comScore

© Copyright 2019-20 : Bhaskarhindi.com. All Rights Reserved.

SSR Case: सुशांत के पिता के वकील का आरोप- केस में बड़े लोग शामिल, मुंबई पुलिस आयुक्त व डीसीपी को सस्पेंड किया जाना चाहिए

SSR Case: सुशांत के पिता के वकील का आरोप- केस में बड़े लोग शामिल, मुंबई पुलिस आयुक्त व डीसीपी को सस्पेंड किया जाना चाहिए

हाईलाइट

  • रिया के सुशांत का घर छोड़ने से पहले 8 हार्ड ड्राइव नष्ट किए गए
  • रिया के व्हाट्सएप चैट को रिट्रीव किया तो ड्रग्स एंगल सामने आया

डिजिटल डेस्क, मुंबई। बॉलीवुड अभिनेता सुशांत सिंह राजपूत की मौत के मामले में सीबीआई जांच का आज छठवां दिन है। इस मामले में रोजाना नए खुलासे हो रहे हैं। इसमें रिया का ड्रग्स कनेक्शन भी सामने आया है और अब नारकोटिक्स कंट्रोल ब्यूरो (एनसीबी) इसकी जांच करेगा। मामले में संदीप सिंह की भूमिका संदेह के घेरे में है। मीडिया रिपोर्ट के मुताबिक, सिद्धार्थ पिठानी ने स्वीकार किया कि रिया ने सुशांत का साथ छोड़ने से पहले हार्ड ड्राइव तोड़ डाली थीं। इस पर सुशांत के पिता के वकील विकास सिंह ने कहा कि अगर ऐसा है तो सुशांत को मारने के लिए साजिश की गई थी। उन्होंने आगे कहा कि मुझे लगता है कि इस पूरे प्रकरण में बहुत कुछ भयावह है और ऐसा प्रतीत होता है कि मामले में कुछ बड़े लोगों की संलिप्तता है। सबसे पहले मुंबई पुलिस आयुक्त और उस क्षेत्र के डीसीपी सस्पेंड किया जाना चाहिए।
 
उन्होंने कहा कि कुछ तो हार्ड ड्राइव्स में ऐसा था, जिससे रिया का इन्वॉल्वमेंट स्पष्ट होता। वो हार्ड ड्राइव ड्रग्स से जुड़ा था या किसी और चीज को प्रूव करने के लिए था ये तो जांच ही बताएगी। उन्होंने कहा कि जब आप कुछ दिनों के लिए जा रही थीं तो हार्ड ड्राइव ले जाने का औचित्य समझ नहीं आता। साफ था कि वो हमेशा के लिए जा रही थी और उनको ये भी अंदेशा था कि सुशांत के साथ कुछ होने वाला है और ये हार्ड ड्राइव सुशांत के नहीं रहने के बाद उनको दिक्कत पहुंचा सकती है।

रिया के सुशांत का घर छोड़ने से पहले 8 हार्ड ड्राइव नष्ट किए गए 
बता दें कि सुशांत की मौत के मामले में सीबीआई को जांच के दौरान कई अहम जानकारियां मिल रही हैं। जांच एजेंसी ने सुशांत सिंह राजपूत के साथ फ्लैट में रहने वाले उनके दोस्त सिद्धार्थ पिठानी से आज फिर पूछताछ की है। सीबीआई के सूत्रों के मुताबिक, सिद्धार्थ पिठानी ने इस दौरान कई खुलासे किए हैं। उसने बताया कि 8 जून को सुशांत और रिया चक्रवर्ती में झगड़ा हुआ था। रिया के घर छोड़ने से पहले यानी 8 जून को 8 हार्ड ड्राइव नष्ट किए गए थे। सुशांत की मौजूदगी में ये हार्ड ड्राइव नष्ट कराए गए थे। इस दौरान रिया भी कमरे में मौजूद थी। ड्राइव को नष्ट करने के लिए आईटी प्रोफेशनल आए थे। हालांकि, ये साफ नहीं है कि उन्हें बुलाया किसने था।

