दैनिक भास्कर हिंदी: दलित नहीं था रोहित वेमुला, निजी कारणों से किया था सुसाइडः जांच कमीशन

August 16th, 2017

डिजिटल न्यूज, हैदराबाद। हैदराबाद सेंट्रल यूनिवर्सिटी के छात्र रोहित वेमुला के आत्महत्या मामले में जांच कर रही कमीशन ने मंगलवार को अपनी रिपोर्ट को सार्वजनिक कर सभी को चौंका दिया है। रिपोर्ट के अनुसार रोहित वेमुला दलित वर्ग का नहीं था। साथ ही रोहित वेमुला ने कॉलेज प्रशासन से परेशान होकर आत्महत्या नहीं की थी, बल्कि उसकी आत्महत्या का कारण उसकी निजी परेशानियां थी।

मानव संसाधन मंत्रालय द्वारा गठित इस कमीशन की अध्यक्षता कर रहे इलाहाबाद हाईकोर्ट के पूर्व जस्टिस ने कहा, 'रोहित वेमुला ने अपने सुसाइड नोट में निजी कारणों से परेशान होने की बात कही है। साथ ही वह अपनी जिंदगी से नाखुश भी था'। उसने किसी को भी अपनी मौत के लिए जिम्मेदार नहीं ठहराया है।

गौरतलब है कि Phd कर रहे रोहित ने 17 जनवरी 2016 को हॉस्टल के कमरे में सुसाइड कर लिया था। इससे पहले रोहित (27) पर ABVP के छात्र नेता को पीटने का आरोप भी लगा था। इसके बाद अनुशासनहीनता के आरोप में रोहित को उसके 5 साथियों के साथ कॉलेज से निष्कासित कर दिया था। निष्कासित छात्रों को कॉलेज में रुकने की इजाजत नहीं थी, लेकिन उन्हें लेक्चर और रिसर्च करने की पूरी छूट थी।