दैनिक भास्कर हिंदी: मसूद पर बैन के बाद बोले मोदी : ये तो सिर्फ शुरुआत है, आगे आगे देखिए, होता है क्या

May 2nd, 2019

हाईलाइट

  • मसूद अजहर पर बैन लगने के बाद प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने अपनी प्रतिक्रिया दी है।
  • पीएम मोदी ने कहा कि मैं डंके की चोट पर ये कहना चाहता हूं कि ये तो सिर्फ शुरुआत है।
  • पीएम मोदी ने कहा कि मसूद अजहर पर विश्व में सहमति बनी, यह संतोष की बात है।

डिजिटल डेस्क, जयपुर। यूनाइटेड नेशन द्वारा मसूद अजहर पर बैन लगाने के बाद प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने अपनी प्रतिक्रिया दी है। पीएम मोदी ने कहा, आज UN सुरक्षा परिषद ने आतंकी संगठन JeM के कुख्यात आतंकी मसूद अजहर पर प्रतिबंध लगा दिया है। मसूद अजहर को UN द्वारा अंतरराष्ट्रीय आतंकवादी घोषित करने पर आखिरकार विश्व में सहमति बनी, यह संतोष की बात है। देर आए, दुरुस्त आए। मैं डंके की चोट पर ये कहना चाहता हूं कि ये तो सिर्फ शुरुआत है। आगे आगे देखिए, होता है क्या।

पीएम मोदी ने राजस्थान के जयपुर में एक रैली को संबोधित करते हुए कहा, ये है नया भारत और ये है इस नए भारत की ललकार। आज भारत की बात को नजरअंदाज नहीं किया जा सकता। ये सिर्फ मोदी की सफलता नहीं है, ये पूरे हिंदुस्तान की सफलता है। आज भारत के लिए, हर भारतीय के लिए बेहद गर्व का दिन है। मेरी हाथ जोड़कर प्रार्थना है कि कोई राजनीतिक दल ऐसे उत्साह और आत्मविश्वास के माहौल में कृपा करके मिलावट न करें। आतंकवाद के खिलाफ लड़ाई में विश्व समुदाय भारत के साथ खड़ा रहा, इसके लिए मैं पूरे भारत की तरफ से और हर मानवतावादी की तरफ से विश्व समुदाय का आभार व्यक्त करता हूं। .

पीएम मोदी ने कहा, एक वक्त था जब देश में ऐसी रिमोट कंट्रोल वाली सरकार थी, जिसमें पीएम तक की आवाज उनकी सरकार में ही कोई नहीं सुनता था। आज देश ने देखा है कि यूएन में क्या हुआ। कैसे 130 करोड़ जनता की आवाज पूरे विश्व में दहाड़ रही है। सिंधु नदी के संबंध में, पानी के संबंध में पाकिस्तान के साथ जो समझौता था और दिल्ली में सरकारें सोती रहीं। हमारे हक का पानी पाकिस्तान में जाता रहा। अब एक बूंद पानी नहीं जाने दूंगा। जिस पानी पर हमारे किसान का हक है, अब उसे पाकिस्तान नहीं जाने दूंगा।

बता दें कि UN ने जैश-ए-मोहम्मद के सरगना मौलाना मसूद अजहर को ग्लोबल टेररिस्ट घोषित कर दिया है। भारत लंबे समय से इसी फैसले का इंतजार कर रहा था, लेकिन चीन अपने वीटो पावर का इस्तेमाल कर इस बार-बार रोक रहा था। बुधवार को आखिरकर दुनिया भर के दबाव के बाद चीन राजी हो गया और अपना वीटो पावर हटाने को तैयार हुआ। कूटनीतिक स्तर पर भारत के लिए यह बड़ी कामयाबी मानी जा रही है।

खबरें और भी हैं...