रिया की व्हाट्सएप चैट से सुशांत मामले में निकला ड्रग एंगल
सीबीआई के सामने सिद्धार्थ पिठानी और सैमुअल मिरांडा ने कबूल किया था कि सुशांत मारिजुआना का नशा करते थे, लेकिन रिया के मोबाइल से जो राज बाहर आए हैं, उसके बाद से तो इस केस का ड्रग एंगल सबसे मजबूत दिखने लगा है। सुशांत केस की जांच के दौरान सीबीआई की टीम ने जब सुशांत की गर्लफ्रेंड रिया चक्रवर्ती के मोबाइल से डिलीट किए हुए मैसेज और व्हाट्सएप चैट को रिट्रीव किया तो इस केस में ड्रग्स का एंगल सामने आ गया। रिया के वकील ने इन आरोपों को पूरी तरह गलत बताया है। रिया के वकील सतीश मानेशिंदे ने सफाई में कहा कि रिया ने अपने जीवन में कभी भी ड्रग्स का सेवन नहीं किया। वह किसी भी वक्त ब्लड टेस्ट के लिए तैयार हैं। अब नार्कोटिक्स कंट्रोल ब्यूरो (NCB) सुशांत सिंह राजपूत मौत मामले में ड्रग एंगल की जांच कर रहा। NCB के डायरेक्टर, राकेश अस्थाना ने कहा बताया था कि हम सुशांत सिंह राजपूत की मौत के मामले में भी जांच कर रहे हैं। 

वहीं, सुशांत की मौत के सिलसिले में पैसों के लेन-देन संबंधी जांच कर रहे प्रवर्तन निदेशालय (ईडी) ने ड्रग्स एंगल को लेकर नार्कोटिक्स कंट्रोल ब्यूरो से संपर्क साधा है। ईडी ने नार्कोटिक्स ब्यूरो से इस बारे में जानकारी हासिल करने की अपील की है कि कहीं पूरे मामले में कोई ड्रग्स सिंडिकेट तो शामिल नहीं है।

जानिए 14 जून से अब तक क्या-क्या हुआ

  • 14 जून : सुशांत सिंह राजपूत (34 वर्ष) का शव मुंबई के बांद्रा स्थित उनके अपार्टमेंट में छत के पंखे से लटका होने की खबर मिली। मुंबई पुलिस ने आकस्मिक मौत का कारण पता करने के लिए सीआरपीसी के तहत जांच शुरू की।
  • 18 जून : सुशांत सिंह राजपूत की महिला मित्र तथा अभिनेत्री रिया चक्रवर्ती ने मुंबई पुलिस के समक्ष बयान दर्ज कराया।
  • 6 जुलाई : फिल्मकार संजय लीला भंसाली ने इस मामले में बयान दर्ज कराया।
  • 18 जुलाई : फिल्मकार और यशराज फिल्म्स (वाईआरएफ) के अध्यक्ष आदित्य चोपड़ा ने मुंबई पुलिस के समक्ष बयान दर्ज कराया।
  • 25 जुलाई : राजपूत के पिता के के सिंह ने अपने बेटे को आत्महत्या के लिये उकसाने समेत कई आरोपों के तहत पटना में रिया चक्रवर्ती और उनके परिवार के सदस्यों के खिलाफ मामला दर्ज कराया।
  • 27 जुलाई : मुंबई पुलिस ने फिल्मकार महेश भट्ट का बयान दर्ज किया।
  • 29 जुलाई : रिया चक्रवर्ती प्राथमिकी को पटना से मुंबई स्थानांतरित कराने के लिए उच्चतम न्यायालय पहुंचीं।
  • 31 जुलाई : प्रवर्तन निदेशालय (ईडी) ने कहा कि उसने इस प्रकरण में धनशोधन का मामला दर्ज किया है।
  • 4 अगस्त : बिहार के मुख्यमंत्री नीतीश कुमार ने कहा कि उनकी सरकार मामले की सीबीआई जांच की सिफारिश करती है। मुंबई पुलिस आयुक्त ने बताया कि इस मामले में कुल 54 लोगों ने बयान दर्ज कराए हैं।
  • 6 अगस्त : सीबीआई ने कहा कि उसने मामले में प्राथमिकी दर्ज की है।
  • 7 अगस्त : केंद्र सरकार ने रिया की याचिका में खुद को एक पक्ष बनाए जाने के लिये उच्चतम न्यायालय का रुख किया।
  • 8 अगस्त : राजपूत के पिता के के सिंह ने उच्चतम न्यायालय में याचिका दाखिल कर रिया की अपील का विरोध किया।
  • 10 अगस्त : रिया ने मीडिया ट्रायल का आरोप लगाते हुए उच्चतम न्यायालय में नयी याचिका दायर की।
  • 11 अगस्त : महाराष्ट्र सरकार ने उच्चतम न्यायालय को बताया कि बिहार पुलिस ने अपने अधिकार क्षेत्र से बाहर काम किया है। उच्चतम न्यायालय ने रिया की याचिका पर फैसला सुरक्षित रखा।
  • 19 अगस्त : उच्चतम न्यायालय ने पटना में दर्ज प्राथमिकी को सीबीआई को स्थानांतरित करने का फैसला बरकरार रखा।
कमेंट करें
m8nNG
NEXT STORY

