दैनिक भास्कर हिंदी: राहुल गांधी बोले- विकेटकीपर को देखकर बल्लेबाजी करते हैं नरेंद्र मोदी

February 13th, 2018

डिजिटल डेस्क, रायचूर। कर्नाटक विधानसभा चुनाव 2018 को देखते हुए कांग्रेस और भारतीय जनता पार्टी समेत अन्य पार्टियों ने भी अपनी कमर कस ली है। इसी क्रम में कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी सोमवार को कर्नाटक के रायचूर पहुंचे। यहां उन्होंने एक रैली को संबोधित करते हुए पीएम नरेंद्र मोदी और सिद्धारमैया पर जमकर जुबानी हमला बोला। राहुल गांधी ने कहा कि पीएम मोदी ऐसे बल्लेबाज हैं, जो गेंदबाज को देखकर नहीं बल्कि विकेटकीपर को देखकर बल्लेबाजी करते हैं।

राहुल गांधी ने रैली को संबोधित करते हुए कहा कि जब सचिन तेंदुलकर खेलते हैं तो गेंदबाज को देखते हैं, सिद्धारमैया गेंद को देखते हैं और मोदी विकेटकीपर को देखते हैं। यही कारण है कि जब भी गेंद आती है तो उनसे गड़बड़ी हो जाती है। इसी तरह नोटबंदी हुई, जिसका सीधा असर किसानों और आदिवासियों पर इसका असर पड़ा। आज देश कहां है और क्या हाल है इन किसानों और आदिवासियों का ये सब जानते हैं।

रायचूर की रैली में राहुल गांधी ने कहा कि देश में दो तरह की सरकारें होती हैं। एक सरकार ऐसी होती है जो 5-10 उद्योगपतियों को राष्ट्रीय संपदा सौंप देती है और दूसरी सरकार इस संपदा को फिर से वितरित करती है। मगर भारतीय जनता पार्टी एक ऐसी पार्टी है, जो जहां भी सरकार बनाती है, वहां सारा पैसा उद्योगपतियों को दे दिया गया।

 


कांग्रेस अध्यक्ष ने संबोधन में आगे कहा कि मोदी गब्बर सिंह टैक्स (GST) ले आए। उन्हें युवाओं ने भविष्य सुधारने, बेरोजगारी और किसानों की समस्या दूर करने के लिए चुना था और वह पुराने समय की बात कर रहे हैं। मेरा मोदी से कहना है कि पुराने समय की बात न करें, हमें ये बताएं कि रोजगार कैसे पैदा करेंगे।

कांग्रेस अध्यक्ष ने कहा कि नोटबंदी और जीएसटी ने छोटे कारोबारियों को बर्बाद कर दिया। मोदी लोगों को रोजगार नहीं देते हैं और उनसे स्टार्ट अप शुरू करने को कहते हैं। उन्होंने अपने दोस्त अमित शाह के बेटे को अच्छी स्टार्ट अप कंपनी दी है। राहुल ने कहा कि नोटबंदी के बाद से अब तक केवल एक कंपनी का कारोबार 50 हजार रुपए से 80 करोड़ रुपए हो गया और वह कंपनी अमित शाह के बेटे की है।

राहुल गांधी ने कहा कि मोदी ने खुद स्वीकार किया है कि कर्नाटक रोजगार देने में सबसे आगे है। उन्होंने कहा कि मोदी को सिद्धारमैया से सीखना चाहिए, उन्होंने किसानों का कर्ज माफ किया, गरीबों के लिए इंदिरा कैंटीन खोली, आंगनवाड़ी और आशाओं का वेतन बढ़ाया।