दैनिक भास्कर हिंदी: राहुल गांधी बोले - कर्नाटक में लालच की जीत हुई, ईमानदारी की हार

July 24th, 2019

हाईलाइट

  • गठबंधन सरकार के गिरने के बाद राहुल गांधी का बयान सामने आया
  • राहुल ने सरकार के गिरने को लालच की जीत और ईमानदारी की हार बताया
  • प्रियंका ने कहा, भाजपा एक दिन यह जान लेगी कि सब कुछ खरीदा नहीं जा सकता

डिजिटल डेस्क, नई दिल्ली। कर्नाटक में गठबंधन सरकार के गिरने के बाद कांग्रेस नेता राहुल गांधी का बयान सामने आया है। राहुल गांधी ने सरकार के गिरने को लालच की जीत और ईमानदारी की हार बताया है। बता दें कि राज्य में 14 महीने से अस्थिरता के दौर का सामना करने के बाद मुख्यमंत्री एच डी कुमारस्वामी मंगलवार को विश्वासमत हासिल करने में विफल रहे और उनका कार्यकाल खत्म हो गया।

राहुल गांधी ने कहा कि 'कर्नाटक में कांग्रेस-जेडीएस की सरकार बनने के बाद पहले दिन से ही अंदर और बाहर निहित स्वार्थों के चलते निशाना बनाया गया। उन लोगों को जिन्हें लगा कि गठबंधन खतरा है और जिन्होंने अपना रास्ता देखा कि उन्हें सत्ता मिल सकती है। कर्नाटक में लालच की जीत हुई है। लोकतंत्र, ईमानदारी और कर्नाटक के लोगों की हार हुई है।'

 

 

इस मामले पर प्रतिक्रिया देते हुए, कांग्रेस महासचिव प्रियंका गांधी वाड्रा ने कहा कि भाजपा एक दिन यह जान लेगी कि सब कुछ नहीं खरीदा जा सकता है, हर किसी के पीछे नहीं पड़ा जा सकता और हर झूठ अंततः उजागर हो जाता है।

कर्नाटक में करीब 15 दिनों से सियासी ड्रामा चल रहा था जिसका आखिरकार पटाक्षेप हो गया। मुख्यमंत्री कुमारस्वामी ने विधानसभा में पिछले बृहस्पतिवार को विश्वास मत का प्रस्ताव पेश किया था। विश्वासमत पर चार दिन तक चली चर्चा के खत्म होने के बाद मंगलवार को विधानसभा में विश्वास मत के पक्ष में मात्र 99 वोट पड़े। वहीं विरोध में 105 वोट पड़े। विश्वास मत का प्रस्ताव गिरने के बाद कुमारस्वामी ने राजभवन पहुंचकर राज्यपाल को अपने इस्तीफा सौंपा।

सरकार गिरने के बाद बीजेपी के वरिष्ठ नेता बीएस येदियुरप्पा ने कहा, 'यह लोकतंत्र की जीत है। कुमारस्वामी सरकार से लोग तंग आ चुके थे। मैं कर्नाटक के लोगों को आश्वस्त करना चाहता हूं कि विकास का एक नया युग अब शुरू होगा।' उन्होंने कहा, 'हम किसानों को आश्वस्त करते हैं कि आने वाले दिनों में हम उन्हें और अधिक महत्व देंगे। हम जल्द से जल्द उचित निर्णय लेंगे।' उन्होंने कहा, 'मैं प्रधानमंत्री और हमारे अध्यक्ष अमित शाह जी के साथ चर्चा करूंगा, बाद में मैं राज्यपाल से मिलूंगा।'

कांग्रेस नेता सिद्धारमैया ने कहा, मैं फिर से कहना चाहूंगा कि जो लोग 'ऑपरेशन कमल' में शामिल हुए हैं, उन्हें दोबारा हमारी पार्टी में कभी शामिल नहीं किया जाएगा। चाहे आसमान ही क्यों ना गिर पड़े।' 

खबरें और भी हैं...