दैनिक भास्कर हिंदी: 20 यूनिवर्सिटी बनेंगी वर्ल्ड क्लास, पटना से मोदी का ऐलान

October 15th, 2017

डिजिटल डेस्क, पटना। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने ऐलान किया है कि आने वाले 5 साल में 20 विश्वविद्यालयों को विश्वस्तरीय बनाया जाएगा। देशभर की 10 प्राइवेट यूनिवर्सिटी और 10 सरकारी यूनिवर्सिटी को वर्ल्ड क्लास बनाने के लिए सरकार 10 हजार करोड़ रुपए का फंड तैयार करेगी। इसका चुनाव विभिन्न पैमानों पर किया जाएगा। पीएम ने ये महत्वपूर्ण घोषणा पटना यूनिवर्सिटी के शताब्दी समारोह में की। 

प्रधानमंत्री मोदी शनिवार को पटना यूनिवर्सिटी के शताब्‍दी समारोह में शामिल होने क लिए पटना पहुंचे। यहां नीतीश कुमार ने पीएम से पटना यूनिवर्सिटी को सेंट्रल यूनिवर्सिटी के दायरे में लाने की मांग की। इस पर मोदी ने एक बड़ा ऐलान करते हुए कहा कि आने वाले 5 सालों में देश में 20 यूनिवर्सिटीज का चुनाव किया जाएगा, मोदी ने इसे सेंट्रल यूनिवर्सिटी से भी आगे की सोच बताया। मोदी ने बिहार और पटना यूनिवर्सिटी की तारीफ की। उन्होंने कहा कि हिंदुस्तान जवान है और उसके सपने भी जवान हैं। पटना यूनिवर्सिटी का जिक्र करते हुए मोदी ने कहा कि हर राज्य में सिविल सर्विस के ज्यादातर सीनियर अधिकारी यहीं के होते हैं।

मोदी ने कहा कि बिहार के पास सरस्वती की कृपा है, लेकिन अब वक्त बदल गया है और अब लक्ष्मी की कृपा की भी जरूरत है। मोदी ने बिहार की तारीफ करते हुए कहा कि राज्य के पास ज्ञान और गंगा दोनों हैं। पीएम मोदी ने कहा भारत स्टार्टअप की दुनिया में चौथे नंबर पर खड़ा है, जल्द ही यह नंबर 1 पर होगा। आने वाले युग की जरूरतों की पूर्ति के लिए विश्वविद्यालय को तैयार होना चाहिए, क्योंकि अब स्पर्धा वैश्विक हो गई है। बदलते युग में इनोवेशन को जितना बल दिया जाएगा हम उतनी मजबूती से खड़े रहेंगे। आईटी ने भारत के बारे में दुनिया की सोच को बदला। पहले भारत के बारे में कहा जाता था कि यह तो सांप-सपेरों का देश है।

पीएम मोदी ने कहा, 'जब मैं ताइवान गया था तब सीएम या पीएम नहीं था। 10 दिन के लिए गया था। मेरे साथ एक इंटरप्रेटर था। उन्होंने 6-7 दिन बाद मुझसे पूछा, क्या हिंदुस्तान अभी भी वैसा ही है। उन्होंने कहा कि मैंने उसे बताया कि अब भारत पहले जैसा नहीं रहा। पहले पूर्वज सांप से खेलते थे, अब नई पीढ़ी माउस से खेलती है।'
 

अचानक बना पटना म्यूजियम जाने का प्रोग्राम

बिहार के राज्यपाल सत्यपाल मलिक ने पीएम को एक किताब देकर तो वहीं मुख्यमंत्री नीतीश कुमार ने एयरपोर्ट पर गुलाब देकर उनका स्वागत किया। पीएम मोदी ने एयरपोर्ट पर पहुंचते ही मुख्यमंत्री नीतीश कुमार से पूछा कि पटना में जो नया म्यूजियम बना है उसे क्या मैं देख सकता हूं। इस बात पर नीतीश कुमार ने जवाब दिया, क्यों नहीं। पीएम पटना स्थित म्यूजियम भी गए। 

 

 

बिहार के सीएम नीतीश कुमार के साथ गठबंधन की सरकार बनाने के बाद यह पहली बार है, जब पीएम बिहार दौरे पर हैं। इस दौरे के दौरान पीएम पटना यूनिवर्सिटी के कार्यक्रम में हिस्सा लेने के अलावा राज्य को 3769 करोड़ रुपए की परियोजनाओं की सौगात भी देंगे।

चार सीवरेज परियोजनाएं और चार राष्ट्रीय राजमार्ग परियोजना का शिलान्यास
पीएम मोदी जिन परियोजनाओं का शिलान्यास करेंगे उनमें चार सीवरेज परियोजनाएं और चार राष्ट्रीय राजमार्ग परियोजना शामिल हैं। केंद्रीय जल संसाधन, नदी विकास और गंगा संरक्षण मंत्रालय के अनुसार चार सीवरेज परियोजनाओं पर 738 करोड़ रुपये की लागत आएगी। ये परियोजनाएं बेऊर, सैदपुर, करमालीचक में लगेंगी। इनके जरिये 120 एमएलडी क्षमता के नए सीवेज ट्रीटमेंट प्लांट और 20 एमएलडी क्षमता के पुराने एसटीपी में सुधार का काम किया जाएगा। साथ ही 234.84 किलोमीटर लंबा सीवर नेटवर्क भी बिछाया जाएगा।

पटना को मिलेगी सौगात
गौरतलब है कि पटना में 7 अन्य सीवरेज परियोजनाओं पर पहले से ही काम चल रहा है। इनमें से दो परियोजनाएं सार्वजनिक निजी भागीदारी में बनाई जा रही हैं। इन पर करीब 1402 करोड़ रुपये की लागत आने का अनुमान है। पटना की आबादी फिलहाल 16,83,000 है। यहां से फिलहाल 220 एमएलडी सीवेज निकलता है। 2035 तक सीवेज का भार बढ़कर 320 एमएलडी हो जाने का अनुमान है। फिलहाल यहां सिर्फ 109 एमएलडी सीवरेज ट्रीटमेंट की क्षमता है।

राजमार्ग परियोजनाओं का शिलान्यास
प्रधानमंत्री राष्ट्रीय राजमार्ग-31 के आंटा-सिमरिया खंड और बख्तियापुर-मोकामा के बीच राष्ट्रीय राजमार्ग को चार लेन में परिवर्तन करने के कार्य का शिलान्यास भी करेंगे। साथ ही गंगा पर बनने वाले छह लेन के पुल और राष्ट्रीय राजमार्ग 107 के महेशखूंट-सहरसा-पूर्णिया के बीच दो लेन के निर्माण का कार्य भी किया जाएगा।

बता दें कि गंगा पर बनने वाले इस पुल पर 1161 करोड़ रुपये की लागत आएगी। इसके अलावा राष्ट्रीय राजमार्ग-82 पर शरीफ-बरबीघा-मोकामा पर भी दो लेन बनाने का काम शुरू किया जाएगा। इस पर 297 करोड़ रुपये की लागत आएगी।