दैनिक भास्कर हिंदी: तबलीगी कांड: आज दाखिल होंगी 14 देश के 294 विदेशी तबलीगियों के खिलाफ 12 से 15 चार्जशीट

May 27th, 2020

हाईलाइट

  • तबलीगी कांड: आज दाखिल होंगी 14 देश के 294 विदेशी तबलीगियों के खिलाफ 12 से 15 चार्जशीट

नई दिल्ली, 27 मई (आईएएनएस)। निजामुद्दीन बस्ती स्थित मरकज तबलीगी जमात कांड में दिल्ली पुलिस क्राइम ब्रांच आज (बुधवार) फिर 15 चार्जशीट दाखिल करने वाली है। इन 15 चार्जशीट में 12-14 देश के 294 विदेशी तबलीगी जमाती आरोपी शामिल हैं।

आईएएनएस से बुधवार सुबह दिल्ली पुलिस क्राइम ब्रांच के ही एक अधिकारी ने इसकी पुष्टि की।

इसी अधिकारी के मुताबिक, बुधवार को 15 नई चार्जशीट दाखिल हो रही हैं इन सभी में सभी आरोपी विदेशी मूल के हैं। यह विदेशी नागरिक 12-14 अलग अलग देशों के हैं। जिन देशों के नागरिकों को इन 15 चार्जशीट में क्राइम ब्रांच ने आरोपी बनाया है, उनमें अधिकांश आरोपी थाईलैंड, श्रीलंका, नेपाल, बंगलादेश, मलेशिया सहित बाकी तमाम अन्य अफ्रीकी देशों के हैं।

दिल्ली पुलिस अपराध शाखा सूत्रों के मुताबिक, इन सभी आरोपियों ने वीजा कानून का उल्लंघन किया था। इसलिए सरकार ने इन सभी आरोपियों के वीजा रद्द करके इन्हें ब्लैकलिस्ट भी कर दिया था। आरोपियों के खिलाफ महामारी अधिनियम तोड़ने सहित अन्य तमाम गंभीर धाराओं में मुकदमें दर्ज करके इन्हें मुलजिम बनाया गया है। आरोपियों पर चार्जशीट में आरोप लगाया गया है कि, इन्होंने देश में महामारी फैलाने जैसा कुकृत्य भी किया है। जिससे तमाम बेकसूर लोग प्रभावित हुए।

दिल्ली पुलिस अपराध शाखा के एक अधिकारी के मुताबिक, अगर हम इन आरोपियों पर आरोप अदालत में सिद्ध कर पाने में सफल रहे तो, इन सबको देश में महामारी फैलाने, धारा 144 तोड़ने के तहत कठोर सजा भी संभव है। तैयार की गयी चार्शशीट्स के मुताबिक, आरोपियों ने क्वारंटीन कानून का भी खुलकर उल्लंघन किया था।

उल्लेखनीय है कि दिल्ली पुलिस क्राइम ब्रांच ने 31 मई 2020 को इस मामले में एफआईआर दर्ज की थी। उस वक्त मुख्य रुप से एफआईआर में मरकज तबलीगी जमात प्रमुख मौलाना मो. साद कांधलवी और उनके 5-6 सहयोगियों को आरोपी बनाया गया था। तमाम नोटिस दिये जाने के बाद भी मगर किसी भी आरोपी ने क्राइम ब्रांच के सामने पेश होना मुनासिब नहीं समझा। दोनो तरफ से कागजी सवाल जबाब होते रहे।

इस मामले में क्राइम ब्रांच ने मंगलवार को 20 चार्जशीट अदालत में दाखिल की थी। इन सभी चार्जशीट में 82 विदेशी नागरिकों को मुलजिम बनाया गया था।