Real Estate: खरीदना चाहते हैं अपने सपनों का घर तो रखे इन बातों का ध्यान, भास्कर प्रॉपर्टी करेगा मदद

Real Estate: खरीदना चाहते हैं अपने सपनों का घर तो रखे इन बातों का ध्यान, भास्कर प्रॉपर्टी करेगा मदद

डिजिटल डेस्क, जबलपुर। किसी के लिए भी प्रॉपर्टी खरीदना जीवन के महत्वपूर्ण कामों में से एक होता है। आप सारी जमा पूंजी और कर्ज लेकर अपने सपनों के घर को खरीदते हैं। इसलिए यह जरूरी है कि इसमें इतनी ही सावधानी बरती जाय जिससे कि आपकी मेहनत की कमाई को कोई चट ना कर सके। प्रॉपर्टी की कोई भी डील करने से पहले पूरा रिसर्च वर्क होना चाहिए। हर कागजात को सावधानी से चेक करने के बाद ही डील पर आगे बढ़ना चाहिए। हालांकि कई बार हमें मालूम नहीं होता कि सही और सटीक जानकारी कहा से मिलेगी। इसमें bhaskarproperty.com आपकी मदद कर सकता  है। 

जानिए भास्कर प्रॉपर्टी के बारे में:
भास्कर प्रॉपर्टी ऑनलाइन रियल एस्टेट स्पेस में तेजी से आगे बढ़ने वाली कंपनी हैं, जो आपके सपनों के घर की तलाश को आसान बनाती है। एक बेहतर अनुभव देने और आपको फर्जी लिस्टिंग और अंतहीन साइट विजिट से मुक्त कराने के मकसद से ही इस प्लेटफॉर्म को डेवलप किया गया है। हमारी बेहतरीन टीम की रिसर्च और मेहनत से हमने कई सारे प्रॉपर्टी से जुड़े रिकॉर्ड को इकट्ठा किया है। आपकी सुविधाओं को ध्यान में रखकर बनाए गए इस प्लेटफॉर्म से आपके समय की भी बचत होगी। यहां आपको सभी रेंज की प्रॉपर्टी लिस्टिंग मिलेगी, खास तौर पर जबलपुर की प्रॉपर्टीज से जुड़ी लिस्टिंग्स। ऐसे में अगर आप जबलपुर में प्रॉपर्टी खरीदने का प्लान बना रहे हैं और सही और सटीक जानकारी चाहते हैं तो भास्कर प्रॉपर्टी की वेबसाइट पर विजिट कर सकते हैं।

ध्यान रखें की प्रॉपर्टी RERA अप्रूव्ड हो 
कोई भी प्रॉपर्टी खरीदने से पहले इस बात का ध्यान रखे कि वो भारतीय रियल एस्टेट इंडस्ट्री के रेगुलेटर RERA से अप्रूव्ड हो। रियल एस्टेट रेगुलेशन एंड डेवेलपमेंट एक्ट, 2016 (RERA) को भारतीय संसद ने पास किया था। RERA का मकसद प्रॉपर्टी खरीदारों के हितों की रक्षा करना और रियल एस्टेट सेक्टर में निवेश को बढ़ावा देना है। राज्य सभा ने RERA को 10 मार्च और लोकसभा ने 15 मार्च, 2016 को किया था। 1 मई, 2016 को यह लागू हो गया। 92 में से 59 सेक्शंस 1 मई, 2016 और बाकी 1 मई, 2017 को अस्तित्व में आए। 6 महीने के भीतर केंद्र व राज्य सरकारों को अपने नियमों को केंद्रीय कानून के तहत नोटिफाई करना था।