दैनिक भास्कर हिंदी: डोकलाम विवाद पर राहुल का वार, अपनी तारीफ करने से मोदी जी को फुर्सत ही नहीं

October 6th, 2017

डिजिटल डेस्क, नई दिल्ली। डोकलाम पर सीमा विवाद भले ही केंद्र सरकार की नजर में सुलझ गया है, लेकिन जमीनी हकीकत कुछ और ही बयां करती नजर आ रही है। चीन सरकार ने सभी नियमों और समझौतों को धता बताते हुए डोकलाम इलाके में एक बार फिर अपने सैनिकों की तैनाती बढ़ाना शुरु कर दिया है। शुक्रवार को कांग्रेस उपाध्यक्ष राहुल गांधी ने दो तस्वीरें और खबर ट्वीट करते हुए नरेंद्र मोदी सरकार पर हमला बोला है।

राहुल ने ट्वीट कर कहा है कि मोदी जी, अगर जब आपको अपनी तारीफ करने से फुर्सत मिले तो क्या इसे समझाएंगे? राहुल ने ये ट्वीट एक खबर को शेयर करते हुए किया. इसमें कहा गया है कि डोकलाम पर अभी भी 500 से ज्यादा चीनी सैनिक तैनात हैं। वहीं भारतीय अफसरों का दावा है कि चीन इस विवादित इलाके में रोड को एक्स्टेंड कर रहा है। इसमें लगे इम्प्लॉइज को उसके 500 जवान सिक्युरिटी दे रहे हैं।

बता दें कि चीन की सेना डोकलाम में जहां सड़क बना रही है, वह पिछली बार के विवादित इलाके से महज 12 किमी दूर है। जानकारी के अनुसार चीन डोकलाम में धीरे-धीरे सेना बढ़ा रहा है। लिहाजा इलाके में फिर से तनाव बढ़ सकता है।

गुरुवार को एयरफोर्स की एनुअल प्रेस कॉन्फ्रेंस में एयरचीफ मार्शल बीएस धनोआ ने कहा कि चुम्बी घाटी में चीनी सेना मौजूद है। हम उम्मीद करते हैं कि वो वहां से जल्दी ही लौट जाएंगे। बताया कि चीनी सेना की मौजूदगी के बावजूद डोकलाम में भारत और चीन की सेना आमने-सामने नहीं हैं। दोनों सेनाएं आमने-सामने नहीं हैं। दोनों देश इस क्षेत्र की बड़ी पॉलिटिकल और इकोनॉमिक पावर हैं। मैं उम्मीद करता हूं कि समझदारी दिखाई जाएगी और इस समस्या को शांतिपूर्ण तरीके से सुलझा लिया जाएगा। क्योंकि, यही दोनों देशों के हित में है। इसके लिए पॉलिटिकल और डिप्लोमैटिक लेवल पर कोशिशें की जानी चाहिए।

गौरतलब है कि चीन सिक्किम सेक्टर के डोकलाम इलाके में सड़क बना रहा था। यह घटना जून में सामने आई थी। चीन ने 16 जून से यह सड़क बनाना शुरू की थी। भारत ने विरोध जताया तो चीन ने घुसपैठ कर दी थी। डोकलाम के पठार में ही चीन, सिक्किम और भूटान की सीमाएं मिलती हैं। भूटान और चीन इस इलाके पर दावा करते हैं। भारत भूटान का साथ देता है। भारत में यह इलाका डोकलाम और चीन में डोंगलोंग कहलाता है।