नई दिल्ली : पेगासस मामले पर राहुल गांधी ने केंद्र सरकार पर हमला बोला

October 27th, 2021

हाईलाइट

  • पेगासस मामले को लेकर राहुल गांधी ने केंद्र को घेरा
  • राहुल ने पेगासस जासूसी मामले को लोकतंत्र पर हमला बताया

डिजिटल डेस्क, नई दिल्ली।  पेगासूस सॉफ्टवेयर से जासूसी के मामले में आज देश की सर्वोच्च अदालत ने बुधवार को अपना फैसला सुनाया। सुप्रीम कोर्ट ने पेगासस जासूसी मामले की जांच करने के लिए तीन सदस्यीय समिति का गठन किया है। इस कमेटी में सुप्रीम कोर्ट के पूर्व जज आरवी रविंद्रन, आलोक जोशी और संजीप ओबेरॉय हैं। समिति की अध्यक्षता जस्टिस रविंद्रन करेंगे। इस मामले को लेकर कांग्रेस के पूर्व अध्यक्ष राहुल गांधी ने केंद्र सरकार पर जमकर हल्ला बोला है। राहुल गांधी ने पेगासस जासूसी मामले को लोकतंत्र पर हमला बताया है। उन्होंने प्रेस कांफ्रेंस में केंद्र सरकार पर हमला बोलते हुए कहा कि पेगासस को भारत में कौन लेकर आया? पेगासस को किसने खरीदा है? पेगासस को कोई प्राइवेट व्यक्ति खरीद ही नहीं सकता है। उन्होंने कहा कि हमने पेगासस का मुद्दा संसद में भी उठाया था। उन्होंने आगे कहा कि एसआईटी का गठन अच्छा कदम है। पेगासस सॉफ्टवेयर केंद्र सरकार की ओर से खरीदा गया है। राहुल गांधी ने कहा कि सरकार इस मामले पर जरूर कुछ ना कुछ छुपा रही है। इसी कारण वह कोई उत्तर नहीं दे रही है। उन्होंने कहा कि हम सुप्रीम कोर्ट के इस फैसले का सम्मान करते हैं, इंतजार है तो बस रिपोर्ट आने का है।

सबित पात्रा ने किया पलटवार

आपको बता दें कि राहुल गांधी के बयानों को लेकर बीजेपी के प्रवक्ता संबित पात्रा ने भी पलटवार किया है। उन्होंने जवाबी हमला बोलते हुए कहा कि भ्रम और राहुल गांधी जी का गहरा रिश्ता है। झूठ बोलना, भ्रम फैलाना राहुल गांधी की आदत में शामिल है। उनके पास बोलन के लिए कुछ भी नया नहीं था, इसलिए बार-बार एक ही बात को बोलते रहते हैं।  संबित पात्रा ने राहुल गांधी पर तंज कसा कि उनके पास बोलने के लिए नया कुछ भी नहीं था, इसलिए बार-बार एक ही बात को दोहराते रहते हैं। उन्होंने आगे कहा कि आज कोर्ट ने एक्सपर्ट लोगों की टीम का गठन किया है। जो सरकार ने आग्रह किया था, कोर्ट ने उसे स्वीकार किया है। जो कमेटी का गठन हुआ है वो जांच करेगी।  संबित पात्रा ने कहा जब हमारे मंत्री ने सदन में बयान दिया था तब सदन के पटल पर कागज को फाड़ दिया गया था। उन्होंने आगे कहा कि राहुल जी, कोर्ट ने वही किया जो सरकार ने अपने शपथपत्र में कहा है। उन्होंने कहा राहुल गांधी की राजनीति में कोई रूचि नहीं है, भ्रम की राजनीति करते रहे हैं।

 

 

 

खबरें और भी हैं...