दैनिक भास्कर हिंदी: उद्धव का अयोध्या कूच, बोले- सोए हुए कुंभकरण को जगाने आया हूं

November 25th, 2018

हाईलाइट

  • अयोध्या में शिवसेना प्रमुख उद्धव ठाकरे ने छेड़ा मंदिर राग
  • उद्धव बोले- मंदिर निर्माण पर राजनीति नहीं, तारीख चाहिए
  • उद्धव ने परिवार समेत सरयू तट पर आरती भी की

डिजिटल डेस्क, नई दिल्ली। राम मंदिर निर्माण को लेकर अयोध्या में एक बार फिर माहौल गरमा गया है। एक और जहां विश्व हिंदू परिषद (वीएचपी) रविवार को यहां धर्म संसद का आयोजन करने वाली है। वहीं शनिवार को उद्धव ठाकरे ने अयोध्या कूच कर सरकार और प्रशासन के माथे पर बल ला दिए हैं। उद्धव आज दोपहर अयोध्या पहुंचे। यहां लक्ष्मण किला पहुंचकर उन्होंने कहा कि वे यहां राजनीति करने नहीं बल्कि मंदिर निर्माण की तारीख जानने आए हैं। शिवसैनिकों और साधु संतों को संबोधित करते हुए उद्धव ठाकरे ने कहा, 'मुझे राम मंदिर पर कोई राजनीति नहीं करना है, न ही मुझे मंदिर निर्माण का श्रेय चाहिए। मैं बस सोए हुए कुंभकरण को जगाने आया हूं। मुझे बस राम मंदिर निर्माण की तारीख चाहिए। हम सभी को मिलकर राम मंदिर का निर्माण करना है। सब साथ आएंगे, तो राम मंदिर जल्द बनेगा।' लक्ष्मण किले के बाद उद्धव ठाकरे परिवार समेत शाम को अयोध्या के सरयू तट पर पहुंचे। यहां उन्होंने सरयू नदी की आरती की।

 

 

इससे पहले उद्धव ठाकरे ने राम मंदिर निर्माण के लिए महाराष्ट्र शिवाजी स्मारक से मिट्टी उठाई थी। भाजपा को निशाने पर लेकर अयोध्या पहुंचे उद्धव दो दिन तक अयोध्या में रहेंगे। बता दें कि केंद्र और महाराष्ट्र में शिवसेना भाजपा की सहयोगी पार्टी है। दोनों संगठनों के कार्यक्रम को देखते हुए अयोध्या के आसपास सुरक्षा व्यवस्था बढ़ा दी गई है। पूरे अयोध्या को किले के रूप में बदल दिया गया है।

सुरक्षा के लिए ये तैनात
कानून व्यवस्था बनाए रखने के लिए एक अपर पुलिस महानिदेशक, एक उप पुलिस महानिरीक्षक, 3 पुलिस अधीक्षक, 10 अपर पुलिस अधीक्षक, 21 क्षेत्राधिकारी, 160 इंस्पेक्टर, 700 कांस्टेबल, पीएसी की 42 कंपनी, आरएएफ की 5 कंपनियां अयोध्या के आसपास तैनात की गई हैं। कमांडो, एटीएस और ड्रोन कैमरों से भी निगरानी की जा रही है।

 

जो विरोध करेगा, उसका देश में घूमना मुश्किल: राउत
इससे पहले शुक्रवार को शिवसेना नेता संजय राउत ने कहा था कि हमने 17 मिनट में बाबरी तोड़ दी थी तो कानून बनाने में इतना समय क्यों लग रहा है? राष्ट्रपति भवन से लेकर यूपी तक भाजपा काबिज है। राज्य सभा में कई ऐसे लोग हैं, जो राम मंदिर के साथ खड़े रहेंगे। जो विरोध करेगा, उसका देश में घूमना मुश्किल होगा। 

 

रविवार को वीएचपी की धर्म सभा
बता दें कि रविवार को संतों की अपील पर धर्मसभा आयोजित की जा रही है, जिसमें तमाम हिंदूवादी संगठन शामिल हो रहे हैं। इसमें विश्व हिंदू परिषद और बजरंग दल प्रमुख हैं। दावा है कि इस धर्मसभा में 2 लाख से ज्यादा लोग इकट्ठा हो सकते हैं। 6 दिसंबर 1992 को अयोध्या में बाबरी मस्जिद विध्वंस के 26 वर्षों बाद यह पहला मौका है, जब अयोध्या में इतनी बड़ी तादाद में लोग इकट्ठा होंगे।

खबरें और भी हैं...