहुंच सकता था। यह एक शर्मनाक झूठ था।

झूठ न. 6 - राहुल का यह दावा भी झूठा था कि वे खुद फ्रांसीसी राष्ट्रपति से मिले और पूछा कि क्या दोनों देशों के बीच कोई सीक्रेट डील है। राहुल ने कहा था कि फ्रांस के राष्ट्रपति ने उन्हें बताया कि ऐसा कुछ नहीं है। फ्रांसीसी राष्ट्रपति ने खुद राहुल के इस दावे को खारिज कर दिया।

झूठ न. 7 - राहुल गांधी ने राफेल की कीमतों को लेकर देश की जनता को धोखा देने की कोशिश भी की। कांग्रेस अध्यक्ष एक एयरक्राफ्ट और एक फुली लोडेड एयरक्राफ्ट की कीमतों की तुलना कर राजनीतिक मतलब साध रहे थे।

झूठ न. 8 - कांग्रेस अध्यक्ष द्वारा कही गई यह बात कि राफेल सौदे में कैबिनेट कमिटी ऑन डिफेंस को लूप में नहीं लिया गया, यह भी सरासर गलत है।

गौरतलब है कि राफेल मुद्दे को लेकर कांग्रेस हर दिन मोदी सरकार पर निशाना साध रही है। राफेल बनाने के लिए फ्रेंच कंपनी डसॉल्ट द्वारा अनिल अंबानी की रिलायंस कंपनी के चयन को लेकर कांग्रेस आक्रामक रवैया अपनाए हुए है। पार्टी का कहना है कि राफेल एक बड़ा घोटाला है, जिसकी जांच जरूरी है। कांग्रेस नेताओं का कहना है कि राफेल सौदा UPA सरकार में बहुत कम कीमत पर तय किया गया था लेकिन NDA सरकार के आते ही इस पूरे सौदे को बदल दिया गया। राहुल गांधी इस सौदे में हुए भ्रष्टाचार के पीछे सीधे-सीधे पीएम मोदी पर निशाना साध रहे हैं।